Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Aug 2023 · 1 min read

मनोरम तेरा रूप एवं अन्य मुक्तक

मनोरम तेरा रूप – मुक्तक
1.

मनोरम तेरा रूप
स्वस्थ तेरे विचार हो जायेंगे
गर तू संकल्प मार्ग को
जीवन का ध्येय कर लेगा

२.

विलासिता की राह पर चलकर
कभी सपने साकार नहीं होते
भटक जाते हैं वो राही
जिनके मंजिल की दिशा में पाँव नहीं होते

3.

आधुनिकता के सांचे में जो ढल जाओगे,
फिर आदर्शों की गंगा कैसे बहाओगे

बना लोगे जो पाश्चात्य विचारों से नाता,
अपनी संस्कृति और संस्कारों से दूर हो जाओगे

Language: Hindi
1 Like · 172 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
सबके सामने रहती है,
सबके सामने रहती है,
लक्ष्मी सिंह
आखिर वो माँ थी
आखिर वो माँ थी
Dr. Kishan tandon kranti
मुझे इंतजार है , इंतजार खत्म होने का
मुझे इंतजार है , इंतजार खत्म होने का
Karuna Goswami
इश्क़ से अपने कुछ चुने लम्हें
इश्क़ से अपने कुछ चुने लम्हें
Sandeep Thakur
विचार ही हमारे वास्तविक सम्पत्ति
विचार ही हमारे वास्तविक सम्पत्ति
Ritu Asooja
■ आज का नमन्।।
■ आज का नमन्।।
*प्रणय प्रभात*
सावन का महीना
सावन का महीना
विजय कुमार अग्रवाल
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
दीवाली की रात आयी
दीवाली की रात आयी
Sarfaraz Ahmed Aasee
*आपको सब ज्ञान है यह, आपका अभिमान है 【हिंदी गजल/गीतिका】*
*आपको सब ज्ञान है यह, आपका अभिमान है 【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
- मोहब्बत महंगी और फरेब धोखे सस्ते हो गए -
- मोहब्बत महंगी और फरेब धोखे सस्ते हो गए -
bharat gehlot
देश के वासी हैं
देश के वासी हैं
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तितली रानी
तितली रानी
Vishnu Prasad 'panchotiya'
दुख निवारण ब्रह्म सरोवर और हम
दुख निवारण ब्रह्म सरोवर और हम
SATPAL CHAUHAN
*साथ निभाना साथिया*
*साथ निभाना साथिया*
Harminder Kaur
वक़्त को गुज़र
वक़्त को गुज़र
Dr fauzia Naseem shad
मुझे जब भी तुम प्यार से देखती हो
मुझे जब भी तुम प्यार से देखती हो
Johnny Ahmed 'क़ैस'
प्रदूषण
प्रदूषण
Pushpa Tiwari
शब्दों की अहमियत को कम मत आंकिये साहिब....
शब्दों की अहमियत को कम मत आंकिये साहिब....
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
सच की माया
सच की माया
Lovi Mishra
कहो तुम बात खुलकर के ,नहीं कुछ भी छुपाओ तुम !
कहो तुम बात खुलकर के ,नहीं कुछ भी छुपाओ तुम !
DrLakshman Jha Parimal
गीत
गीत
जगदीश शर्मा सहज
पिछले 4 5 सालों से कुछ चीजें बिना बताए आ रही है
पिछले 4 5 सालों से कुछ चीजें बिना बताए आ रही है
Paras Mishra
तुम तो मुठ्ठी भर हो, तुम्हारा क्या, हम 140 करोड़ भारतीयों का भाग्य उलझ जाएगा
तुम तो मुठ्ठी भर हो, तुम्हारा क्या, हम 140 करोड़ भारतीयों का भाग्य उलझ जाएगा
Anand Kumar
वह बचपन के दिन
वह बचपन के दिन
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
" सुन‌ सको तो सुनों "
Aarti sirsat
शिव
शिव
Dr. Vaishali Verma
मन में मदिरा पाप की,
मन में मदिरा पाप की,
sushil sarna
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
3527.*पूर्णिका*
3527.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...