Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2016 · 1 min read

**** भीषण गर्मी ****

**** भीषण गर्मी ****

यूँ गर्मी का रंग चढ़ा ,उल्का सी पड़ी है आँगन में ।

रुष्ठ हुए हैं इन्द्रदेव ,आग लगी है सावन में ।।

उत्पात मचा था उष्ण ऊर्जा का ,””’व्याकुलता चंडी घूम रही ।

ज्वाला के असंख्य अदृश थपेड़े ,”जिंदगानी निर्बस झेल रही । ।

मन की उद्दवेलित जिजिविषा को ,अशांत क्रांति करोंद चली ।

बहते पवन के लू प्रपंचों से , ”””””””””देह निगोड़ी रूठ चली । ।

ज्वर से पारा क्षितिज चढ़ा,””””””करे आंत्रशोध शक्ति हीना ।

सिर फोड़ दर्द की पीड़ा से ,”””’है कम्पित-संकित मन-वीणा । ।

व्याधि पर व्याधि राज रही ,””’जीवन -रथ डगमग है सारा ।

कहकहों भरी जीवन रेखा ””””””’,तृप्त है पीकर रस खारा । ।

पंचतत्व, पंचतत्व विलीन को ,”””””विद्युत गामी हो चला ।

शून्य सुरूपा सूर्य सुता पर ,”””””ज्यों मृत्यु अंकुरण हो पला । ।

देवलोक का पितृ दिवाकर ,”””””””’खेल अनल का खेल रहा ।

बिन पानी मीन सा जीवन , ””””””अग्नि- शूल को झेल रहा । ।

श्वांस -निश्वांस अटक-भटक के ,”’जीवन सुधा को तोल रहे ।

सुमधुर व्याख्यानी जिव्हा से ,”””’शब्द खंड-खंड हों बोल रहे । ।

******* सुरेशपाल वर्मा जसाला

Language: Hindi
686 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हाँ मैं नारी हूँ
हाँ मैं नारी हूँ
Surya Barman
कड़वी बात~
कड़वी बात~
दिनेश एल० "जैहिंद"
घिरी घटा घन साँवरी, हुई दिवस में रैन।
घिरी घटा घन साँवरी, हुई दिवस में रैन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
रमेशराज की चिड़िया विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की चिड़िया विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
जय संविधान...✊🇮🇳
जय संविधान...✊🇮🇳
Srishty Bansal
खूबसूरती
खूबसूरती
जय लगन कुमार हैप्पी
2534.पूर्णिका
2534.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बुद्धिमत्ता
बुद्धिमत्ता
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
क्यों मैं इतना बदल गया
क्यों मैं इतना बदल गया
gurudeenverma198
प्रिय मैं अंजन नैन लगाऊँ।
प्रिय मैं अंजन नैन लगाऊँ।
Anil Mishra Prahari
हिन्दी दोहा बिषय- न्याय
हिन्दी दोहा बिषय- न्याय
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
माता की महिमा
माता की महिमा
SHAILESH MOHAN
बेटी और प्रकृति
बेटी और प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
ग्रामीण ओलंपिक खेल
ग्रामीण ओलंपिक खेल
Shankar N aanjna
*****देव प्रबोधिनी*****
*****देव प्रबोधिनी*****
Kavita Chouhan
विद्या-मन्दिर अब बाजार हो गया!
विद्या-मन्दिर अब बाजार हो गया!
Bodhisatva kastooriya
"शून्य-दशमलव"
Dr. Kishan tandon kranti
बच्चे (कुंडलिया )
बच्चे (कुंडलिया )
Ravi Prakash
Jo kbhi mere aashko me dard bankar
Jo kbhi mere aashko me dard bankar
Sakshi Tripathi
किसी पत्थर की मूरत से आप प्यार करें, यह वाजिब है, मगर, किसी
किसी पत्थर की मूरत से आप प्यार करें, यह वाजिब है, मगर, किसी
Dr MusafiR BaithA
जीवन में कोई भी युद्ध अकेले होकर नहीं लड़ा जा सकता। भगवान राम
जीवन में कोई भी युद्ध अकेले होकर नहीं लड़ा जा सकता। भगवान राम
Dr Tabassum Jahan
ये, जो बुरा वक्त आता है ना,
ये, जो बुरा वक्त आता है ना,
Sandeep Mishra
"वो ख़तावार है जो ज़ख़्म दिखा दे अपने।
*Author प्रणय प्रभात*
महल था ख़्वाबों का
महल था ख़्वाबों का
Dr fauzia Naseem shad
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - २)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - २)
Kanchan Khanna
सर्दी में जलती हुई आग लगती हो
सर्दी में जलती हुई आग लगती हो
Jitendra Chhonkar
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
Poonam Matia
मजबूरियों से ज़िन्दा रहा,शौक में मारा गया
मजबूरियों से ज़िन्दा रहा,शौक में मारा गया
पूर्वार्थ
आँसू
आँसू
Satish Srijan
दिनांक - २१/५/२०२३
दिनांक - २१/५/२०२३
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Loading...