Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2024 · 2 min read

मदनोत्सव

बीते
कई दिनों से
विभिन्न राजनैतिक
चर्चाओं में पूरा
शहर व देश मसगूल था ,
बसन्त की आहट का
किसी को कदाचित
पता ही नहीं चला था I

अचानक
आज भोर में
कोयल की कूक
मेरे शयनकक्ष की
खिडकियों से
मनीप्लांट की लड़ियों को
चीरते हुए कानो में पड़ी,
तब लगा मधुमास की
लो आ गयी घड़ी I

विगत कई दिनों की
व्यस्तताओं के उपरांत
आज मैंने अपनी
गृहवाटिका की ओर
चाय रुख किया,
अपने प्यारे पौधों को
गौर से निहारना
शुरू किया I

जहाँ प्रकृति के
शाश्वत परिवर्तन के
अविरल दौर दिख रहे थे ,
जीर्ण पीले पत्ते
सुकोमल हरे पत्तों को
क्रमशः एक लय में
अपना स्थान स्वेच्छा से
देते दिख रहे थे I

सुकुमार नवजात पत्तियां ,
प्रस्फुटित नई शाखाये व डलियाँ ,
उस पर मंडराती विलुप्त
होती तितलियाँ ,
पीले सरसों के फूलों से
पटे सुदूर सिवानों पर
इतराती टिड्डियाँ
मन को आह्लादित
कर रहे थे,
और बसंतोत्सव की
आहट को सम्पूर्णता से
दर्शा रहे थे I

उषाकाल का यह
पूरा परिदृश्य
अनजाने में ही
प्रकृति की समुचित
स्थानापन्नता के सार्वभौमिक
सिद्धांत का सन्देश
देता प्रतीत हो रहा था,
जीवन की विराटता के साथ
नश्वरता की व्यथा
पूरी व्यापकता से कह रहा था I

निर्विवाद ,
अतीत के संपन्न
विचारों के नीव पर
धूमिल तथ्यहीन और
औचित्यविहीन
हो चुके विचारों को त्याग कर
नूतन समकालीन उपयुक्त
विचारों एवं भावों के
आलिंगन की बात कह रहा था ,
साथ ही प्रौढ़ता से
वृद्धता की ओर
थक कर चल रहे कदमो से
इस अविरल सत्ता को
नयी ऊर्जावान पीढी को
स्वेच्छा से
पूरे विस्वास के साथ
सौपने की बात
दोहरा रहा था I

पूरी प्रकृति
एक ओर जहाँ अपनी
अवसादमुक्त हरित चादर में
खुशियों की सौगात लिए
मदनोत्सव हेतु होलिकादहन को
इच्छुक लग रही थी ,
वही दूसरी ओर
नए परिवेश के अनुरूप
नयी सोचों व नए मापदण्डो को
अपनाने का मूक सन्देश
दे रही थी I

निर्मेष

50 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
View all
You may also like:
सत्यम शिवम सुंदरम
सत्यम शिवम सुंदरम
Harminder Kaur
"आधुनिक नारी"
Ekta chitrangini
अब न वो आहें बची हैं ।
अब न वो आहें बची हैं ।
Arvind trivedi
वाणी और पाणी का उपयोग संभल कर करना चाहिए...
वाणी और पाणी का उपयोग संभल कर करना चाहिए...
Radhakishan R. Mundhra
बंधनों के बेड़ियों में ना जकड़ो अपने बुजुर्गों को ,
बंधनों के बेड़ियों में ना जकड़ो अपने बुजुर्गों को ,
DrLakshman Jha Parimal
दर्द और जिंदगी
दर्द और जिंदगी
Rakesh Rastogi
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
Neeraj Agarwal
कितने दिन कितनी राते गुजर जाती है..
कितने दिन कितनी राते गुजर जाती है..
shabina. Naaz
बदलते दौर में......
बदलते दौर में......
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
आग़ाज़
आग़ाज़
Shyam Sundar Subramanian
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्रेम की राह।
प्रेम की राह।
लक्ष्मी सिंह
"कहाँ छुपोगे?"
Dr. Kishan tandon kranti
एक चाय तो पी जाओ
एक चाय तो पी जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गाँधी जयंती
गाँधी जयंती
Surya Barman
उत्साह का नव प्रवाह
उत्साह का नव प्रवाह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
किस्मत का लिखा होता है किसी से इत्तेफाकन मिलना या किसी से अच
किस्मत का लिखा होता है किसी से इत्तेफाकन मिलना या किसी से अच
पूर्वार्थ
అదే శ్రీ రామ ధ్యానము...
అదే శ్రీ రామ ధ్యానము...
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
*पानी सबको चाहिए, सबको जल की आस (कुंडलिया)*
*पानी सबको चाहिए, सबको जल की आस (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मानव  इनको हम कहें,
मानव इनको हम कहें,
sushil sarna
* बेटियां *
* बेटियां *
surenderpal vaidya
बड़ा मुंहफट सा है किरदार हमारा
बड़ा मुंहफट सा है किरदार हमारा
ruby kumari
उससे मिलने को कहा देकर के वास्ता
उससे मिलने को कहा देकर के वास्ता
कवि दीपक बवेजा
Beyond The Flaws
Beyond The Flaws
Vedha Singh
संवरना हमें भी आता है मगर,
संवरना हमें भी आता है मगर,
ओसमणी साहू 'ओश'
तू एक फूल-सा
तू एक फूल-सा
Sunanda Chaudhary
गंणतंत्रदिवस
गंणतंत्रदिवस
Bodhisatva kastooriya
जन्मदिन मुबारक तुम्हें लाड़ली
जन्मदिन मुबारक तुम्हें लाड़ली
gurudeenverma198
*
*"आज फिर जरूरत है तेरी"*
Shashi kala vyas
🙅आदिपुरुष🙅
🙅आदिपुरुष🙅
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...