Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2023 · 1 min read

भूख से वहां इंसा मर रहा है।

अपने ही हालात पे रो रहा है।
एक मुल्क बरबाद हो रहा है।।1।।

गुनाहो पर गुनाह उसने किए।
खुद को जो पाक कह रहा है।।2।।

झूठी शान में वो जी रहा था।
उसपर ये जमाना हंस रहा है।।3।।

हमदर्द ना कोई उसका रहा।
सभी का वो साथ खो रहा है।।4।।

आतंक की लगायी आग में।
आज वो खुद ही जल रहा है।।5।।

कुछ जनाजे उठे देखे हमनें।
भूख से वहां इंसा मर रहा है।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

233 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मां का हुआ आगमन नव पल्लव से हुआ श्रृंगार
मां का हुआ आगमन नव पल्लव से हुआ श्रृंगार
Charu Mitra
जीत रही है जंग शांति की हार हो रही।
जीत रही है जंग शांति की हार हो रही।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
लौट कर वक्त
लौट कर वक्त
Dr fauzia Naseem shad
किस क़दर आसान था
किस क़दर आसान था
हिमांशु Kulshrestha
वैसा न रहा
वैसा न रहा
Shriyansh Gupta
हिन्दी के साधक के लिए किया अदभुत पटल प्रदान
हिन्दी के साधक के लिए किया अदभुत पटल प्रदान
Dr.Pratibha Prakash
हम किसी के लिए कितना भी कुछ करले ना हमारे
हम किसी के लिए कितना भी कुछ करले ना हमारे
Shankar N aanjna
संसार के सब रसों में
संसार के सब रसों में
*Author प्रणय प्रभात*
* माई गंगा *
* माई गंगा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
POWER
POWER
Satbir Singh Sidhu
Wishing you a Diwali filled with love, laughter, and the swe
Wishing you a Diwali filled with love, laughter, and the swe
Lohit Tamta
किसी ने कहा- आरे वहां क्या बात है! लड़की हो तो ऐसी, दिल जीत
किसी ने कहा- आरे वहां क्या बात है! लड़की हो तो ऐसी, दिल जीत
जय लगन कुमार हैप्पी
मन से हरो दर्प औ अभिमान
मन से हरो दर्प औ अभिमान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
भारत रत्न श्री नानाजी देशमुख (संस्मरण)
भारत रत्न श्री नानाजी देशमुख (संस्मरण)
Ravi Prakash
Fantasies are common in this mystical world,
Fantasies are common in this mystical world,
Sukoon
नीला अम्बर नील सरोवर
नीला अम्बर नील सरोवर
डॉ. शिव लहरी
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
खंड 6
खंड 6
Rambali Mishra
प्रेम की साधना (एक सच्ची प्रेमकथा पर आधारित)
प्रेम की साधना (एक सच्ची प्रेमकथा पर आधारित)
दुष्यन्त 'बाबा'
हिन्दी दोहा- मीन-मेख
हिन्दी दोहा- मीन-मेख
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मीठी वाणी
मीठी वाणी
Dr Parveen Thakur
ईश्वर से शिकायत क्यों...
ईश्वर से शिकायत क्यों...
Radhakishan R. Mundhra
Rebel
Rebel
Shekhar Chandra Mitra
दिलों में है शिकायत तो, शिकायत को कहो तौबा,
दिलों में है शिकायत तो, शिकायत को कहो तौबा,
Vishal babu (vishu)
******
******" दो घड़ी बैठ मेरे पास ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
23/136.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/136.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कहते हैं तुम्हें ही जीने का सलीका नहीं है,
कहते हैं तुम्हें ही जीने का सलीका नहीं है,
manjula chauhan
Who is whose best friend
Who is whose best friend
Ankita Patel
हमको
हमको
Divya Mishra
मैं बारिश में तर था
मैं बारिश में तर था
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Loading...