Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Oct 2023 · 1 min read

** मंजिलों की तरफ **

मुक्तक
~~
मंजिलों की तरफ कुछ कदम जब चले।
भाव मन में बहुत प्रीतिकर थे पले।
था समय भी सहज खुशनुमा हो गया।
खुश्क थे मेघ जब हम गये थे छले।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
दूरियां कम न जब हो सकी देखिए।
जिन्दगी थी बहुत ही थकी देखिए।
हम तड़पते रहे आस की प्यास में।
क्यों न नजरें मिली आपकी देखिए।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, १४/१०/२०२३

1 Like · 1 Comment · 139 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
रामजी कर देना उपकार
रामजी कर देना उपकार
Seema gupta,Alwar
आलोचक-गुर्गा नेक्सस वंदना / मुसाफ़िर बैठा
आलोचक-गुर्गा नेक्सस वंदना / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
ड्यूटी
ड्यूटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आप जब तक दुःख के साथ भस्मीभूत नहीं हो जाते,तब तक आपके जीवन क
आप जब तक दुःख के साथ भस्मीभूत नहीं हो जाते,तब तक आपके जीवन क
Shweta Soni
नारी शक्ति
नारी शक्ति
भरत कुमार सोलंकी
हे कान्हा
हे कान्हा
Mukesh Kumar Sonkar
वो पहली पहली मेरी रात थी
वो पहली पहली मेरी रात थी
Ram Krishan Rastogi
नेताजी (कविता)
नेताजी (कविता)
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
सम्राट कृष्णदेव राय
सम्राट कृष्णदेव राय
Ajay Shekhavat
संसद के नए भवन से
संसद के नए भवन से
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
खोज सत्य की जारी है
खोज सत्य की जारी है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
जीवन की धूल ..
जीवन की धूल ..
Shubham Pandey (S P)
ना मुझे मुक़द्दर पर था भरोसा, ना ही तक़दीर पे विश्वास।
ना मुझे मुक़द्दर पर था भरोसा, ना ही तक़दीर पे विश्वास।
कविता झा ‘गीत’
*राम स्वयं राष्ट्र हैं*
*राम स्वयं राष्ट्र हैं*
Sanjay ' शून्य'
मोदी जी ; देश के प्रति समर्पित
मोदी जी ; देश के प्रति समर्पित
कवि अनिल कुमार पँचोली
कुछ बातें ज़रूरी हैं
कुछ बातें ज़रूरी हैं
Mamta Singh Devaa
इजोत
इजोत
श्रीहर्ष आचार्य
मतदान
मतदान
Anil chobisa
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
सौदागर हूँ
सौदागर हूँ
Satish Srijan
बड़ी ठोकरो के बाद संभले हैं साहिब
बड़ी ठोकरो के बाद संभले हैं साहिब
Jay Dewangan
मनुष्य की पहचान अच्छी मिठी-मिठी बातों से नहीं , अच्छे कर्म स
मनुष्य की पहचान अच्छी मिठी-मिठी बातों से नहीं , अच्छे कर्म स
Raju Gajbhiye
*सौलत पब्लिक लाइब्रेरी: एक अध्ययन*
*सौलत पब्लिक लाइब्रेरी: एक अध्ययन*
Ravi Prakash
रास्तो के पार जाना है
रास्तो के पार जाना है
Vaishaligoel
कौन सोचता....
कौन सोचता....
डॉ.सीमा अग्रवाल
"रख हिम्मत"
Dr. Kishan tandon kranti
3035.*पूर्णिका*
3035.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
किसी को घर, तो किसी को रंग महलों में बुलाती है,
किसी को घर, तो किसी को रंग महलों में बुलाती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...