Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2020 · 1 min read

मजदूर।

बढ़ता जाए अपने पथ पर सतत कौन मजबूर
चला सैकड़ों मील गाँव के लिए विवश मजदूर।

सूखे – सूखे होंठ , पाँव के रीस रहे हैं छाले
आग उदर की जग-जग जाए,रूठे कौर,निवाले।

छोटे बच्चे पूछें, बापू कबतक होगा चलना
कबतक होगा कड़ी धूप में रफ्ता-रफ्ता जलना।

घर पर बैठी माँ की ममता हरदम राह निहारे
मंदिर,मस्जिद,गुरुद्वारे में आँचल विकल पसारे।

बहे स्वेद थे जिसके दर पर , वही राह में छोड़ा
दिए जिसे थे हमने सबकुछ,दे न सका वो थोड़ा।

जला – जलाके लहू कर्म से हमने नगर बनाये
विपदा की इस क्रूर घड़ी में पर वो काम न आये।

हो अँधियारा फिर भी अच्छा अपना है घर-द्वार
भली शहर की चकाचौंध से गाँवों की रफ्तार।

अनिल मिश्र प्रहरी।

Language: Hindi
1 Like · 340 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"सफलता"
Dr. Kishan tandon kranti
क्या दिखेगा,
क्या दिखेगा,
pravin sharma
शायरी संग्रह
शायरी संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
उल्फत अय्यार होता है कभी कबार
उल्फत अय्यार होता है कभी कबार
Vansh Agarwal
खुशी के माहौल में दिल उदास क्यों है,
खुशी के माहौल में दिल उदास क्यों है,
कवि दीपक बवेजा
नमो-नमो
नमो-नमो
Bodhisatva kastooriya
शब्द अभिव्यंजना
शब्द अभिव्यंजना
Neelam Sharma
सागर-मंथन की तरह, मथो स्वयं को रोज
सागर-मंथन की तरह, मथो स्वयं को रोज
डॉ.सीमा अग्रवाल
कुछ तो गम-ए-हिज्र था,कुछ तेरी बेवफाई भी।
कुछ तो गम-ए-हिज्र था,कुछ तेरी बेवफाई भी।
पूर्वार्थ
जीत का सेहरा
जीत का सेहरा
Dr fauzia Naseem shad
!! मेरी विवशता !!
!! मेरी विवशता !!
Akash Yadav
ये दुनिया है कि इससे, सत्य सुना जाता नहीं है
ये दुनिया है कि इससे, सत्य सुना जाता नहीं है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कविता
कविता
Rambali Mishra
कुछ चूहे थे मस्त बडे
कुछ चूहे थे मस्त बडे
Vindhya Prakash Mishra
*कुछ अनुभव गहरा गए, हुए साठ के पार (दोहा गीतिका)*
*कुछ अनुभव गहरा गए, हुए साठ के पार (दोहा गीतिका)*
Ravi Prakash
मेनका की मी टू
मेनका की मी टू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
घूर
घूर
Dr MusafiR BaithA
"शहीद साथी"
Lohit Tamta
कड़वा सच
कड़वा सच
Sanjeev Kumar mishra
हम कवियों की पूँजी
हम कवियों की पूँजी
आकाश महेशपुरी
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
सियासी बातें
सियासी बातें
Shriyansh Gupta
2271.
2271.
Dr.Khedu Bharti
आता जब समय चुनाव का
आता जब समय चुनाव का
Gouri tiwari
सितारों की तरह चमकना है, तो सितारों की तरह जलना होगा।
सितारों की तरह चमकना है, तो सितारों की तरह जलना होगा।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
कैसे भूल जाएं...
कैसे भूल जाएं...
Er. Sanjay Shrivastava
आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
नेताम आर सी
जीना है तो ज़माने के रंग में रंगना पड़ेगा,
जीना है तो ज़माने के रंग में रंगना पड़ेगा,
_सुलेखा.
ये उम्र के निशाँ नहीं दर्द की लकीरें हैं
ये उम्र के निशाँ नहीं दर्द की लकीरें हैं
Atul "Krishn"
भागो मत, दुनिया बदलो!
भागो मत, दुनिया बदलो!
Shekhar Chandra Mitra
Loading...