Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2017 · 1 min read

मजदूर हूँ

” मजदूर हूँ ”

मजदूर हूँ
मजबूर नहीं
मन से मजदूरी करता हूँ |
मैल नहीं
मन में कोई
माथे को सिंदूरी करता हूँ |
मजहब
मेरा मजदूरी है
मैं ना कोई चोरी करता हूँ |
मान मेरा
मेहनत से है
ना सीना – जोरी करता हूँ |
मंदिर और
मस्जिद बनवाकर
मैं जोड़ा – जोड़ी करता हूँ |
खाता हूँ
जिस थाली में
उसमें ना ‘मोरी’ करता हूँ |
मन मेरा है
“दीप” के जैसा
उसकी तिजोरी भरता हूँ ||

(डॉ०प्रदीप कुमार”दीप”)

Language: Hindi
316 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पढ़ें बेटियां-बढ़ें बेटियां
पढ़ें बेटियां-बढ़ें बेटियां
Shekhar Chandra Mitra
ख्याल नहीं थे उम्दा हमारे, इसलिए हालत ऐसी हुई
ख्याल नहीं थे उम्दा हमारे, इसलिए हालत ऐसी हुई
gurudeenverma198
बड़ा भाई बोल रहा हूं।
बड़ा भाई बोल रहा हूं।
SATPAL CHAUHAN
सौ बार मरता है
सौ बार मरता है
sushil sarna
जिन्दगी सदैव खुली किताब की तरह रखें, जिसमें भावनाएं संवेदनशी
जिन्दगी सदैव खुली किताब की तरह रखें, जिसमें भावनाएं संवेदनशी
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
मैं उसी पल मर जाऊंगा
मैं उसी पल मर जाऊंगा
श्याम सिंह बिष्ट
Tapish hai tujhe pane ki,
Tapish hai tujhe pane ki,
Sakshi Tripathi
#आज_का_गीत :-
#आज_का_गीत :-
*Author प्रणय प्रभात*
मेरे हौसलों को देखेंगे तो गैरत ही करेंगे लोग
मेरे हौसलों को देखेंगे तो गैरत ही करेंगे लोग
कवि दीपक बवेजा
लोग कहते हैं खास ,क्या बुढों में भी जवानी होता है।
लोग कहते हैं खास ,क्या बुढों में भी जवानी होता है।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
23/136.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/136.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लब्ज़ परखने वाले अक्सर,
लब्ज़ परखने वाले अक्सर,
ओसमणी साहू 'ओश'
ज़िन्दगी की तरकश में खुद मरता है आदमी…
ज़िन्दगी की तरकश में खुद मरता है आदमी…
Anand Kumar
दुनिया एक मेला है
दुनिया एक मेला है
VINOD CHAUHAN
गांव - माँ का मंदिर
गांव - माँ का मंदिर
नवीन जोशी 'नवल'
यूँही कुछ मसीहा लोग बेवजह उलझ जाते है
यूँही कुछ मसीहा लोग बेवजह उलझ जाते है
'अशांत' शेखर
सफलता
सफलता
Babli Jha
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
पैसा
पैसा
Kanchan Khanna
धिक्कार है धिक्कार है ...
धिक्कार है धिक्कार है ...
आर एस आघात
वास्तविक प्रकाशक
वास्तविक प्रकाशक
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अपनी ही हथेलियों से रोकी हैं चीख़ें मैंने
अपनी ही हथेलियों से रोकी हैं चीख़ें मैंने
पूर्वार्थ
अक्सर यूं कहते हैं लोग
अक्सर यूं कहते हैं लोग
Harminder Kaur
जय प्रकाश
जय प्रकाश
Jay Dewangan
सत्य की खोज, कविता
सत्य की खोज, कविता
Mohan Pandey
मेरे अंदर भी इक अमृता है
मेरे अंदर भी इक अमृता है
Shweta Soni
"मीलों में नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
...,,,,
...,,,,
शेखर सिंह
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
धर्म बनाम धर्मान्ध
धर्म बनाम धर्मान्ध
Ramswaroop Dinkar
Loading...