Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2016 · 1 min read

मनहरण घनाक्षरी

पिचकारी धरी हाथ ग्वाले भी है संग साथ राधा की वो पूछे बात द्वार कोई आया है।
राधा करे अन-मन चलो चले मधुबन खेलेंगे न हम होली श्याम ने सताया है।
फिरो न यूँ मारी-मारी वहां भी तो हैं बिहारी पत्ते-पत्ते कण-कण उसकी ही माया है।
राधा खड़ी कर जोरी करना न बरजोरी नेह रंग डाल श्याम गरवा लगाया है।

Language: Hindi
1 Like · 674 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
कितना भी दे  ज़िन्दगी, मन से रहें फ़कीर
कितना भी दे ज़िन्दगी, मन से रहें फ़कीर
Dr Archana Gupta
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
संगीत
संगीत
Vedha Singh
मसला ये नहीं की उसने आज हमसे हिज्र माँगा,
मसला ये नहीं की उसने आज हमसे हिज्र माँगा,
Vishal babu (vishu)
मुलाक़ातें ज़रूरी हैं
मुलाक़ातें ज़रूरी हैं
Shivkumar Bilagrami
कृष्ण भक्ति
कृष्ण भक्ति
लक्ष्मी सिंह
Transparency is required to establish a permanent relationsh
Transparency is required to establish a permanent relationsh
DrLakshman Jha Parimal
फितरत
फितरत
Srishty Bansal
*
*"हरियाली तीज"*
Shashi kala vyas
एक कवि की कविता ही पूजा, यहाँ अपने देव को पाया
एक कवि की कविता ही पूजा, यहाँ अपने देव को पाया
Dr.Pratibha Prakash
संघर्ष से‌ लड़ती
संघर्ष से‌ लड़ती
Arti Bhadauria
जिनसे ये जीवन मिला, कहे उन्हीं को भार।
जिनसे ये जीवन मिला, कहे उन्हीं को भार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
दानी
दानी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अपनी हिंदी
अपनी हिंदी
Dr.Priya Soni Khare
जिन्दगी कभी नाराज होती है,
जिन्दगी कभी नाराज होती है,
Ragini Kumari
ସେହି କୁକୁର
ସେହି କୁକୁର
Otteri Selvakumar
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
Dont judge by
Dont judge by
Vandana maurya
Just try
Just try
पूर्वार्थ
दृढ़ आत्मबल की दरकार
दृढ़ आत्मबल की दरकार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
****प्रेम सागर****
****प्रेम सागर****
Kavita Chouhan
💐प्रेम कौतुक-309💐
💐प्रेम कौतुक-309💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जिंदगी
जिंदगी
Sangeeta Beniwal
अच्छी लगती धर्मगंदी/धर्मगंधी पंक्ति : ’
अच्छी लगती धर्मगंदी/धर्मगंधी पंक्ति : ’
Dr MusafiR BaithA
शक्ति की देवी दुर्गे माँ
शक्ति की देवी दुर्गे माँ
Satish Srijan
इश्क वो गुनाह है
इश्क वो गुनाह है
Surinder blackpen
ऐसा कभी नही होगा
ऐसा कभी नही होगा
gurudeenverma198
*यारा तुझमें रब दिखता है *
*यारा तुझमें रब दिखता है *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
????????
????????
शेखर सिंह
Loading...