Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jul 2023 · 1 min read

मन की किताब

मन की किताब तेरे मेरे मन के प्यार की यादें हम रखते है
तेरी जिंदगी में मेरी मोहब्बत जो दिल में धड़कते रहते है

मोहब्बत की किताब जो एतबार तेरा हम रखते है
बस जज्बातों में ही मेरी प्रेमिका तेरा नाम रखते है

चाहत की वो की किताब जहाँ तेरे सपनों में खोये खोये रहते है
तेरे खत जो पन्ने एतबार की उम्मीद आज भी हम रखें है

मन की किताब बनी तेरी यादें जो दिल में तेरी रहती है
तेरे इश्क़ की राह मेरे दिल में जो बसी रहती है

नीरज संग शब्दों में मन की किताब के पन्ने प्यार में लिखते है
बस तेरी चाहत के ख्वाब मन में रखते है

मन की किताब भी आँखें तेरे प्यार की हम सोच रखते है
बस तेरी मोहब्बत की तस्वीर एहसासों में बसा रखी है

मन की किताब बस जो तेरे प्यार बातें लिखती है
तेरी आँखों के इशारे हम दिल से समझते है

जिंदगी में बस मन की किताब हम मन में सोचते है
अपना सोचकर तुमको संग बस जीवन कहते है

मन की किताब तेरे प्यार में आज भी लिखते है
तुमको अपने दिल में बसाकर जिंदगी की हकीकत कहते है

मन की किताब जो तेरे प्यार का सच दिल से कहते है
तेरे ख्याल और वादे मन में जो बसते है

मन की किताब में चाहत के शब्दों में आज भी तुम्हें कहते है
आज तेरी चाहत ही बसी दिल में और बस जिंदगी चलती रहती है।

नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र.

Language: Hindi
116 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जागो तो पाओ ; उमेश शुक्ल के हाइकु
जागो तो पाओ ; उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जो होता है सही  होता  है
जो होता है सही होता है
Anil Mishra Prahari
अपनी वाणी से :
अपनी वाणी से :
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2563.पूर्णिका
2563.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चिंतन और अनुप्रिया
चिंतन और अनुप्रिया
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
शरीफ यात्री
शरीफ यात्री
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दुखता बहुत है, जब कोई छोड़ के जाता है
दुखता बहुत है, जब कोई छोड़ के जाता है
Kumar lalit
दोहा त्रयी . . . .
दोहा त्रयी . . . .
sushil sarna
*सीधेपन से आजकल, दुनिया कहीं चलती नहीं (हिंदी गजल/गीतिका)*
*सीधेपन से आजकल, दुनिया कहीं चलती नहीं (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पर्व है ऐश्वर्य के प्रिय गान का।
पर्व है ऐश्वर्य के प्रिय गान का।
surenderpal vaidya
सुन लो बच्चों
सुन लो बच्चों
लक्ष्मी सिंह
आँख अब भरना नहीं है
आँख अब भरना नहीं है
Vinit kumar
रिश्तों को तू तोल मत,
रिश्तों को तू तोल मत,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Meri Jung Talwar se nahin hai
Meri Jung Talwar se nahin hai
Ankita Patel
दरवाज़ों पे खाली तख्तियां अच्छी नहीं लगती,
दरवाज़ों पे खाली तख्तियां अच्छी नहीं लगती,
पूर्वार्थ
মন এর প্রাসাদ এ কেবল একটাই সম্পদ ছিলো,
মন এর প্রাসাদ এ কেবল একটাই সম্পদ ছিলো,
Sukoon
समय आयेगा
समय आयेगा
नूरफातिमा खातून नूरी
दोस्ती पर वार्तालाप (मित्रता की परिभाषा)
दोस्ती पर वार्तालाप (मित्रता की परिभाषा)
Er.Navaneet R Shandily
खोखला वर्तमान
खोखला वर्तमान
Mahender Singh
-आजकल मोहब्बत में गिरावट क्यों है ?-
-आजकल मोहब्बत में गिरावट क्यों है ?-
bharat gehlot
बेपर्दा लोगों में भी पर्दा होता है बिल्कुल वैसे ही, जैसे हया
बेपर्दा लोगों में भी पर्दा होता है बिल्कुल वैसे ही, जैसे हया
Sanjay ' शून्य'
जिंदगी को जीने का तरीका न आया।
जिंदगी को जीने का तरीका न आया।
Taj Mohammad
युद्ध के मायने
युद्ध के मायने
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
"प्रतिष्ठा"
Dr. Kishan tandon kranti
उसकी जरूरत तक मैं उसकी ज़रुरत बनी रहीं !
उसकी जरूरत तक मैं उसकी ज़रुरत बनी रहीं !
Dr Manju Saini
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
Neelam Sharma
शहीदों लाल सलाम
शहीदों लाल सलाम
नेताम आर सी
💐प्रेम कौतुक-264💐
💐प्रेम कौतुक-264💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*******खुशी*********
*******खुशी*********
Dr. Vaishali Verma
Loading...