Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

भोर समय में

आज सभी को भोर समय में, हमें जगाना है।
सभी के मन में न उठने का, एक बहाना है।

फूल खिले हैं देख लीजिए, कलियां मुस्काई।
साथ सभी को आगे बढ़कर, अब मुस्काना है।

बंद पड़ी मन की आंखों को, धीरे से खोलें।
इनमें सुंदर सी छवियों को, सहज समाना है।

आस पास का कोना कोई, रहे नहीं सूना।
हर्ष भाव से साथ सभी के, पर्व मनाना है।

बासंती ऋतु की बेला है, मस्त सभी के मन।
फूलों को प्रकृति का आंगन, खूब सजाना है।

खुले हृदय से नित्य बहाएं, स्नेह भरी गंगा।
बेमतलब की हर शंका को, शीघ्र हटाना है।

एक स्थान पर बैठे बैठे, काम नहीं होता।
आगे बढ़कर हमें सभी से, हाथ मिलाना है।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य

3 Likes · 43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
सुख की तलाश आंख- मिचौली का खेल है जब तुम उसे खोजते हो ,तो वह
सुख की तलाश आंख- मिचौली का खेल है जब तुम उसे खोजते हो ,तो वह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
सब कुछ मिले संभव नहीं
सब कुछ मिले संभव नहीं
Dr. Rajeev Jain
हमने बस यही अनुभव से सीखा है
हमने बस यही अनुभव से सीखा है
कवि दीपक बवेजा
जिंदगी एक भंवर है
जिंदगी एक भंवर है
Harminder Kaur
दुख
दुख
Rekha Drolia
आज का नेता
आज का नेता
Shyam Sundar Subramanian
अगर मुझे तड़पाना,
अगर मुझे तड़पाना,
Dr. Man Mohan Krishna
" यकीन करना सीखो
पूर्वार्थ
प्रेम
प्रेम
Sanjay ' शून्य'
"सत्य अमर है"
Ekta chitrangini
बुरा नहीं देखेंगे
बुरा नहीं देखेंगे
Sonam Puneet Dubey
जबकि तड़पता हूँ मैं रातभर
जबकि तड़पता हूँ मैं रातभर
gurudeenverma198
ये ढलती शाम है जो, रुमानी और होगी।
ये ढलती शाम है जो, रुमानी और होगी।
सत्य कुमार प्रेमी
स्त्री श्रृंगार
स्त्री श्रृंगार
विजय कुमार अग्रवाल
धरा हमारी स्वच्छ हो, सबका हो उत्कर्ष।
धरा हमारी स्वच्छ हो, सबका हो उत्कर्ष।
surenderpal vaidya
दिखाना ज़रूरी नहीं
दिखाना ज़रूरी नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कुछ मुक्तक...
कुछ मुक्तक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"चाहत " ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*तितली (बाल कविता)*
*तितली (बाल कविता)*
Ravi Prakash
सुहागन की अभिलाषा🙏
सुहागन की अभिलाषा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
रूपगर्विता
रूपगर्विता
Dr. Kishan tandon kranti
विकास
विकास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
एक सही आदमी ही अपनी
एक सही आदमी ही अपनी
Ranjeet kumar patre
रिश्ता चाहे जो भी हो,
रिश्ता चाहे जो भी हो,
शेखर सिंह
" टैगोर "
सुनीलानंद महंत
बह्र 2212 122 मुसतफ़इलुन फ़ऊलुन काफ़िया -आ रदीफ़ -रहा है
बह्र 2212 122 मुसतफ़इलुन फ़ऊलुन काफ़िया -आ रदीफ़ -रहा है
Neelam Sharma
मिट्टी की खुश्बू
मिट्टी की खुश्बू
Dr fauzia Naseem shad
Gamo ko chhipaye baithe hai,
Gamo ko chhipaye baithe hai,
Sakshi Tripathi
*हिंदी*
*हिंदी*
Dr. Priya Gupta
भगवान बचाए ऐसे लोगों से। जो लूटते हैं रिश्तों के नाम पर।
भगवान बचाए ऐसे लोगों से। जो लूटते हैं रिश्तों के नाम पर।
*प्रणय प्रभात*
Loading...