Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Aug 2023 · 1 min read

मन अपने बसाओ तो

** गीतिका **
~~
किसी को आज मन अपने बसाओ तो।
सुकोमल भावनाओं को जगाओ तो।

जरा देखो खिले हैं फूल अति सुन्दर
किसी की याद में कुछ गुनगुनाओ तो।

कहीं कोई किसी को प्यार कर बैठा।
कठिन है राह यह उसको बताओ तो।

बहुत है प्यास मन व्याकुल हुआ जाता।
मिलन की प्यास को आकर बुझाओ तो।

मिले सुनने को प्रियकर सूचना कोई।
कहीं टूटे सितारे को दिखाओ तो।

जरा हटकर करें बातें लगे प्रियकर।
कभी सुन्दर बहाने भी बनाओ तो।

बहुत ही स्नेहपूरित हैं सभी के मन।
पड़ा है छद्म का परदा हटाओ तो।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य

209 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
पहले प्रेम में चिट्ठी पत्री होती थी
पहले प्रेम में चिट्ठी पत्री होती थी
Shweta Soni
माँ
माँ
Harminder Kaur
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
प्रेमदास वसु सुरेखा
डार्क वेब और इसके संभावित खतरे
डार्क वेब और इसके संभावित खतरे
Shyam Sundar Subramanian
नेता पलटू राम
नेता पलटू राम
Jatashankar Prajapati
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
नज़्म - झरोखे से आवाज
नज़्म - झरोखे से आवाज
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
"सूत्र"
Dr. Kishan tandon kranti
नानी का गांव
नानी का गांव
साहित्य गौरव
देह अधूरी रूह बिन, औ सरिता बिन नीर ।
देह अधूरी रूह बिन, औ सरिता बिन नीर ।
Arvind trivedi
*तू ही  पूजा  तू ही खुदा*
*तू ही पूजा तू ही खुदा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
महीना ख़त्म यानी अब मुझे तनख़्वाह मिलनी है
महीना ख़त्म यानी अब मुझे तनख़्वाह मिलनी है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
Keep yourself secret
Keep yourself secret
Sakshi Tripathi
छत्तीसगढ़िया संस्कृति के चिन्हारी- हरेली तिहार
छत्तीसगढ़िया संस्कृति के चिन्हारी- हरेली तिहार
Mukesh Kumar Sonkar
सबूत- ए- इश्क़
सबूत- ए- इश्क़
राहुल रायकवार जज़्बाती
गोंडवाना गोटूल
गोंडवाना गोटूल
GOVIND UIKEY
*कवि बनूँ या रहूँ गवैया*
*कवि बनूँ या रहूँ गवैया*
Mukta Rashmi
ऐ दोस्त जो भी आता है मेरे करीब,मेरे नसीब में,पता नहीं क्यों,
ऐ दोस्त जो भी आता है मेरे करीब,मेरे नसीब में,पता नहीं क्यों,
Dr. Man Mohan Krishna
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हाँ, मेरा मकसद कुछ और है
हाँ, मेरा मकसद कुछ और है
gurudeenverma198
एक नम्बर सबके फोन में ऐसा होता है
एक नम्बर सबके फोन में ऐसा होता है
Rekha khichi
माँ शारदे-लीला
माँ शारदे-लीला
Kanchan Khanna
गुज़रा हुआ वक्त
गुज़रा हुआ वक्त
Surinder blackpen
#पैरोडी-
#पैरोडी-
*प्रणय प्रभात*
आज कल कुछ इस तरह से चल रहा है,
आज कल कुछ इस तरह से चल रहा है,
kumar Deepak "Mani"
स्वयं में एक संस्था थे श्री ओमकार शरण ओम
स्वयं में एक संस्था थे श्री ओमकार शरण ओम
Ravi Prakash
गाँव बदलकर शहर हो रहा
गाँव बदलकर शहर हो रहा
रवि शंकर साह
फिर किस मोड़ पे मिलेंगे बिछड़कर हम दोनों,
फिर किस मोड़ पे मिलेंगे बिछड़कर हम दोनों,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
स्मरण और विस्मरण से परे शाश्वतता का संग हो
स्मरण और विस्मरण से परे शाश्वतता का संग हो
Manisha Manjari
-- दिखावटी लोग --
-- दिखावटी लोग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
Loading...