Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2024 · 1 min read

मंदिर नहीं, अस्पताल चाहिए

लगता है देश की जनता का
इतना बुरा भी हाल नहीं…
(१)
उसे चाहिए मंदिर या मस्जिद
स्कूल और अस्पताल नहीं…
(२)
उसे करना भजन या कीर्तन
बहस और सवाल नहीं…
(३)
उसे देखना फिल्म या सीरियल
आंदोलन और हड़ताल नहीं…
(४)
उसे होना गुलाम आ चमचा
ज़हीन और खुशहाल नहीं…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#मंदिर_नहीं_अस्पताल_चाहिए
#व्यवस्था_परिवर्तन #प्रतिक्रांति
#बहुजन #शिक्षा #स्वास्थ्य #हक
#इलाज #चिकित्सा #रोजगार
#सुरक्षा #राजनीति #सियासत

Language: Hindi
79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"मतदान"
Dr. Kishan tandon kranti
‘‘शिक्षा में क्रान्ति’’
‘‘शिक्षा में क्रान्ति’’
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
पीड़ादायक होता है
पीड़ादायक होता है
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
तो मेरा नाम नही//
तो मेरा नाम नही//
गुप्तरत्न
एक विचार पर हमेशा गौर कीजियेगा
एक विचार पर हमेशा गौर कीजियेगा
शेखर सिंह
रहती है किसकी सदा, मरती मानव-देह (कुंडलिया)
रहती है किसकी सदा, मरती मानव-देह (कुंडलिया)
Ravi Prakash
नाकाम मुहब्बत
नाकाम मुहब्बत
Shekhar Chandra Mitra
प्रेम पीड़ा
प्रेम पीड़ा
Shivkumar barman
रंगों में भी
रंगों में भी
हिमांशु Kulshrestha
*पिता*...
*पिता*...
Harminder Kaur
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रकृति कि  प्रक्रिया
प्रकृति कि प्रक्रिया
Rituraj shivem verma
चंद फूलों की खुशबू से कुछ नहीं होता
चंद फूलों की खुशबू से कुछ नहीं होता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रंगीला बचपन
रंगीला बचपन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रमेशराज की ‘ गोदान ‘ के पात्रों विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की ‘ गोदान ‘ के पात्रों विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
मंत्र की ताकत
मंत्र की ताकत
Rakesh Bahanwal
लिखा भाग्य में रहा है होकर,
लिखा भाग्य में रहा है होकर,
पूर्वार्थ
खुदा कि दोस्ती
खुदा कि दोस्ती
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
3021.*पूर्णिका*
3021.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आगाज़-ए-नववर्ष
आगाज़-ए-नववर्ष
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
मुश्किल है बहुत
मुश्किल है बहुत
Dr fauzia Naseem shad
बिना वजह जब हो ख़ुशी, दुवा करे प्रिय नेक।
बिना वजह जब हो ख़ुशी, दुवा करे प्रिय नेक।
आर.एस. 'प्रीतम'
प्यारा सुंदर वह जमाना
प्यारा सुंदर वह जमाना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
**** फागुन के दिन आ गईल ****
**** फागुन के दिन आ गईल ****
Chunnu Lal Gupta
परिभाषा संसार की,
परिभाषा संसार की,
sushil sarna
दिन ढले तो ढले
दिन ढले तो ढले
Dr.Pratibha Prakash
कंठ तक जल में गड़ा, पर मुस्कुराता है कमल ।
कंठ तक जल में गड़ा, पर मुस्कुराता है कमल ।
Satyaveer vaishnav
औरों की बात मानना अपनी तौहीन लगे, तो सबसे पहले अपनी बात औरों
औरों की बात मानना अपनी तौहीन लगे, तो सबसे पहले अपनी बात औरों
*Author प्रणय प्रभात*
भीड़ ने भीड़ से पूछा कि यह भीड़ क्यों लगी है? तो भीड़ ने भीड
भीड़ ने भीड़ से पूछा कि यह भीड़ क्यों लगी है? तो भीड़ ने भीड
जय लगन कुमार हैप्पी
जन जन में खींचतान
जन जन में खींचतान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...