Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2024 · 1 min read

मन का समंदर

मन का समंदर
समंदर की लहरें कब हवा हो जाती है
पता ही नहीं चलता कब धुआं हो जाती है
ओस की बुंदों की तरह कुछ पल को दिखतीं हैं यहाँ मगर कब फुर हो जाती है वो पलक आंखों से, पता नहीं चल पातीं है….
लहरों की उमंग का तकाजा तो तरंगों में सजाती है
जो परवान चढ़ के गुमसुम खुद में उफान लाती हैं
बस है समाया सब्र का उसुल जो दबा कर रखतीं है जो इम्तिहान है हदी की तो अब तक शांत हैं मेरा समंदर
वरना कब का कहर ढा देतीं…
बस हूँ मैं मौजां हस्ती!मेरे समंदर में, तू परेशान न कर
शातं लहरों से किनारा छुती हुं आज मैं धीरे से चलकर
जो आया है शौक से मिलने वो समाया मुझमें देखकर
वरना जो जला हैं मुझमें मुझे देख कर उसे भी अंतर से किनारा किया मेरे समंदर ने फैंक कर….
मैं शांत समंदर सा हूं हस्ती सब समाया है मुझमें
अर्पण तर्पण समर्पण, वो भाव समा सब मुझमें
मैं देखकर चलता हूँ यहाँ,हालात की हवा है किधर
जो बहकाती है मुझे युं छु छु कर आज भी, की कहीं मैं भी तुफां सा बवंडर ला दु मुझमें…..
मगर मैं समंदर हूंँ हस्ती; नदी नहीं जो युं मचल जाऊं
थोडे़ से आवेश मैं आ आज, मैं नदी सा होश खो जाऊँ
मैं तुम सा नहीं जो सब को अपनें मैं में बहाके ले जाऊं
मैं समंदर हूं अपनें मौज का हस्ती आज!जो देखकर सब में मैं समां जाऊं…
स्वरचित कविता
सुरेखा राठी

33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
योगा डे सेलिब्रेशन
योगा डे सेलिब्रेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कुछ राज, राज रहने दो राज़दार।
कुछ राज, राज रहने दो राज़दार।
डॉ० रोहित कौशिक
अधूरा इश्क़
अधूरा इश्क़
Dipak Kumar "Girja"
जो लोग बिछड़ कर भी नहीं बिछड़ते,
जो लोग बिछड़ कर भी नहीं बिछड़ते,
शोभा कुमारी
ज़रूरी ना समझा
ज़रूरी ना समझा
Madhuyanka Raj
हमने क्या खोया
हमने क्या खोया
Dr fauzia Naseem shad
5. इंद्रधनुष
5. इंद्रधनुष
Rajeev Dutta
*पिता*...
*पिता*...
Harminder Kaur
अयोध्या धाम
अयोध्या धाम
Mukesh Kumar Sonkar
*जन्मदिवस पर केक ( बाल कविता )*
*जन्मदिवस पर केक ( बाल कविता )*
Ravi Prakash
वक्त हो बुरा तो …
वक्त हो बुरा तो …
sushil sarna
School ke bacho ko dusre shehar Matt bhejo
School ke bacho ko dusre shehar Matt bhejo
Tushar Jagawat
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी
सत्य कुमार प्रेमी
23/79.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/79.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
किसी भी देश या राज्य के मुख्या को सदैव जनहितकारी और जनकल्याण
किसी भी देश या राज्य के मुख्या को सदैव जनहितकारी और जनकल्याण
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Rekha Drolia
हम उफ ना करेंगे।
हम उफ ना करेंगे।
Taj Mohammad
तुम ही तुम हो
तुम ही तुम हो
मानक लाल मनु
बारिश
बारिश
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मन
मन
Sûrëkhâ
जीवन के सफ़र में
जीवन के सफ़र में
Surinder blackpen
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
कृष्णकांत गुर्जर
वक़्त
वक़्त
विजय कुमार अग्रवाल
Readers Books Club:
Readers Books Club:
पूर्वार्थ
जिंदगी से कुछ यू निराश हो जाते हैं
जिंदगी से कुछ यू निराश हो जाते हैं
Ranjeet kumar patre
अलसाई सी तुम
अलसाई सी तुम
Awadhesh Singh
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
Rj Anand Prajapati
मैं आग नही फिर भी चिंगारी का आगाज हूं,
मैं आग नही फिर भी चिंगारी का आगाज हूं,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
ज़िंदगी को जीना है तो याद रख,
ज़िंदगी को जीना है तो याद रख,
Vandna Thakur
*अजीब आदमी*
*अजीब आदमी*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...