Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

*मधु मालती*

मधु मालती

हे!दमकना तुम जीवन में
निष्ठुर पंख मेरे सिमटे।
उड़ न जाऊँ याद से तेरे
बाँहों में तू फिर जी उठे।

जरा झरोखों से बूंदों को ताको
पर भींगे न निर्मल मन तुम्हारा।
काली लटें तुम तो समेटो
ये बादल तो मदहोश बेचारा।

झुको न ऐसे लजाकर
मधु मालती सी बनठन कर।
भौंरे जानते हैं राज तुम्हारा
ढल जाता यौवन जरा सम्हलकर।

फैली है खुशबू तुम्हारी भीनी
अब सब को बताओ न।
गिर जाओगे टूटकर
बारिश प्रीत की नहाओ न।

मन्द-मन्द मुस्कान से ये
अल्हड़ हया दिखलाती है।
तुम्हें क्या पता हे। इन्द्र
हर डाल पे जवानी आती है।

सुरेश अजगल्ले “इन्द्र”

Language: Hindi
62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*कुछ गुणा है कुछ घटाना, और थोड़ा जोड़ है (हिंदी गजल/ग
*कुछ गुणा है कुछ घटाना, और थोड़ा जोड़ है (हिंदी गजल/ग
Ravi Prakash
हद्द - ए - आसमाँ की न पूछा करों,
हद्द - ए - आसमाँ की न पूछा करों,
manjula chauhan
नहीं टूटे कभी जो मुश्किलों से
नहीं टूटे कभी जो मुश्किलों से
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नए मुहावरे का चाँद
नए मुहावरे का चाँद
Dr MusafiR BaithA
एक बेरोजगार शायर
एक बेरोजगार शायर
Shekhar Chandra Mitra
सब ठीक है
सब ठीक है
पूर्वार्थ
कोरोना - इफेक्ट
कोरोना - इफेक्ट
Kanchan Khanna
पहाड़ पर बरसात
पहाड़ पर बरसात
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मैं ना जाने क्या कर रहा...!
मैं ना जाने क्या कर रहा...!
भवेश
ଭୋକର ଭୂଗୋଳ
ଭୋକର ଭୂଗୋଳ
Bidyadhar Mantry
बढ़ी हैं दूरियां दिल की भले हम पास बैठे हैं।
बढ़ी हैं दूरियां दिल की भले हम पास बैठे हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
3165.*पूर्णिका*
3165.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरे सजदे
मेरे सजदे
Dr fauzia Naseem shad
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
Rj Anand Prajapati
8) “चन्द्रयान भारत की शान”
8) “चन्द्रयान भारत की शान”
Sapna Arora
न जाने कहा‌ँ दोस्तों की महफीले‌ं खो गई ।
न जाने कहा‌ँ दोस्तों की महफीले‌ं खो गई ।
Yogendra Chaturwedi
दुखांत जीवन की कहानी में सुखांत तलाशना बेमानी है
दुखांत जीवन की कहानी में सुखांत तलाशना बेमानी है
Guru Mishra
जरूरत से ज्यादा
जरूरत से ज्यादा
Ragini Kumari
मंजिल
मंजिल
डॉ. शिव लहरी
नारी
नारी
विजय कुमार अग्रवाल
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।
Manisha Manjari
तन्हाई बड़ी बातूनी होती है --
तन्हाई बड़ी बातूनी होती है --
Seema Garg
जिन्दगी की धूप में शीतल सी छाव है मेरे बाऊजी
जिन्दगी की धूप में शीतल सी छाव है मेरे बाऊजी
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
■ अभाव, तनाव, चुनाव और हम
■ अभाव, तनाव, चुनाव और हम
*Author प्रणय प्रभात*
जब दिल ही उससे जा लगा..!
जब दिल ही उससे जा लगा..!
SPK Sachin Lodhi
सबने सलाह दी यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सबने सलाह दी यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सत्य कुमार प्रेमी
सुबह और शाम मौसम के साथ हैं
सुबह और शाम मौसम के साथ हैं
Neeraj Agarwal
*वकीलों की वकीलगिरी*
*वकीलों की वकीलगिरी*
Dushyant Kumar
जीवन में सारा खेल, बस विचारों का है।
जीवन में सारा खेल, बस विचारों का है।
Shubham Pandey (S P)
"लोहे का पहाड़"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...