Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jun 2022 · 1 min read

भूल जा – डी के निवातिया

भूल जा
!
जो हुआ, सो हुआ, भूल जा
अच्छा था, या बुरा भूल जा !!
वक्त कब ये किसी का रहा,
आज उस का रहा भूल जा !!
जिंदगी का खेला खेल अब,
बाकि सब कुछ जुआ भूल जा !!
हार या जीत कुछ भी सही,
मस्त हो जा गुमा भूल जा !!
क्या लेकर तू धरम जाएगा,
माल धन सब फिजा भूल जा !!
!
डी के निवातिया

2 Likes · 1 Comment · 228 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डी. के. निवातिया
View all
You may also like:
कीमत
कीमत
Ashwani Kumar Jaiswal
डाकू आ सांसद फूलन देवी।
डाकू आ सांसद फूलन देवी।
Acharya Rama Nand Mandal
💐 Prodigy Love-5💐
💐 Prodigy Love-5💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शांत मन भाव से बैठा हुआ है बावरिया
शांत मन भाव से बैठा हुआ है बावरिया
Buddha Prakash
दोस्ती एक पवित्र बंधन
दोस्ती एक पवित्र बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
■ सामयिकी/ बहोत नाइंसाफ़ी है यह!!
■ सामयिकी/ बहोत नाइंसाफ़ी है यह!!
*Author प्रणय प्रभात*
मन के झरोखों में छिपा के रखा है,
मन के झरोखों में छिपा के रखा है,
अमित मिश्र
गांव की बात निराली
गांव की बात निराली
जगदीश लववंशी
शायरी संग्रह नई पुरानी शायरियां विनीत सिंह शायर
शायरी संग्रह नई पुरानी शायरियां विनीत सिंह शायर
Vinit kumar
निगाहें मिलाके सितम ढाने वाले ।
निगाहें मिलाके सितम ढाने वाले ।
Phool gufran
दुनिया में कुछ चीजे कभी नही मिटाई जा सकती, जैसे कुछ चोटे अपन
दुनिया में कुछ चीजे कभी नही मिटाई जा सकती, जैसे कुछ चोटे अपन
Soniya Goswami
Aaj samna khud se kuch yun hua aankho m aanshu thy aaina ru-
Aaj samna khud se kuch yun hua aankho m aanshu thy aaina ru-
Sangeeta Sangeeta
कब मरा रावण
कब मरा रावण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
निर्णय लेने में
निर्णय लेने में
Dr fauzia Naseem shad
2617.पूर्णिका
2617.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Love yourself
Love yourself
आकांक्षा राय
“ जीवन साथी”
“ जीवन साथी”
DrLakshman Jha Parimal
హాస్య కవిత
హాస్య కవిత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
★बरसात की टपकती बूंद ★
★बरसात की टपकती बूंद ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
नशा नाश की गैल हैं ।।
नशा नाश की गैल हैं ।।
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
बाल कविता: नदी
बाल कविता: नदी
Rajesh Kumar Arjun
*पाठ समय के अनुशासन का, प्रकृति हमें सिखलाती है (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*पाठ समय के अनुशासन का, प्रकृति हमें सिखलाती है (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
सृष्टि
सृष्टि
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बचपन बेटी रूप में
बचपन बेटी रूप में
लक्ष्मी सिंह
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़।
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़।
Rj Anand Prajapati
मेरे दिल की गहराई में,
मेरे दिल की गहराई में,
Dr. Man Mohan Krishna
स्वयंसिद्धा
स्वयंसिद्धा
ऋचा पाठक पंत
खुशियाँ
खुशियाँ
Dr Shelly Jaggi
बेरोजगारी
बेरोजगारी
पंकज कुमार कर्ण
धूल से ही उत्सव हैं,
धूल से ही उत्सव हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...