Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2023 · 1 min read

“मनभावन मधुमास”

आया मधुमास उमंग लेकर,
रसभीनी शहद आया मकरंद लेकर,
बेल मंजरी खिल खिल जाए,
हवा सुगंधित फूलो को महकाए।

सुमन हर्षित हुए चमन में,
पल्लवित होकर लदी लताएं।
देखो मधुमास आया
हर्ष और उमंग लेकर।

मन मयूर नाचे मन-मन मे,
पीत सरसों खिले खेतन में।
कलियों में मुस्कान छाया,
देखो कैसा अल्हड मास आया।

खिले फूल,लदे मंजरी ,अमराई,
जैसे गुंजित हो शहनाई।
हर्षित युगल मन हुआ प्रेम बसंती,
आया प्रीतम का संदेश बसंती।

सजी बसंती मचल रही,
ओढ़े चुनर पीत बसंती।
भौरे ऐसे घुमड़ रहे है पीकर मकरंद,
टेसू पलास ,चम्पा बेला के संग।

बगिया सजी रंगो के संग,
प्रीत रंगे देखो सात रंगों के संग।
रंग और गुलाल उड़े प्रीतम के संग,
भीगे मेरी चुनरी भीगे मेरा अंग।

बढ़ता मन अनुराग, मधुमास में जीकर,
मन से हटा विषाद ,छटा नैनों से पीकर।
मन रहा चहुँ ओर उल्लास,
देखो आया मनभावन मधुमास।।

लेखिका:- एकता श्रीवास्तव।
प्रयागराज✍️

Language: Hindi
1 Like · 316 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ekta chitrangini
View all
You may also like:
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
संघर्ष....... जीवन
संघर्ष....... जीवन
Neeraj Agarwal
चंद हाईकु
चंद हाईकु
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आस
आस
Shyam Sundar Subramanian
तर्क-ए-उल्फ़त
तर्क-ए-उल्फ़त
Neelam Sharma
अगर आप में व्यर्थ का अहंकार है परन्तु इंसानियत नहीं है; तो म
अगर आप में व्यर्थ का अहंकार है परन्तु इंसानियत नहीं है; तो म
विमला महरिया मौज
बचपन से जिनकी आवाज सुनकर बड़े हुए
बचपन से जिनकी आवाज सुनकर बड़े हुए
ओनिका सेतिया 'अनु '
महानिशां कि ममतामयी माँ
महानिशां कि ममतामयी माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सर सरिता सागर
सर सरिता सागर
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कोई मंत्री बन गया , डिब्बा कोई गोल ( कुंडलिया )
कोई मंत्री बन गया , डिब्बा कोई गोल ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
शुभ रात्रि मित्रों.. ग़ज़ल के तीन शेर
शुभ रात्रि मित्रों.. ग़ज़ल के तीन शेर
आर.एस. 'प्रीतम'
खट्टी-मीठी यादों सहित,विदा हो रहा  तेईस
खट्टी-मीठी यादों सहित,विदा हो रहा तेईस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"स्टिंग ऑपरेशन"
Dr. Kishan tandon kranti
दिन गुज़रते रहे रात होती रही।
दिन गुज़रते रहे रात होती रही।
डॉक्टर रागिनी
इश्क की कीमत
इश्क की कीमत
Mangilal 713
आग और पानी 🙏
आग और पानी 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तारिणी वर्णिक छंद का विधान
तारिणी वर्णिक छंद का विधान
Subhash Singhai
अंगारों को हवा देते हैं. . .
अंगारों को हवा देते हैं. . .
sushil sarna
वो तेरा है ना तेरा था (सत्य की खोज)
वो तेरा है ना तेरा था (सत्य की खोज)
VINOD CHAUHAN
एक परोपकारी साहूकार: ‘ संत तुकाराम ’
एक परोपकारी साहूकार: ‘ संत तुकाराम ’
कवि रमेशराज
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा यह नाम तुमने लिखा (दो गीत) राधिका उवाच एवं कृष्ण उवाच
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा यह नाम तुमने लिखा (दो गीत) राधिका उवाच एवं कृष्ण उवाच
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हरियाणा दिवस की बधाई
हरियाणा दिवस की बधाई
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
2555.पूर्णिका
2555.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नौका को सिन्धु में उतारो
नौका को सिन्धु में उतारो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
प्रतिस्पर्धाओं के इस युग में सुकून !!
प्रतिस्पर्धाओं के इस युग में सुकून !!
Rachana
बोझ लफ़्ज़ों के दिल पे होते हैं
बोझ लफ़्ज़ों के दिल पे होते हैं
Dr fauzia Naseem shad
बंटते हिन्दू बंटता देश
बंटते हिन्दू बंटता देश
विजय कुमार अग्रवाल
भ्रातत्व
भ्रातत्व
Dinesh Kumar Gangwar
প্রশ্ন - অর্ঘ্যদীপ চক্রবর্তী
প্রশ্ন - অর্ঘ্যদীপ চক্রবর্তী
Arghyadeep Chakraborty
Loading...