Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2016 · 1 min read

मनुष्यता नहीँ गयी

सूर्य अस्त की दिशा अतीव भा रही परन्तु
ध्यान दो विवेक नष्ट, रुग्णता नहीं गयी।
दिव्य शक्तियाँ विलुप्त भोग ही प्रधान रंग
खोज रुद्ध किन्तु वो अनन्तता नहीं गयी।
अर्थ प्राप्ति के निमित्त ही जियो नहीँ कदापि
ब्रह्मज्ञान हेतु प्राणबद्धता नहीं गयी।
ये प्रभाव है कवित्व शक्ति और छन्दबद्ध
काव्य का कि आज भी मनुष्यता नहीँ गयी।।
रचनाकार
डॉ आशुतोष वाजपेयी
ज्योतिषाचार्य
लखनऊ

Language: Hindi
Tag: कविता
160 Views
You may also like:
पितृपक्ष_विशेष
संजीव शुक्ल 'सचिन'
तेरे होने में क्या??
Manoj Kumar
मैं मेहनत हूँ
Anamika Singh
हमदर्द हो जो सबका मददगार चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
✍️रूह के एहसास...
'अशांत' शेखर
सबके अपने अपने मोहन
Shivkumar Bilagrami
"शिक्षक तो बोलेगा"
पंकज कुमार कर्ण
# जज्बे सलाम ...
Chinta netam " मन "
आखिरी कोशिश
AMRESH KUMAR VERMA
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
चेहरे पर कई चेहरे ...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*** तेरी पनाह.....!!! ***
VEDANTA PATEL
मेरा ना कोई नसीब है।
Taj Mohammad
हाँ, यह विदाई बहुत अच्छी है
gurudeenverma198
“मेरी ख्वाहिशें”
DrLakshman Jha Parimal
गोलू भालू
Shyam Sundar Subramanian
तुम विद्रोह कब करोगी?
Shekhar Chandra Mitra
युग पुरुष महाराजा अग्रसेन (लेख)
Ravi Prakash
ज़रा सी बात पर ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
सोचना है तो मेरे यार इस क़दर सोचो
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
भारत लोकतंत्र एक पर्याय
Rj Anand Prajapati
शिक्षित बने ।
Buddha Prakash
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
■ आलेख / हमारी पहचान
*प्रणय प्रभात*
वर्तमान से वक्त बचा लो:चतुर्थ भाग
AJAY AMITABH SUMAN
हिन्दी के हित प्यार चाहिए
surenderpal vaidya
स्वाधीनता आंदोलन में, मातृशक्ति ने परचम लहराया था
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आओ पितरों का स्मरण करें
Kavita Chouhan
Loading...