Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jun 2018 · 1 min read

मनमानियाँ इश्क की

उफ्फ ये मनमानियाँ इश्क की…
तुझसे ही मिली रूमानियाँ इश्क की….
तेरी खुमारी के साए में जीती हूँ…
उफ्फ ये बेकरारियाँ इश्क की….
महफिलों में भी आलम तन्हाईंयों का…
ऐसी होती हैं दुश्वारियाँ इश्क की….
दिल के हर पन्ने पर लिखे नाम इश्क का…
उफ्फ ये कलम कारियाँ इश्क की….
रोम रोम में इस कदर जब रमा हो तू
क्यूँ ना करूँ गुलामियाँ इश्क की…
उफ्फ मदहोश ये बिमारियाँ इश्क की।
तू मेरा मैं तेरी..औ ये कहानियाँ इश्क की।……

Language: Hindi
469 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इन्सान पता नही क्यूँ स्वयं को दूसरो के समक्ष सही साबित करने
इन्सान पता नही क्यूँ स्वयं को दूसरो के समक्ष सही साबित करने
Ashwini sharma
जर जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
जर जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
दादाजी ने कहा था
दादाजी ने कहा था
Shashi Mahajan
"सन्त रविदास जयन्ती" 24/02/2024 पर विशेष ...
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मैंने किस्सा बदल दिया...!!
मैंने किस्सा बदल दिया...!!
Ravi Betulwala
यूं तेरी आदत सी हो गई है अब मुझे,
यूं तेरी आदत सी हो गई है अब मुझे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मेरे नयनों में जल है।
मेरे नयनों में जल है।
Kumar Kalhans
*जीवन में तुकबंदी का महत्व (हास्य व्यंग्य)*
*जीवन में तुकबंदी का महत्व (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
सराब -ए -आप में खो गया हूं ,
सराब -ए -आप में खो गया हूं ,
Shyam Sundar Subramanian
"चंदा मामा, चंदा मामा"
राकेश चौरसिया
"विचार-धारा
*प्रणय प्रभात*
जिस भी समाज में भीष्म को निशस्त्र करने के लिए शकुनियों का प्
जिस भी समाज में भीष्म को निशस्त्र करने के लिए शकुनियों का प्
Sanjay ' शून्य'
ग़लतफ़हमी में क्यों पड़ जाते हो...
ग़लतफ़हमी में क्यों पड़ जाते हो...
Ajit Kumar "Karn"
- मेरी मोहब्बत तुम्हारा इंतिहान हो गई -
- मेरी मोहब्बत तुम्हारा इंतिहान हो गई -
bharat gehlot
कहते हैं तुम्हें ही जीने का सलीका नहीं है,
कहते हैं तुम्हें ही जीने का सलीका नहीं है,
manjula chauhan
रातों की सियाही से रंगीन नहीं कर
रातों की सियाही से रंगीन नहीं कर
Shweta Soni
गाय
गाय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
राष्ट्रीय पर्व गणतंत्र दिवस...
राष्ट्रीय पर्व गणतंत्र दिवस...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बेवजह किसी पे मरता कौन है
बेवजह किसी पे मरता कौन है
Kumar lalit
नव भारत निर्माण करो
नव भारत निर्माण करो
Anamika Tiwari 'annpurna '
सच सोच ऊंची उड़ान की हो
सच सोच ऊंची उड़ान की हो
Neeraj Agarwal
मासूमियत
मासूमियत
Punam Pande
चांद बिना
चांद बिना
Surinder blackpen
2985.*पूर्णिका*
2985.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आखिरी मोहब्बत
आखिरी मोहब्बत
Shivkumar barman
रेशम की डोर राखी....
रेशम की डोर राखी....
राहुल रायकवार जज़्बाती
प्रतीक्षा में गुजरते प्रत्येक क्षण में मर जाते हैं ना जाने क
प्रतीक्षा में गुजरते प्रत्येक क्षण में मर जाते हैं ना जाने क
पूर्वार्थ
ग़ज़ल --
ग़ज़ल --
Seema Garg
कुछ काम करो , कुछ काम करो
कुछ काम करो , कुछ काम करो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"बेहतर आइडिया"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...