Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2017 · 1 min read

@@@ मतदाता तेरा भ्रम @@@

दुनिया वालो को दारू पिला के
एक दिन को मोटर में घुमा के
मटन चिकेन का स्वाद चखा के
फिर गंदगी का उनको कीड़ा बना के….

मतदान के दिन दूल्हा बना के
घर के पास का कूड़ा उठवा के
बुजुर्गो के हाथ पैर दबा के
सफ़ेद कपड़ों को साफ़ करा के……

सडको को चिकना बना के
खम्बो पर स्ट्रीट लाइट लगवा के
नालिओं की खूब सफाई करा के
गरीबो का खूब मजाक बना के……

गायब हो जायेंगे यह नेता गिरी करने वाले
कमांडो के बीच चले जायेंगे नेता गिरी करने वाले
तुम क्या चीज हो कहाँ से आये हो,क्या वजूद है
तेरा ओ मतदाता,

तुझ जैसे तो सदीओ से रोंदते आये हैं
हम तो दल बदलू हैं, जहाँ कम पड़ेंगे
वहीँ जाकर अपनी सरकार बनायेंगे

वाह रे नेता गिरी……….तेरा भी जवाब नहीं
जब तक नहीं बनता……तब तक भिखारी लगता है
जब बन जाता है……….भगवान् से बड़ा तून लगता है

न रहेगी यह काया, न रहेगी यह माया
काम करो तो इंसान बनो, हैवान बनने में क्या रखा है
गर इंसानियत को पहचान लिया तो भगवान् मेहर करता है
नहीं तो ऐसी जगह मौत देता है, जहाँ पानी भी कोसो दूर रहता है….

जय हिन्द
अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
518 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
*हमेशा साथ में आशीष, सौ लाती बुआऍं हैं (हिंदी गजल)*
*हमेशा साथ में आशीष, सौ लाती बुआऍं हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
तू क्यों रोता है
तू क्यों रोता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
लोग आपके प्रसंसक है ये आपकी योग्यता है
लोग आपके प्रसंसक है ये आपकी योग्यता है
Ranjeet kumar patre
रमेशराज की पिता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की पिता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
वक्त से पहले..
वक्त से पहले..
Harminder Kaur
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ख्वाहिशों की ज़िंदगी है।
ख्वाहिशों की ज़िंदगी है।
Taj Mohammad
सोचता हूँ रोज लिखूँ कुछ नया,
सोचता हूँ रोज लिखूँ कुछ नया,
Dr. Man Mohan Krishna
*इन तीन पर कायम रहो*
*इन तीन पर कायम रहो*
Dushyant Kumar
लक्ष्मी
लक्ष्मी
Bodhisatva kastooriya
वो कालेज वाले दिन
वो कालेज वाले दिन
Akash Yadav
ग़म-ए-जानां से ग़म-ए-दौरां तक
ग़म-ए-जानां से ग़म-ए-दौरां तक
Shekhar Chandra Mitra
"चुलबुला रोमित"
Dr Meenu Poonia
रिश्ते-नाते गौण हैं, अर्थ खोय परिवार
रिश्ते-नाते गौण हैं, अर्थ खोय परिवार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Ishq - e - Ludo with barcelona Girl
Ishq - e - Ludo with barcelona Girl
Rj Anand Prajapati
मैं दौड़ता रहा तमाम उम्र
मैं दौड़ता रहा तमाम उम्र
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*यह  ज़िंदगी  नही सरल है*
*यह ज़िंदगी नही सरल है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / MUSAFIR BAITHA
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
देह से विलग भी
देह से विलग भी
Dr fauzia Naseem shad
2517.पूर्णिका
2517.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
श्राद्ध
श्राद्ध
Mukesh Kumar Sonkar
राखी
राखी
Shashi kala vyas
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
प्रजातन्त्र आडंबर से नहीं चलता है !
प्रजातन्त्र आडंबर से नहीं चलता है !
DrLakshman Jha Parimal
Asman se khab hmare the,
Asman se khab hmare the,
Sakshi Tripathi
रिश्ते फीके हो गए
रिश्ते फीके हो गए
पूर्वार्थ
जैसे आँखों को
जैसे आँखों को
Shweta Soni
अन्याय के आगे मत झुकना
अन्याय के आगे मत झुकना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ध्यान-उपवास-साधना, स्व अवलोकन कार्य।
ध्यान-उपवास-साधना, स्व अवलोकन कार्य।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...