Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2023 · 1 min read

भ्रम

“कभी नहीं” दो शब्द नहीं हैं,
मन का भ्रम हैं, धोखा हैं।
और कहीं भी रखो स्वयं को,
पर धोखे में मत रखना।

नदी हमेशा नदी रही क्या ? झरना क्या था, नहीं पता ?
करते करते सीख गए क्या, करना क्या था, नहीं पता ?
साथ समय के, मन के अन्दर जो बदला है, देखा तुमने ?
जैसे सतरह, अठरह में थे, क्या वैसे हो, सोचा तुमने ?

सखे धारणाऐं भी अस्थिर,
‌‌मन का भ्रम हैं, धोखा हैं,
और कहीं भी रखो स्वयं को,
पर धोखे में मत रखना।

तुम्हें याद है बचपन में तुम तरुणाई को ललचाते थे ?
औरों से कद ऊँचा होते, देख देखकर इतराते थे।
अब तो बरसों बीत चुके हैं, पूरा सबल, सजीला तन है
अब क्यों मन भर गया उमर से, क्यों वापस जाने का मन है ?

इच्छाएँ, इच्छाधारी सी,
मन का भ्रम हैं, धोखा हैं,
और कहीं भी रखो स्वयं को,
पर धोखे में मत रखना।

सोचो सिंधु वासियों ने क्या पोथी युग को सोचा होगा ?
शती पूर्व से बाद शती के क्या- क्या होगा कैसा होगा ?
किसने सोचा होगा जग में प्रज्ञा की प्रभुता आयेगी ?
ये दुनिया “नियोग” से होकर “आई वी एफ” तक जायेगी ?

“स्थिरताएँ” अचल नहीं हैं,
मन का भ्रम हैं, धोखा हैं,
और कहीं भी रखो स्वयं को,
पर धोखे में मत रखना।
© शिवा अवस्थी

Language: Hindi
2 Likes · 118 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शैक्षिक विकास
शैक्षिक विकास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जुबान
जुबान
अखिलेश 'अखिल'
अमिट सत्य
अमिट सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
बीता हुआ कल वापस नहीं आता
बीता हुआ कल वापस नहीं आता
Anamika Tiwari 'annpurna '
कोशिश करना छोरो मत,
कोशिश करना छोरो मत,
Ranjeet kumar patre
भूख
भूख
Neeraj Agarwal
अपना घर
अपना घर
ओंकार मिश्र
अहं का अंकुर न फूटे,बनो चित् मय प्राण धन
अहं का अंकुर न फूटे,बनो चित् मय प्राण धन
Pt. Brajesh Kumar Nayak
```
```
goutam shaw
वो काजल से धार लगाती है अपने नैनों की कटारों को ,,
वो काजल से धार लगाती है अपने नैनों की कटारों को ,,
Vishal babu (vishu)
माँ तेरे आँचल तले...
माँ तेरे आँचल तले...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हिन्दी ग़ज़ल के कथ्य का सत्य +रमेशराज
हिन्दी ग़ज़ल के कथ्य का सत्य +रमेशराज
कवि रमेशराज
मेरे राम तेरे राम
मेरे राम तेरे राम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
स्त्री चेतन
स्त्री चेतन
Astuti Kumari
The World at a Crossroad: Navigating the Shadows of Violence and Contemplated World War
The World at a Crossroad: Navigating the Shadows of Violence and Contemplated World War
Shyam Sundar Subramanian
प्रेम.....
प्रेम.....
शेखर सिंह
​चाय के प्याले के साथ - तुम्हारे आने के इंतज़ार का होता है सिलसिला शुरू
​चाय के प्याले के साथ - तुम्हारे आने के इंतज़ार का होता है सिलसिला शुरू
Atul "Krishn"
मैं भी चुनाव लड़ूँगा (हास्य कविता)
मैं भी चुनाव लड़ूँगा (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
#शुभ_दिवस
#शुभ_दिवस
*प्रणय प्रभात*
********* कुछ पता नहीं *******
********* कुछ पता नहीं *******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ख्वाहिश
ख्वाहिश
Neelam Sharma
चुनना किसी एक को
चुनना किसी एक को
Mangilal 713
उठ जाग मेरे मानस
उठ जाग मेरे मानस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ఓ యువత మేలుకో..
ఓ యువత మేలుకో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
*राखी के धागे धवल, पावन परम पुनीत  (कुंडलिया)*
*राखी के धागे धवल, पावन परम पुनीत (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सपने..............
सपने..............
पूर्वार्थ
टैगोर
टैगोर
Aman Kumar Holy
"यही दुनिया है"
Dr. Kishan tandon kranti
23/22.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/22.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरी कहानी मेरी जुबानी
मेरी कहानी मेरी जुबानी
Vandna Thakur
Loading...