Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Oct 2022 · 1 min read

मंदिर का पत्थर

काश! मैं भी मंदिर का,
वह पत्थर होता…
जिसे हर रोज पानी और
दूध से नहलाया जाता है।
मुझे भी सभी छू पाते…
मुझे भी सभी देख पाते…
कैसे निर्जीव होने के बाद भी!
उसकी दिन-रात सेवा की जाती है…
तीन समय का भोग लगाया जाता है…
कभी महंगे-महंगे फलों का…
तो कभी स्वादिष्ट भोजन का…
और मैं एक सजीव प्राणी होने के बाद भी
उनकी नजर में आज भी इंसान नहीं हूं
ना मैं उनके साथ बैठ कर पानी पी सकता हूं
ना मैं है उनके साथ बैठ कर खाना खा सकता हूं
आखिर उस पत्थर को मैंने ही बनाया…
और आज मैं ही उनके लिए अछूत हो गया…
मेरे द्वारा बनाई मूर्तियां शुद्ध हैं…
मेरे द्वारा बनाए धार्मिक स्थल पवित्र हैं…
कभी-कभी समझ नहीं आता,
जब मैं अपवित्र हूं तो मेरे द्वारा बनाई गई
मूर्ति और मंदिर कैसे पवित्र हो जाएंगी ?

– दीपक कोहली

1 Like · 241 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"मुसव्विर ने सभी रंगों को
*Author प्रणय प्रभात*
एक अजीब सी आग लगी है जिंदगी में,
एक अजीब सी आग लगी है जिंदगी में,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
लालच
लालच
Vandna thakur
प्रजातन्त्र आडंबर से नहीं चलता है !
प्रजातन्त्र आडंबर से नहीं चलता है !
DrLakshman Jha Parimal
Ek din ap ke pas har ek
Ek din ap ke pas har ek
Vandana maurya
रिश्तों का गणित
रिश्तों का गणित
Madhavi Srivastava
दुकान में रहकर सीखा
दुकान में रहकर सीखा
Ms.Ankit Halke jha
*अंजनी के लाल*
*अंजनी के लाल*
Shashi kala vyas
💐अज्ञात के प्रति-132💐
💐अज्ञात के प्रति-132💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
संत नरसी (नरसिंह) मेहता
संत नरसी (नरसिंह) मेहता
Pravesh Shinde
इश्क दर्द से हो गई है, वफ़ा की कोशिश जारी है,
इश्क दर्द से हो गई है, वफ़ा की कोशिश जारी है,
Pramila sultan
????????
????????
शेखर सिंह
कि दे दो हमें मोदी जी
कि दे दो हमें मोदी जी
Jatashankar Prajapati
लोकतंत्र तभी तक जिंदा है जब तक आम जनता की आवाज़ जिंदा है जिस
लोकतंत्र तभी तक जिंदा है जब तक आम जनता की आवाज़ जिंदा है जिस
Rj Anand Prajapati
कितने हीं ज़ख्म हमें छिपाने होते हैं,
कितने हीं ज़ख्म हमें छिपाने होते हैं,
Shweta Soni
जिन्दगी है की अब सम्हाली ही नहीं जाती है ।
जिन्दगी है की अब सम्हाली ही नहीं जाती है ।
Buddha Prakash
कातिल
कातिल
Dr. Kishan tandon kranti
💐💐दोहा निवेदन💐💐
💐💐दोहा निवेदन💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
सफर सफर की बात है ।
सफर सफर की बात है ।
Yogendra Chaturwedi
भले ई फूल बा करिया
भले ई फूल बा करिया
आकाश महेशपुरी
जीवन मे
जीवन मे
Dr fauzia Naseem shad
सुना है सपनों की हाट लगी है , चलो कोई उम्मीद खरीदें,
सुना है सपनों की हाट लगी है , चलो कोई उम्मीद खरीदें,
Manju sagar
दर्द -ऐ सर हुआ सब कुछ भुलाकर आये है ।
दर्द -ऐ सर हुआ सब कुछ भुलाकर आये है ।
Phool gufran
समाज में शिक्षा का वही स्थान है जो शरीर में ऑक्सीजन का।
समाज में शिक्षा का वही स्थान है जो शरीर में ऑक्सीजन का।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
क्रिसमस दिन भावे 🥀🙏
क्रिसमस दिन भावे 🥀🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*बेचारे नेता*
*बेचारे नेता*
दुष्यन्त 'बाबा'
शहर - दीपक नीलपदम्
शहर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
श्री राम राज्याभिषेक
श्री राम राज्याभिषेक
नवीन जोशी 'नवल'
ਸ਼ਿਕਵੇ ਉਹ ਵੀ ਕਰਦਾ ਰਿਹਾ
ਸ਼ਿਕਵੇ ਉਹ ਵੀ ਕਰਦਾ ਰਿਹਾ
Surinder blackpen
बादल को रास्ता भी दिखाती हैं हवाएँ
बादल को रास्ता भी दिखाती हैं हवाएँ
Mahendra Narayan
Loading...