Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jul 2023 · 1 min read

भैतिक सुखों का आनन्द लीजिए,

भैतिक सुखों का आनन्द लीजिए,
पर खुद की कमाई पर।
शहरी मकान को मुकाम दीजिये,
पर खुद की कमाई पर।

शैलानी बनकर पर्यटन कीजिये,
पर खुद की कमाई पर।
जब भी जो जी चाहे पीजिये,
पर खुद की कमाई पर।

कथन बड़ा कडुआ लेकिन
सच्चा है,
अच्छा खाना ब्रांडेड कपड़े
अच्छा है।
जो अपनी सम्मत्ति बेचे निरा
बच्चा है,
आज नहीं तो कल खायेगा
गच्चा है।

321 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
सपने सारे टूट चुके हैं ।
सपने सारे टूट चुके हैं ।
Arvind trivedi
कविता
कविता
Shiva Awasthi
नया युग
नया युग
Anil chobisa
मोदी ही क्यों??
मोदी ही क्यों??
गुमनाम 'बाबा'
2614.पूर्णिका
2614.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पारख पूर्ण प्रणेता
पारख पूर्ण प्रणेता
प्रेमदास वसु सुरेखा
सावन और साजन
सावन और साजन
Ram Krishan Rastogi
दो शब्द सही
दो शब्द सही
Dr fauzia Naseem shad
हे🙏जगदीश्वर आ घरती पर🌹
हे🙏जगदीश्वर आ घरती पर🌹
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ज़िंदगी जीने के लिये क्या चाहिए.!
ज़िंदगी जीने के लिये क्या चाहिए.!
शेखर सिंह
अपमान
अपमान
Dr Parveen Thakur
जड़ें
जड़ें
Dr. Kishan tandon kranti
*कुंडी पहले थी सदा, दरवाजों के साथ (कुंडलिया)*
*कुंडी पहले थी सदा, दरवाजों के साथ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ईश्वर ने तो औरतों के लिए कोई अलग से जहां बनाकर नहीं भेजा। उस
ईश्वर ने तो औरतों के लिए कोई अलग से जहां बनाकर नहीं भेजा। उस
Annu Gurjar
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
सिद्धार्थ गोरखपुरी
फिर यहाँ क्यों कानून बाबर के हैं
फिर यहाँ क्यों कानून बाबर के हैं
Maroof aalam
तमाम उम्र जमीर ने झुकने नहीं दिया,
तमाम उम्र जमीर ने झुकने नहीं दिया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
#हिंदी_ग़ज़ल
#हिंदी_ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
भीम आयेंगे आयेंगे भीम आयेंगे
भीम आयेंगे आयेंगे भीम आयेंगे
gurudeenverma198
फ़ितरत-ए-दिल की मेहरबानी है ।
फ़ितरत-ए-दिल की मेहरबानी है ।
Neelam Sharma
विभीषण का दुःख
विभीषण का दुःख
Dr MusafiR BaithA
* माथा खराब है *
* माथा खराब है *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ऐ महबूब
ऐ महबूब
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नेम प्रेम का कर ले बंधु
नेम प्रेम का कर ले बंधु
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुट्ठी भर आस
मुट्ठी भर आस
Kavita Chouhan
ममत्व की माँ
ममत्व की माँ
Raju Gajbhiye
अपनों की महफिल
अपनों की महफिल
Ritu Asooja
कल तक जो थे हमारे, अब हो गए विचारे।
कल तक जो थे हमारे, अब हो गए विचारे।
सत्य कुमार प्रेमी
फितरत को पहचान कर भी
फितरत को पहचान कर भी
Seema gupta,Alwar
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...