Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 1 min read

मतदान

लो चल रहा है देश में नगर निकाय के चुनाव है।
न पार्टियों की कमी यहां न नेता का अभाव है।।

धरती है राम कृष्ण की शिव बुद्ध का प्रभाव है।
तुलसी कबीर सूर से परिचित यहां हर गांव है।।

मगर यहां जनमानस में मर्यादा नहीं बची है।
राजनीति के पाखंडों में पूरी पूरी रची बसी है।।

कैसी वैचारिक बारिश है,जो पिता पुत्र में भेद कर रही।
इसका क्या उद्देश्य भला है, जन-मत में है छेद कर रही।।

शस्त्र रुपया लेकर के तुम, सामाजिक रिश्ते काट रहे हो।
श्वान समझ रक्खे हो सबको, क्यों हड्डी बोटी बांट रहे हो।।

माना कुछ लोभी कामी वा भ्रष्टाचारी जय जयकार करेंगे।
ये चलते फिरते मुर्दों का झुंड है, तेरा सब बंटाधार करेंगे।।

शर्म बनाता जीवन सीढ़ी, कुछ शर्म करो सत्कर्म करो।
हर मन को मन से जोड़ो तुम, दान पुण्य और धर्म करो।।

अगर वीर हो जाओ एकदीन, तुम वसुधा पर भोग करोगे।
पर श्वान अगर समझोगे सबको, तो कुत्ते वाली मौत मरोगे।।

Language: Hindi
1 Like · 164 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जलती बाती प्रेम की,
जलती बाती प्रेम की,
sushil sarna
*आए सदियों बाद हैं, रामलला निज धाम (कुंडलिया)*
*आए सदियों बाद हैं, रामलला निज धाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
#गीत
#गीत
*प्रणय प्रभात*
काम-क्रोध-मद-मोह को, कब त्यागे इंसान
काम-क्रोध-मद-मोह को, कब त्यागे इंसान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
संवेदना
संवेदना
Neeraj Agarwal
"समय क़िस्मत कभी भगवान को तुम दोष मत देना
आर.एस. 'प्रीतम'
आयी ऋतु बसंत की
आयी ऋतु बसंत की
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
दो धारी तलवार
दो धारी तलवार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
" महखना "
Pushpraj Anant
स्तुति - दीपक नीलपदम्
स्तुति - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अजनबी जैसा हमसे
अजनबी जैसा हमसे
Dr fauzia Naseem shad
23/49.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/49.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वेलेंटाइन डे आशिकों का नवरात्र है उनको सारे डे रोज, प्रपोज,च
वेलेंटाइन डे आशिकों का नवरात्र है उनको सारे डे रोज, प्रपोज,च
Rj Anand Prajapati
~~तीन~~
~~तीन~~
Dr. Vaishali Verma
तेरी इस वेबफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
तेरी इस वेबफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
Phool gufran
रात भर नींद भी नहीं आई
रात भर नींद भी नहीं आई
Shweta Soni
सफल व्यक्ति
सफल व्यक्ति
Paras Nath Jha
अगर मुझे तड़पाना,
अगर मुझे तड़पाना,
Dr. Man Mohan Krishna
क्या रखा है???
क्या रखा है???
Sûrëkhâ
प्रेम
प्रेम
Pushpa Tiwari
ओ मेरे गणपति महेश
ओ मेरे गणपति महेश
Swami Ganganiya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
कुछ लोग तुम्हारे हैं यहाँ और कुछ लोग हमारे हैं /लवकुश यादव
कुछ लोग तुम्हारे हैं यहाँ और कुछ लोग हमारे हैं /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
अक्षर ज्ञानी ही, कट्टर बनता है।
अक्षर ज्ञानी ही, कट्टर बनता है।
नेताम आर सी
महंगाई के इस दौर में भी
महंगाई के इस दौर में भी
Kailash singh
रमेशराज की गीतिका छंद में ग़ज़लें
रमेशराज की गीतिका छंद में ग़ज़लें
कवि रमेशराज
आत्मविश्वास
आत्मविश्वास
Shyam Sundar Subramanian
"शब्दों की सार्थकता"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी गुड़िया
मेरी गुड़िया
Kanchan Khanna
Loading...