Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2024 · 1 min read

मकरंद

लिखते हैं सब ही यहां,
अपने-अपने छंद।
भंवरा ढूँढ़ें पुष्प पर,
भांति भांति मकरंद।

Language: Hindi
100 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
धार्मिक असहिष्णुता की बातें वह व्हाट्सप्प पर फैलाने लगा, जात
धार्मिक असहिष्णुता की बातें वह व्हाट्सप्प पर फैलाने लगा, जात
DrLakshman Jha Parimal
प्रारब्ध भोगना है,
प्रारब्ध भोगना है,
Sanjay ' शून्य'
*मरने का हर मन में डर है (हिंदी गजल)*
*मरने का हर मन में डर है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
ग़ज़ब है साहब!
ग़ज़ब है साहब!
*प्रणय प्रभात*
2484.पूर्णिका
2484.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
क्यों नारी लूट रही है
क्यों नारी लूट रही है
gurudeenverma198
जय अयोध्या धाम की
जय अयोध्या धाम की
Arvind trivedi
जीवन दया का
जीवन दया का
Dr fauzia Naseem shad
15--🌸जानेवाले 🌸
15--🌸जानेवाले 🌸
Mahima shukla
हम बेखबर थे मुखालिफ फोज से,
हम बेखबर थे मुखालिफ फोज से,
Umender kumar
कौन कहता है कि नदी सागर में
कौन कहता है कि नदी सागर में
Anil Mishra Prahari
*** लम्हा.....!!! ***
*** लम्हा.....!!! ***
VEDANTA PATEL
चिल्हर
चिल्हर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
करार दे
करार दे
SHAMA PARVEEN
🌳वृक्ष की संवेदना🌳
🌳वृक्ष की संवेदना🌳
Dr. Vaishali Verma
Speak with your work not with your words
Speak with your work not with your words
Nupur Pathak
जीवन - अस्तित्व
जीवन - अस्तित्व
Shyam Sundar Subramanian
घूँघट के पार
घूँघट के पार
लक्ष्मी सिंह
फिर क्यूँ मुझे?
फिर क्यूँ मुझे?
Pratibha Pandey
कर्मयोगी संत शिरोमणि गाडगे
कर्मयोगी संत शिरोमणि गाडगे
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सुलगते एहसास
सुलगते एहसास
Surinder blackpen
*
*"बसंत पंचमी"*
Shashi kala vyas
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका  आकार बदल  जाता ह
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका आकार बदल जाता ह
Jitendra kumar
5 हाइकु
5 हाइकु
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
श्री गणेश वंदना:
श्री गणेश वंदना:
जगदीश शर्मा सहज
बाट जोहती पुत्र का,
बाट जोहती पुत्र का,
sushil sarna
तेरी वापसी के सवाल पर, ख़ामोशी भी खामोश हो जाती है।
तेरी वापसी के सवाल पर, ख़ामोशी भी खामोश हो जाती है।
Manisha Manjari
जागी जवानी
जागी जवानी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
* जगेगा नहीं *
* जगेगा नहीं *
surenderpal vaidya
पेड़ और नदी की गश्त
पेड़ और नदी की गश्त
Anil Kumar Mishra
Loading...