Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2023 · 1 min read

*मजे आ रहे हैं गुड़िया को, दिनभर खाती-सोती है (बाल कविता/ हिंदी गजल/ गीतिका)*

मजे आ रहे हैं गुड़िया को, दिनभर खाती-सोती है (बाल कविता/ हिंदी गजल/ गीतिका)
_________________________
1
मजे आ रहे हैं गुड़िया को, दिन भर खाती-सोती है
भूख-जरा सी लगी, उठा मुॅंह पंचम सुर में रोती है
2
कभी मुस्कुराहट बरसाती, हल्के से ऑंखें खोले
कभी बंद नयनों के भीतर, खुद ही खुद में खोती है
3
लड़के से बढ़कर है लड़की, दादा जी यह कहते हैं
जग में सबसे सुंदर मेरी, प्यारी-प्यारी पोती है
4
गोदी में जब इसे लिटा लो, छोटे कंबल से ढक कर
लगता है ज्यों किसी सीप में, एक सुरक्षित मोती है
5
घर मे प्यारी गुड़िया का होना भी बहुत जरूरी है
बेटा सूरज है तो बेटी, चंदा जैसी होती है
——————————–
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

519 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
सिद्धत थी कि ,
सिद्धत थी कि ,
ज्योति
* मायने शहर के *
* मायने शहर के *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग्लोबल वार्मिंग :चिंता का विषय
ग्लोबल वार्मिंग :चिंता का विषय
कवि अनिल कुमार पँचोली
भोलेनाथ
भोलेनाथ
Adha Deshwal
नहीं हूं...
नहीं हूं...
Srishty Bansal
इंसान भी बड़ी अजीब चीज है।।
इंसान भी बड़ी अजीब चीज है।।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
जीवन की सुरुआत और जीवन का अंत
जीवन की सुरुआत और जीवन का अंत
Rituraj shivem verma
प्रथम गुरु
प्रथम गुरु
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
नयनजल
नयनजल
surenderpal vaidya
*अदृश्य पंख बादल के* (10 of 25 )
*अदृश्य पंख बादल के* (10 of 25 )
Kshma Urmila
🙏 🌹गुरु चरणों की धूल🌹 🙏
🙏 🌹गुरु चरणों की धूल🌹 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
3362.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3362.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
कदम रखूं ज्यों शिखर पर
कदम रखूं ज्यों शिखर पर
Divya Mishra
मुस्कुराना सीख लिया !|
मुस्कुराना सीख लिया !|
पूर्वार्थ
तूं कैसे नज़र अंदाज़ कर देती हों दिखा कर जाना
तूं कैसे नज़र अंदाज़ कर देती हों दिखा कर जाना
Keshav kishor Kumar
मन का मैल नहीं धुले
मन का मैल नहीं धुले
Paras Nath Jha
*भरे मुख लोभ से जिनके, भला क्या सत्य बोलेंगे (मुक्तक)*
*भरे मुख लोभ से जिनके, भला क्या सत्य बोलेंगे (मुक्तक)*
Ravi Prakash
अधूरा एहसास(कविता)
अधूरा एहसास(कविता)
Monika Yadav (Rachina)
अभी दिल भरा नही
अभी दिल भरा नही
Ram Krishan Rastogi
"अहा जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
"बेटा-बेटी"
पंकज कुमार कर्ण
शुभ रात्रि मित्रों.. ग़ज़ल के तीन शेर
शुभ रात्रि मित्रों.. ग़ज़ल के तीन शेर
आर.एस. 'प्रीतम'
वादा  प्रेम   का  करके ,  निभाते  रहे   हम।
वादा प्रेम का करके , निभाते रहे हम।
Anil chobisa
जब तक हम जीवित रहते हैं तो हम सबसे डरते हैं
जब तक हम जीवित रहते हैं तो हम सबसे डरते हैं
Sonam Puneet Dubey
उम्मीद से अधिक मिलना भी आदमी में घमंड का भाव पैदा करता है !
उम्मीद से अधिक मिलना भी आदमी में घमंड का भाव पैदा करता है !
Babli Jha
फ़लसफ़ा है जिंदगी का मुस्कुराते जाना।
फ़लसफ़ा है जिंदगी का मुस्कुराते जाना।
Manisha Manjari
बस मुझे महसूस करे
बस मुझे महसूस करे
Pratibha Pandey
"सच और झूठ धुर विरोधी हो कर भी एक मामले में एक से हैं। दोनों
*प्रणय प्रभात*
मेरा न कृष्ण है न मेरा कोई राम है
मेरा न कृष्ण है न मेरा कोई राम है
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
जब काँटों में फूल उगा देखा
जब काँटों में फूल उगा देखा
VINOD CHAUHAN
Loading...