Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 May 2022 · 1 min read

भूले बिसरे गीत

भूले बिसरे गीत

तुम एक दिन
आना मेरे घर
वहां चारों ओर
बिखरे पड़ें मिलेंगे
कहीं दीवारों पर
तो कहीं दरख्तों पर
वो भूले बिसरे गीत
और उनकी तमाम भूली बिसरी स्मृतियाँ
जो बचपन में
तुमने किसी गली, कूचे,मोहल्ले से
अक्सर गुज़रते किसी मकान किसी दुकान से
कभी सुनी थी ।

मगर जिंदगी की आपा धापी में
आपसे कहीं खो गई
तुम्हें शायद आज याद नहीं
मगर मैंने तुम्हारे ज़हन में
उन गीतों की धीमी-धीमी सुगंध
और उनकी स्मृतियों को
अनुभूत कर लिया था
जब तुमने टूटे फूटे शब्दों में
वो गीत गुनगुनाया था ।

तुम एक दिन
ज़रूर
आना मेरे घर
वहां चारों ओर
बिखरे पड़ें मिलेंगे
कहीं दीवारों पर
तो कहीं दरख्तों पर
वो भूले बिसरे गीत । ।

-रफ़ी अरुण गौतम
मोबाइल 9811447213

Language: Hindi
2 Likes · 5 Comments · 1195 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*वर्तमान पल भर में ही, गुजरा अतीत बन जाता है (हिंदी गजल)*
*वर्तमान पल भर में ही, गुजरा अतीत बन जाता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
18, गरीब कौन
18, गरीब कौन
Dr Shweta sood
मृत्यु भोज (#मैथिली_कविता)
मृत्यु भोज (#मैथिली_कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
दास्ताने-इश्क़
दास्ताने-इश्क़
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मेरी फितरत है, तुम्हें सजाने की
मेरी फितरत है, तुम्हें सजाने की
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आजा कान्हा मैं कब से पुकारूँ तुझे।
आजा कान्हा मैं कब से पुकारूँ तुझे।
Neelam Sharma
धारा ३७० हटाकर कश्मीर से ,
धारा ३७० हटाकर कश्मीर से ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
" मेरी प्यारी नींद"
Dr Meenu Poonia
मंटू और चिड़ियाँ
मंटू और चिड़ियाँ
SHAMA PARVEEN
बंधन यह अनुराग का
बंधन यह अनुराग का
Om Prakash Nautiyal
💐प्रेम कौतुक-509💐
💐प्रेम कौतुक-509💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अब नहीं दिल धड़कता है उस तरह से
अब नहीं दिल धड़कता है उस तरह से
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दीपों की माला
दीपों की माला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नारी
नारी
Dr Parveen Thakur
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
"पेंसिल और कलम"
Dr. Kishan tandon kranti
23/77.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/77.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पिता संघर्ष की मूरत
पिता संघर्ष की मूरत
Rajni kapoor
मेरे छिनते घर
मेरे छिनते घर
Anjana banda
प्रेरणादायक बाल कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो।
प्रेरणादायक बाल कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो।
Rajesh Kumar Arjun
"वक़्त के साथ सब बदलते हैं।
*Author प्रणय प्रभात*
बापू की पुण्य तिथि पर
बापू की पुण्य तिथि पर
Ram Krishan Rastogi
काव्य की आत्मा और रागात्मकता +रमेशराज
काव्य की आत्मा और रागात्मकता +रमेशराज
कवि रमेशराज
रक्त संबंध
रक्त संबंध
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जो बैठा है मन के अंदर उस रावण को मारो ना
जो बैठा है मन के अंदर उस रावण को मारो ना
VINOD CHAUHAN
फितरत
फितरत
पूनम झा 'प्रथमा'
जनता की कमाई गाढी
जनता की कमाई गाढी
Bodhisatva kastooriya
ञ माने कुछ नहीं
ञ माने कुछ नहीं
Satish Srijan
किताबें पूछती है
किताबें पूछती है
Surinder blackpen
हम हैं क्योंकि वह थे
हम हैं क्योंकि वह थे
Shekhar Chandra Mitra
Loading...