Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Feb 2017 · 1 min read

मधुमास में

इस बार

मधुमास में
फिर खेलेंगे
होली हम
तेरी यादो संग
मोतियों से भी
बेशकीमती
शबनमी
अश्रु जल में
घुले होंगे
अनेको अनूठे रंग
कुछ प्रेम के,
कुछ क्रोध के
नाराजगी संग,
कुछ अनबन के
हास परिहास
संग उपहास के
शायद धुंधला जाये
ह्रदय पर लगी
उस छाप को
जो आज तक दमकती है
सुनहरे रंग में
और महका जाती है
मेरे तन बदन को
अपने बासंती
मधुमास से !

!

!

—:: डी के निवातिया ::—

Language: Hindi
1 Like · 835 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आज की नारी
आज की नारी
Shriyansh Gupta
अफ़सोस न करो
अफ़सोस न करो
Dr fauzia Naseem shad
सफर 👣जिंदगी का
सफर 👣जिंदगी का
डॉ० रोहित कौशिक
दिल की हसरत नहीं कि अब वो मेरी हो जाए
दिल की हसरत नहीं कि अब वो मेरी हो जाए
शिव प्रताप लोधी
कोशिश मेरी बेकार नहीं जायेगी कभी
कोशिश मेरी बेकार नहीं जायेगी कभी
gurudeenverma198
*वानर-सेना (बाल कविता)*
*वानर-सेना (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कृषक की उपज
कृषक की उपज
Praveen Sain
संस्कारधर्मी न्याय तुला पर
संस्कारधर्मी न्याय तुला पर
Dr MusafiR BaithA
Lonely is just a word which can't make you so,
Lonely is just a word which can't make you so,
Sukoon
💐प्रेम कौतुक-427💐
💐प्रेम कौतुक-427💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हर कोई जिंदगी में अब्बल होने की होड़ में भाग रहा है
हर कोई जिंदगी में अब्बल होने की होड़ में भाग रहा है
कवि दीपक बवेजा
लटकते ताले
लटकते ताले
Kanchan Khanna
कहां जाऊं सत्य की खोज में।
कहां जाऊं सत्य की खोज में।
Taj Mohammad
सुभाष चन्द्र बोस
सुभाष चन्द्र बोस
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
बहुत जरूरी है एक शीतल छाया
बहुत जरूरी है एक शीतल छाया
Pratibha Pandey
मेरे ख्याल से जीवन से ऊब जाना भी अच्छी बात है,
मेरे ख्याल से जीवन से ऊब जाना भी अच्छी बात है,
पूर्वार्थ
रूप का उसके कोई न सानी, प्यारा-सा अलवेला चाँद।
रूप का उसके कोई न सानी, प्यारा-सा अलवेला चाँद।
डॉ.सीमा अग्रवाल
2776. *पूर्णिका*
2776. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चाँद
चाँद
TARAN VERMA
इन आँखों को हो गई,
इन आँखों को हो गई,
sushil sarna
कविता ही हो /
कविता ही हो /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अपने हाथ,
अपने हाथ,
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
अब मत करो ये Pyar और respect की बातें,
अब मत करो ये Pyar और respect की बातें,
Vishal babu (vishu)
चमचे और चिमटे जैसा स्कोप
चमचे और चिमटे जैसा स्कोप
*Author प्रणय प्रभात*
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
shabina. Naaz
आशिकी
आशिकी
साहिल
"बरसाने की होली"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
आत्मज्ञान
आत्मज्ञान
Shyam Sundar Subramanian
"बात सौ टके की"
Dr. Kishan tandon kranti
हिंदी - दिवस
हिंदी - दिवस
Ramswaroop Dinkar
Loading...