Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 1 min read

मगरमच्छ

मोटे-ताजे-रसीले व्यंजनों के शौकीन,
एक मगरमच्छ का दिल,
एक नेताजी पर,
मचल गया था l
नेताजी का स्वास्थ्य,
उसे रास आ़या,
इसलिये वह उन्हें,
पूरा का पूरा,
निगल गया था l
परन्तु, निगलते ही,
उसका शरीर भीतर से,
बुरी तरह उबल गया l
नेताजी की नेतागिरी,
पचा न पाया,
इसलिये उन्हें,
जीवित ही,
वापस बाहर उगल दिया l

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

– राजीव ‘प्रखर’
मुरादाबाद (उ. प्र.)
मो. 8941912642

Language: Hindi
1 Like · 350 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोस्तों के साथ धोखेबाजी करके
दोस्तों के साथ धोखेबाजी करके
ruby kumari
क्रूरता की हद पार
क्रूरता की हद पार
Mamta Rani
"कब तक हम मौन रहेंगे "
DrLakshman Jha Parimal
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
Naushaba Suriya
हमारी प्यारी मां
हमारी प्यारी मां
Shriyansh Gupta
‌!! फूलों सा कोमल बनकर !!
‌!! फूलों सा कोमल बनकर !!
Chunnu Lal Gupta
I want to collaborate with my  lost pen,
I want to collaborate with my lost pen,
Sakshi Tripathi
मजबूरन पैसे के खातिर तन यौवन बिकते देखा।
मजबूरन पैसे के खातिर तन यौवन बिकते देखा।
सत्य कुमार प्रेमी
2650.पूर्णिका
2650.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हक जता तो दू
हक जता तो दू
Swami Ganganiya
कोई ना होता है अपना माँ के सिवा
कोई ना होता है अपना माँ के सिवा
Basant Bhagawan Roy
चित्रकार
चित्रकार
Ritu Asooja
वक़्त सितम इस तरह, ढा रहा है आजकल,
वक़्त सितम इस तरह, ढा रहा है आजकल,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तुमने मुझे दिमाग़ से समझने की कोशिश की
तुमने मुझे दिमाग़ से समझने की कोशिश की
Rashmi Ranjan
“आँख के बदले आँख पूरी दुनिया को अँधा बना देगी”- गांधी जी
“आँख के बदले आँख पूरी दुनिया को अँधा बना देगी”- गांधी जी
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
"कभी"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम्हारे स्वप्न अपने नैन में हर पल संजोती हूँ
तुम्हारे स्वप्न अपने नैन में हर पल संजोती हूँ
Dr Archana Gupta
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
Rj Anand Prajapati
पापियों के हाथ
पापियों के हाथ
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
राहुल रायकवार जज़्बाती
मौसम का मिजाज़ अलबेला
मौसम का मिजाज़ अलबेला
Buddha Prakash
कोरोना और पानी
कोरोना और पानी
Suryakant Dwivedi
छायावाद के गीतिकाव्य (पुस्तक समीक्षा)
छायावाद के गीतिकाव्य (पुस्तक समीक्षा)
दुष्यन्त 'बाबा'
मारुति मं बालम जी मनैं
मारुति मं बालम जी मनैं
gurudeenverma198
अगर आप नकारात्मक हैं
अगर आप नकारात्मक हैं
*Author प्रणय प्रभात*
~ हमारे रक्षक~
~ हमारे रक्षक~
करन ''केसरा''
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा 🇮🇳
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कीमत
कीमत
Ashwani Kumar Jaiswal
प्रेम और सद्भाव के रंग सारी दुनिया पर डालिए
प्रेम और सद्भाव के रंग सारी दुनिया पर डालिए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बचपन-सा हो जाना / (नवगीत)
बचपन-सा हो जाना / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...