Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2016 · 1 min read

” भोर “

लावण्यमय है भोर धवल ,
सुरम्य श्वेत कली कमल ,
सुरभित सरोवर में तुहिन बिंदु,
अरुण आभा में खिल कमल|
…निधि…

Language: Hindi
Tag: कविता
340 Views
You may also like:
जिधर भी देखिए उधर ही सूल सूल हो गये
Anis Shah
राष्ट्रमंडल खेल- 2022
Deepak Kohli
*रंगमंच पर देर न लगती (गीत)*
Ravi Prakash
प़थम स्वतंत्रता संग्राम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वक़्त
Mahendra Rai
तेरा नाम मेरे नाम से जुड़ा
Seema 'Tu hai na'
पैर नहीं चलते थे भाई के, पर बल्ला बाकमाल चलता...
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
“फेसबूक के सेलेब्रिटी”
DrLakshman Jha Parimal
मजहबे इस्लाम नही सिखाता।
Taj Mohammad
एक किताब लिखती हूँ।
Anamika Singh
✍️यंत्रतंत्र के बदलाव✍️
'अशांत' शेखर
शेर
Rajiv Vishal
मेरा कृष्णा
Rakesh Bahanwal
"आज बहुत दिनों बाद"
Lohit Tamta
फरिश्ता से
Dr.sima
"शेर-ए-पंजाब 'महाराजा रणजीत सिंह'" 🇮🇳 (संक्षिप्त परिचय)
Pravesh Shinde
ये उम्मीद की रौशनी, बुझे दीपों को रौशन कर जातीं...
Manisha Manjari
मेरे सनम
DESH RAJ
शिक्षक दिवस का दीप
Buddha Prakash
कौन फिर अपनी मौत मरता है
Dr fauzia Naseem shad
आवाज़ उठा
Shekhar Chandra Mitra
बात चले
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चाय की चुस्की
श्री रमण 'श्रीपद्'
* जातक या संसार मा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वन्दना
पं.आशीष अविरल चतुर्वेदी
गुब्बारे वाला
लक्ष्मी सिंह
साजन जाए बसे परदेस
Shivkumar Bilagrami
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
तेरी परछाई
Swami Ganganiya
सुबह - सवेरा
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...