Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 27, 2022 · 1 min read

मन की उलझने

जब पढ़ने बैठता हूँ गणित
तब अंग्रेजी पढ़ने का मन करता है,
और जब अंग्रेजी पढ़ने लगता हूँ
तब गणित मन में चलने लगता है,
जब फिर से गणित बनाने लगता हूँ
तब कविता पाठ करने का मन करता है,
और जब कविता पाठ करने लगता हूँ
तब कविता रचने का मन करता है,
जब कविता लिखने बैठता हूँ
तब शब्दकोश रट जाने का मन करता है,
जब शब्दकोश पढ़ने लगता हूँ
तब यूँ ही पढ़ते-पढ़ते नींद आ जाती है,
और फिर दो-तीन घंटे सोया ही रह जाता हूँ,
यही रही है मेरी आदत
कैसे मैं इससे छुटकारा पाऊँ?

इन्हीं उलझनों के कारण
बीतता जा रहा समय मेरा,
ना मैं कुछ कर पा रहा
ना कुछ करने के काबिल बचा,
पर मानूंगा ना हार इतनी आसानी से,
कोशिशें लगातार करूंगा
अपनी उलझनों पर विजय पाने के लिए |

2 Likes · 108 Views
You may also like:
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
एहसासों से हो जिंदा
Buddha Prakash
झूला सजा दो
Buddha Prakash
यादों की गठरी
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग४]
Anamika Singh
चुप रहने में।
Taj Mohammad
दिल-ए-रहबरी
Mahesh Tiwari 'Ayen'
पागल बना दे
Harshvardhan "आवारा"
हर घड़ी यूँ सांस कम हो रही हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️डार्क इमेज...!✍️
'अशांत' शेखर
बचपन
Anamika Singh
✍️ना तू..! ना मैं...!✍️
'अशांत' शेखर
🌺🍀दोषा: च एतेषां सत्ता🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वो हमें दिन ब दिन आजमाते रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
चाहत की बाते
Dr. Sunita Singh
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
ओ भोले भण्डारी
Anamika Singh
एक नज़म [ बेकायदा ]
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
गंगा माँ
Anamika Singh
एक उलझा सवाल।
Taj Mohammad
तेरा जां निसार।
Taj Mohammad
मेरी वाणी
Seema Tuhaina
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
जा बैठे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
नशामुक्ति (भोजपुरी लोकगीत)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
अपना होता है तो
Dr fauzia Naseem shad
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
एक जंग, गम के संग....
Aditya Prakash
ज्ञान की बात
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...