Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Sep 2023 · 1 min read

भ्रूणहत्या

भ्रूणहत्या का न पाप हम करते हैं।
जीवन न इंसान हम छीना करते हैं।

जिंदगी में सभी का अधिकार होता हैं।
भ्रूणहत्या का सहयोग न हमको करना हैं।

हम सभी को भ्रूणहत्या का नाम नहीं लेना हैं।
आज अभी हम सभी को एक मुहिम करनी हैं।

भ्रूणहत्या में हम किसी मानव‌ हत्या करते हैं।
हमारे कर्म और किस्मत भी खराब होती हैं।

आओ मिलकर हम आवाज उठाते हैं।
भ्रूणहत्या को हम सभी बंद कराते हैं।

जीवन हम सब मिलकर आने वाले का बचाते हैं।
भ्रूणहत्या रोकने के लिए हम कविता लिखते हैं।

समाज के साथ विचार भ्रूणहत्या का हम रोकते हैं।
हां हम सभी एकजुट हो कर एक प्रयास करते हैं।

नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र

Language: Hindi
128 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ऑंखों से सीखा हमने
ऑंखों से सीखा हमने
Harminder Kaur
नववर्ष नवशुभकामनाएं
नववर्ष नवशुभकामनाएं
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
दोहे
दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दे दो, दे दो,हमको पुरानी पेंशन
दे दो, दे दो,हमको पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
प्यारा भारत देश हमारा
प्यारा भारत देश हमारा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
usne kuchh is tarah tarif ki meri.....ki mujhe uski tarif pa
usne kuchh is tarah tarif ki meri.....ki mujhe uski tarif pa
Rakesh Singh
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
Line.....!
Line.....!
Vicky Purohit
नास्तिक
नास्तिक
ओंकार मिश्र
*****खुद का परिचय *****
*****खुद का परिचय *****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अपनी नज़र में
अपनी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
नारी हूँ मैं
नारी हूँ मैं
Kavi praveen charan
सादगी तो हमारी जरा……देखिए
सादगी तो हमारी जरा……देखिए
shabina. Naaz
गुम लफ्ज़
गुम लफ्ज़
Akib Javed
पिता संघर्ष की मूरत
पिता संघर्ष की मूरत
Rajni kapoor
भटक रहे अज्ञान में,
भटक रहे अज्ञान में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिम्मेदारियाॅं
जिम्मेदारियाॅं
Paras Nath Jha
मन मेरा मेरे पास नहीं
मन मेरा मेरे पास नहीं
Pratibha Pandey
फितरत
फितरत
Ravi Prakash
प्यार
प्यार
Satish Srijan
अब की बार पत्थर का बनाना ए खुदा
अब की बार पत्थर का बनाना ए खुदा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
तमाशबीन जवानी
तमाशबीन जवानी
Shekhar Chandra Mitra
2737. *पूर्णिका*
2737. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
Sarfaraz Ahmed Aasee
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
Dushyant Kumar
फूल मुरझाए के बाद दोबारा नई खिलय,
फूल मुरझाए के बाद दोबारा नई खिलय,
Krishna Kumar ANANT
"मकड़जाल"
Dr. Kishan tandon kranti
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
काव्य का आस्वादन
काव्य का आस्वादन
कवि रमेशराज
Loading...