Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Mar 2017 · 1 min read

***** भूल *****

[[[[ भूल ]]]]
@ दिनेश एल० “जहिंद”

भूलना था जिन नादानियों को उन्हें नहीं भूले,,,

भूल तो हम उन्हें ही गये जिनकी गोद में झूले,,

बोलो, ये भूल नहीं है तो और क्या है !!

भूले ममता की छांव और भूले अपनी माता को

भूले माँ के लाड-प्लार और निज जन्म-दाता को

जो जिए हमारे लिए चूक गए उनके सम्मान में,,

बन के लाठी हम सहारा बनते जिनकी शान में,,

झूले प्रेयसी की बाँहों में उसके ही दंभ में फूले —

भूल तो हम उन्हें ही गये जिनकी गोद में झूले,,,

बोलो, ये भूल नहीं है और तो क्या है !!?

भूले उस मिट्टी को जिस मिट्टी में खेल बड़े हुए,,

भूले उसके प्रेम-स्नेह को जिसमें हम सने हुए,,

कुछ तो फ़र्ज़ बनता है हम सब धरती-पुत्रों का,,

परम धर्म है क़र्ज़ चुकाना माँ-बाप-मातृत्वों का,,

छोड़ के भू-स्वर्ग सपने सजाएं कि आसमां छूलें

भूल तो हम उन्हें ही गये जिनकी गोद में झूले,,

बोलो, ये भूल नहीं है तो और क्या है !!!

दिनेश एल० “जैहिंद”
16. 01. 2017

Language: Hindi
194 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
I hide my depression,
I hide my depression,
Vandana maurya
52 बुद्धों का दिल
52 बुद्धों का दिल
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
वो अनुराग अनमोल एहसास
वो अनुराग अनमोल एहसास
Seema gupta,Alwar
समय की धारा रोके ना रुकती,
समय की धारा रोके ना रुकती,
Neerja Sharma
शिर ऊँचा कर
शिर ऊँचा कर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
एक सख्सियत है दिल में जो वर्षों से बसी है
एक सख्सियत है दिल में जो वर्षों से बसी है
हरवंश हृदय
अपनों को दे फायदा ,
अपनों को दे फायदा ,
sushil sarna
दर्द देकर मौहब्बत में मुस्कुराता है कोई।
दर्द देकर मौहब्बत में मुस्कुराता है कोई।
Phool gufran
जमाने में
जमाने में
manjula chauhan
आपसी समझ
आपसी समझ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
काश तुम ये जान पाते...
काश तुम ये जान पाते...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ముందుకు సాగిపో..
ముందుకు సాగిపో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
नूतन वर्ष
नूतन वर्ष
Madhavi Srivastava
■ कथनी-करनी एक...
■ कथनी-करनी एक...
*Author प्रणय प्रभात*
मैं तो महज एहसास हूँ
मैं तो महज एहसास हूँ
VINOD CHAUHAN
आसां  है  चाहना  पाना मुमकिन नहीं !
आसां है चाहना पाना मुमकिन नहीं !
Sushmita Singh
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
Ravi Prakash
"कवि और नेता"
Dr. Kishan tandon kranti
" प्यार के रंग" (मुक्तक छंद काव्य)
Pushpraj Anant
3185.*पूर्णिका*
3185.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लगन की पतोहू / MUSAFIR BAITHA
लगन की पतोहू / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
आज वो भी भारत माता की जय बोलेंगे,
आज वो भी भारत माता की जय बोलेंगे,
Minakshi
खेल भावनाओं से खेलो, जीवन भी है खेल रे
खेल भावनाओं से खेलो, जीवन भी है खेल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*** कुछ पल अपनों के साथ....! ***
*** कुछ पल अपनों के साथ....! ***
VEDANTA PATEL
अवावील की तरह
अवावील की तरह
abhishek rajak
"वो यादगारनामे"
Rajul Kushwaha
ज़िंदगी के वरक़
ज़िंदगी के वरक़
Dr fauzia Naseem shad
सांझा चूल्हा4
सांझा चूल्हा4
umesh mehra
वाह वाही कभी पाता नहीं हूँ,
वाह वाही कभी पाता नहीं हूँ,
Satish Srijan
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...