Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Sep 2016 · 1 min read

मनहर घनाक्षरी छंद

हिंदी दिवस की हार्दिक बधाई आप सभी को एक कवित्त के साथ…….

“मनहर घनाक्षरी”

भावना श्रृंगार लिए, रस छंद भाव पिए, हिंदी छेड़े मीठी तान, गान मान गाइए
प्रकृति से प्यार करें, गाँव से दुलार करें, शहरी सिनेमा संग, देखिए दिखाइए
साहित्य पुकारे मान, मनहरे कवि गान, घनाक्षरी कवित्त की, महिमा सुनाइए
हिल-मिल गौतम जी, देश राग उत्तम जी, मौसी-माँ बहन बोली, मत विसराइए।।

देश-विदेश प्रदेश में, हिंदी शिव गणेश में, जायसी रसखान का, अमृत पी जाइए
कबीर सुर तुलसी का, पढ़ें प्यार हुलसी का, मीरा माँ की चाहना, राणा राग गाइए
वेद पुराण कहत, नीति कुरान चहत, महावीर गौतम से, सीख शुद्ध पाइए
माँ भारती की महिमा, काश्मीर की गरिमा, हिमालय का ललाट, तिलक लगाइए।।

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

Language: Hindi
2788 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आँखों की कुछ तो नमी से डरते हैं
आँखों की कुछ तो नमी से डरते हैं
अंसार एटवी
सड़क जो हाइवे बन गया
सड़क जो हाइवे बन गया
आर एस आघात
मजदूर।
मजदूर।
Anil Mishra Prahari
💐 Prodigy Love-33💐
💐 Prodigy Love-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Tum to kahte the sath nibhaoge , tufano me bhi
Tum to kahte the sath nibhaoge , tufano me bhi
Sakshi Tripathi
अवधी लोकगीत
अवधी लोकगीत
प्रीतम श्रावस्तवी
☝विशेष दिन : अनूठा_उपाय....
☝विशेष दिन : अनूठा_उपाय....
*Author प्रणय प्रभात*
मझधार
मझधार
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
प्यार का रिश्ता
प्यार का रिश्ता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दावत चिंतन ( हास्य-व्यंग्य )
दावत चिंतन ( हास्य-व्यंग्य )
Ravi Prakash
कुछ गङबङ है!!
कुछ गङबङ है!!
Dr. Nisha Mathur
वाह रे पशु प्रेम ! ( हास्य व्यंग कविता)
वाह रे पशु प्रेम ! ( हास्य व्यंग कविता)
ओनिका सेतिया 'अनु '
..........लहजा........
..........लहजा........
Naushaba Suriya
बेटियाँ
बेटियाँ
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
किसी से दोस्ती ठोक–बजा कर किया करो, नहीं तो, यह बालू की भीत साबित
किसी से दोस्ती ठोक–बजा कर किया करो, नहीं तो, यह बालू की भीत साबित
Dr MusafiR BaithA
समस्या है यह आएगी_
समस्या है यह आएगी_
Rajesh vyas
मुनाफे में भी घाटा क्यों करें हम।
मुनाफे में भी घाटा क्यों करें हम।
सत्य कुमार प्रेमी
संगीत में मरते हुए को भी जीवित करने की क्षमता होती है।
संगीत में मरते हुए को भी जीवित करने की क्षमता होती है।
Rj Anand Prajapati
मन में किसी को उतारने से पहले अच्छी तरह
मन में किसी को उतारने से पहले अच्छी तरह
ruby kumari
एक नई उम्मीद
एक नई उम्मीद
Srishty Bansal
दिनकर की दीप्ति
दिनकर की दीप्ति
AJAY AMITABH SUMAN
दवा के ठाँव में
दवा के ठाँव में
Dr. Sunita Singh
मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उन्हें नमन।
मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उन्हें नमन।
Paras Nath Jha
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
मेरी दुनिया उजाड़ कर मुझसे वो दूर जाने लगा
मेरी दुनिया उजाड़ कर मुझसे वो दूर जाने लगा
कृष्णकांत गुर्जर
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
कछु मतिहीन भए करतारी,
कछु मतिहीन भए करतारी,
Arvind trivedi
सुविचार..
सुविचार..
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*यदि चित्त शिवजी में एकाग्र नहीं है तो कर्म करने से भी क्या
*यदि चित्त शिवजी में एकाग्र नहीं है तो कर्म करने से भी क्या
Shashi kala vyas
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
Anil chobisa
Loading...