Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2017 · 1 min read

मन की व्यथा!!!!

मन चाहा
तब रो लिए!
प्रेम मिला
उसी के हो लिए!!

अपने सम
माना अन्य!
इसी से हम
हो गए धन्य!!
पाप इसी से
सारे धो लिए!!

प्रेम दिया
धोखा खाकर!
दुख न माना
इससे मुरझाकर!!
विश्वबंधुत्व के इसी से
अपने खेत बो लिए !!

इतना नहीं
रहा जुगाड!
किसी को भी
सकें हम उजाड!!
विरले अपने जैसे
जग टोह लिए!!

कौन किसी की
समझे परेशानी!
सभी करते हैं
यहां पर मनमानी!!
हमने बस यहां
मित्र पाए और खो लिए!!

–आचार्य शीलक राम–

Language: Hindi
1291 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जमाना खराब हैं....
जमाना खराब हैं....
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
ईश्वर की महिमा...…..….. देवशयनी एकादशी
ईश्वर की महिमा...…..….. देवशयनी एकादशी
Neeraj Agarwal
आवारापन एक अमरबेल जैसा जब धीरे धीरे परिवार, समाज और देश रूपी
आवारापन एक अमरबेल जैसा जब धीरे धीरे परिवार, समाज और देश रूपी
Sanjay ' शून्य'
दिल्ली का मर्सिया
दिल्ली का मर्सिया
Shekhar Chandra Mitra
मैं फक्र से कहती हू
मैं फक्र से कहती हू
Naushaba Suriya
23/177.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/177.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
माता की महिमा
माता की महिमा
SHAILESH MOHAN
पत्नी के जन्मदिन पर....
पत्नी के जन्मदिन पर....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कुछ मन की कोई बात लिख दूँ...!
कुछ मन की कोई बात लिख दूँ...!
Aarti sirsat
हम तुम्हें लिखना
हम तुम्हें लिखना
Dr fauzia Naseem shad
सर्दी और चाय का रिश्ता है पुराना,
सर्दी और चाय का रिश्ता है पुराना,
Shutisha Rajput
अनमोल जीवन
अनमोल जीवन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
जाने वाले साल को सलाम ,
जाने वाले साल को सलाम ,
Dr. Man Mohan Krishna
*अमूल्य निधि का मूल्य (हास्य व्यंग्य)*
*अमूल्य निधि का मूल्य (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
हिन्दी दोहा शब्द- फूल
हिन्दी दोहा शब्द- फूल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कैसे कह दूं मुझे उनसे प्यार नही है
कैसे कह दूं मुझे उनसे प्यार नही है
Ram Krishan Rastogi
"समय से बड़ा जादूगर दूसरा कोई नहीं,
Tarun Singh Pawar
मिष्ठी के लिए सलाद
मिष्ठी के लिए सलाद
Manu Vashistha
नफरत थी तुम्हें हमसे
नफरत थी तुम्हें हमसे
Swami Ganganiya
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
कहा तुमने कभी देखो प्रेम  तुमसे ही है जाना
कहा तुमने कभी देखो प्रेम तुमसे ही है जाना
Ranjana Verma
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सोच बदलनी होगी
सोच बदलनी होगी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मासूमियत
मासूमियत
Surinder blackpen
रात
रात
sushil sarna
बस यूँ ही
बस यूँ ही
Neelam Sharma
पुस्तक
पुस्तक
जगदीश लववंशी
"तकरार"
Dr. Kishan tandon kranti
छुड़ा नहीं सकती मुझसे दामन कभी तू
छुड़ा नहीं सकती मुझसे दामन कभी तू
gurudeenverma198
चेहरे की तलाश
चेहरे की तलाश
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
Loading...