Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2016 · 1 min read

भुलाता जा रहा है सादगी को

भुलाता जा रहा है सादगी को
ये क्या होने लगा है आदमी को

जिधर देखो अँधेरा ही अँधेरा
चलो हम ढूँढ लाये रोशनी को

उठाता हाथ है औरत पे जो भी
वो गाली दे रहा मर्दानगी को

सभी को सादगी अच्छी लगे है
नहीं चाहे कोई आवारगी को

फ़क़ीरी का अलग अपना मज़ा है
सलामी आप ही दो साहबी को

बुरे हालात ‘माही’ मुल्क़ के हैं
भटकती है जवानी नौकरी को

माही

1 Comment · 280 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एकदम सुलझे मेरे सुविचार..✍️🫡💯
एकदम सुलझे मेरे सुविचार..✍️🫡💯
Ms.Ankit Halke jha
इंसान बनने के लिए
इंसान बनने के लिए
Mamta Singh Devaa
"समझदार से नासमझी की
*Author प्रणय प्रभात*
दिये को रोशननाने में रात लग गई
दिये को रोशननाने में रात लग गई
कवि दीपक बवेजा
जियो जी भर
जियो जी भर
Ashwani Kumar Jaiswal
खूबसूरत बुढ़ापा
खूबसूरत बुढ़ापा
Surinder blackpen
तुम्हारा दीद हो जाए,तो मेरी ईद हो जाए
तुम्हारा दीद हो जाए,तो मेरी ईद हो जाए
Ram Krishan Rastogi
*लाल हैं कुछ हरी, सावनी चूड़ियॉं (हिंदी गजल)*
*लाल हैं कुछ हरी, सावनी चूड़ियॉं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
अनकहे शब्द बहुत कुछ कह कर जाते हैं।
अनकहे शब्द बहुत कुछ कह कर जाते हैं।
Manisha Manjari
बावला
बावला
Ajay Mishra
सुविचार..
सुविचार..
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मुझे लगा कि तुम्हारे लिए मैं विशेष हूं ,
मुझे लगा कि तुम्हारे लिए मैं विशेष हूं ,
Manju sagar
In the rainy season, get yourself drenched
In the rainy season, get yourself drenched
Dhriti Mishra
यूंही सावन में तुम बुनबुनाती रहो
यूंही सावन में तुम बुनबुनाती रहो
Basant Bhagawan Roy
यह तुम्हारी गलत सोच है
यह तुम्हारी गलत सोच है
gurudeenverma198
ख्वाहिशों के कारवां में
ख्वाहिशों के कारवां में
Satish Srijan
तुम्हारी खुशी में मेरी दुनिया बसती है
तुम्हारी खुशी में मेरी दुनिया बसती है
Awneesh kumar
💐प्रेम कौतुक-413💐
💐प्रेम कौतुक-413💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जय माता दी -
जय माता दी -
Raju Gajbhiye
वो कपटी कहलाते हैं !!
वो कपटी कहलाते हैं !!
Ramswaroop Dinkar
“जगत जननी: नारी”
“जगत जननी: नारी”
Swara Kumari arya
बहुत बातूनी है तू।
बहुत बातूनी है तू।
Buddha Prakash
जब वक्त ने साथ छोड़ दिया...
जब वक्त ने साथ छोड़ दिया...
Ashish shukla
एक ख़्वाब की सी रही
एक ख़्वाब की सी रही
Dr fauzia Naseem shad
‘’The rain drop from the sky: If it is caught in hands, it i
‘’The rain drop from the sky: If it is caught in hands, it i
Vivek Mishra
सरकारी नौकरी
सरकारी नौकरी
Sushil chauhan
संघर्ष से‌ लड़ती
संघर्ष से‌ लड़ती
Arti Bhadauria
क्या ये गलत है ?
क्या ये गलत है ?
Rakesh Bahanwal
जीना है तो ज़माने के रंग में रंगना पड़ेगा,
जीना है तो ज़माने के रंग में रंगना पड़ेगा,
_सुलेखा.
ज़िन्दगी की गोद में
ज़िन्दगी की गोद में
Rashmi Sanjay
Loading...