Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

मंजिल कठिन ॲंधेरा, दीपक जलाए रखना।

गज़ल

221////2122////221////2122
मंजिल कठिन ॲंधेरा, दीपक जलाए रखना।
मालिक हो प्यार अपना, मुझ पर बनाए रखना।1

गम घिरी घटाएं, संकट में सारी दुनियां,
हे दीनबंधु तुम ही, सबको बचाए रखना।2

दुश्वारियों में यारो, तुमको खुशी जो बख्शे़,
कोई भी ऐसा नगमा, तुम गुनगुनाए रखना।3

मझधार हो जो नैया, तुम हो मेरे खेवैया,
अपनी कृपा के हरदम, तुम मुझपे साए रखना।4

जग सारा जानता है, हम हैं तुम्हारे प्रेमी,
जब आऊं तुम से मिलने, पलकें बिछाए रखना।5

……..✍️ सत्य कुमार प्रेमी

1 Like · 182 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुझे देखने को करता है मन
तुझे देखने को करता है मन
Rituraj shivem verma
वो कभी दूर तो कभी पास थी
वो कभी दूर तो कभी पास थी
'अशांत' शेखर
कैसी हसरतें हैं तुम्हारी जरा देखो तो सही
कैसी हसरतें हैं तुम्हारी जरा देखो तो सही
VINOD CHAUHAN
ज़िंदगी ख़ुद ब ख़ुद
ज़िंदगी ख़ुद ब ख़ुद
Dr fauzia Naseem shad
माँ वाणी की वन्दना
माँ वाणी की वन्दना
Prakash Chandra
बेसबब हैं ऐशो इशरत के मकाँ
बेसबब हैं ऐशो इशरत के मकाँ
अरशद रसूल बदायूंनी
* मिट जाएंगे फासले *
* मिट जाएंगे फासले *
surenderpal vaidya
*ई-रिक्शा तो हो रही, नाहक ही बदनाम (छह दोहे)*
*ई-रिक्शा तो हो रही, नाहक ही बदनाम (छह दोहे)*
Ravi Prakash
"उम्मीदों की जुबानी"
Dr. Kishan tandon kranti
इतना आसान होता
इतना आसान होता
हिमांशु Kulshrestha
हार में जीत है, रार में प्रीत है।
हार में जीत है, रार में प्रीत है।
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
*_......यादे......_*
*_......यादे......_*
Naushaba Suriya
“ अपनों में सब मस्त हैं ”
“ अपनों में सब मस्त हैं ”
DrLakshman Jha Parimal
सुहागन का शव
सुहागन का शव
Anil "Aadarsh"
🥗फीका 💦 त्योहार 💥 (नाट्य रूपांतरण)
🥗फीका 💦 त्योहार 💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
मैं
मैं
Ajay Mishra
उजियारी ऋतुओं में भरती
उजियारी ऋतुओं में भरती
Rashmi Sanjay
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के 4 प्रणय गीत
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के 4 प्रणय गीत
कवि रमेशराज
बह रही थी जो हवा
बह रही थी जो हवा
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
■ विडम्बना
■ विडम्बना
*Author प्रणय प्रभात*
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
Neerja Sharma
जितने चंचल है कान्हा
जितने चंचल है कान्हा
Harminder Kaur
चन्दा लिए हुए नहीं,
चन्दा लिए हुए नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
क्या यही प्यार है
क्या यही प्यार है
gurudeenverma198
मन से भी तेज ( 3 of 25)
मन से भी तेज ( 3 of 25)
Kshma Urmila
कह कर गुजर गई उस रास्ते से,
कह कर गुजर गई उस रास्ते से,
Shakil Alam
"मेरा गलत फैसला"
Dr Meenu Poonia
दर्द ! अपमान !अस्वीकृति !
दर्द ! अपमान !अस्वीकृति !
Jay Dewangan
फ़ैसले का वक़्त
फ़ैसले का वक़्त
Shekhar Chandra Mitra
Loading...