Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 1, 2016 · 1 min read

**** भीषण गर्मी ****

**** भीषण गर्मी ****

यूँ गर्मी का रंग चढ़ा ,उल्का सी पड़ी है आँगन में ।

रुष्ठ हुए हैं इन्द्रदेव ,आग लगी है सावन में ।।

उत्पात मचा था उष्ण ऊर्जा का ,””’व्याकुलता चंडी घूम रही ।

ज्वाला के असंख्य अदृश थपेड़े ,”जिंदगानी निर्बस झेल रही । ।

मन की उद्दवेलित जिजिविषा को ,अशांत क्रांति करोंद चली ।

बहते पवन के लू प्रपंचों से , ”””””””””देह निगोड़ी रूठ चली । ।

ज्वर से पारा क्षितिज चढ़ा,””””””करे आंत्रशोध शक्ति हीना ।

सिर फोड़ दर्द की पीड़ा से ,”””’है कम्पित-संकित मन-वीणा । ।

व्याधि पर व्याधि राज रही ,””’जीवन -रथ डगमग है सारा ।

कहकहों भरी जीवन रेखा ””””””’,तृप्त है पीकर रस खारा । ।

पंचतत्व, पंचतत्व विलीन को ,”””””विद्युत गामी हो चला ।

शून्य सुरूपा सूर्य सुता पर ,”””””ज्यों मृत्यु अंकुरण हो पला । ।

देवलोक का पितृ दिवाकर ,”””””””’खेल अनल का खेल रहा ।

बिन पानी मीन सा जीवन , ””””””अग्नि- शूल को झेल रहा । ।

श्वांस -निश्वांस अटक-भटक के ,”’जीवन सुधा को तोल रहे ।

सुमधुर व्याख्यानी जिव्हा से ,”””’शब्द खंड-खंड हों बोल रहे । ।

******* सुरेशपाल वर्मा जसाला

241 Views
You may also like:
जीवन और मृत्यु
Anamika Singh
Even If I Ever Died
Manisha Manjari
पिता
रिपुदमन झा "पिनाकी"
✍️ये अज़ीब इश्क़ है✍️
"अशांत" शेखर
रोग ने कितना अकेला कर दिया
Dr Archana Gupta
“ मेरे राम ”
DESH RAJ
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
*कलम शतक* :कवि कल्याण कुमार जैन शशि
Ravi Prakash
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार "कर्ण"
एक बात... पापा, करप्शन.. लेना
Nitu Sah
पत्ते ने अगर अपना रंग न बदला होता
Dr. Alpa H. Amin
एक थे वशिष्ठ
Suraj Kushwaha
बचपन पुराना रे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अब आगाज यहाँ
vishnushankartripathi7
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
💐💐प्रेम की राह पर-21💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अखंड भारत की गौरव गाथा।
Taj Mohammad
शहर को क्या हुआ
Anamika Singh
★HAPPY FATHER'S DAY ★
KAMAL THAKUR
निगाह-ए-यास कि तन्हाइयाँ लिए चलिए
शिवांश सिंघानिया
सुनो ! हे राम ! मैं तुम्हारा परित्याग करती हूँ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
" बिल्ली "
Dr Meenu Poonia
सबसे बड़ा सवाल मुँहवे ताकत रहे
आकाश महेशपुरी
कोई किस्मत से कह दो।
Taj Mohammad
व्याकुल हुआ है तन मन, कोई बुला रहा है।
सत्य कुमार प्रेमी
बे-इंतिहा मोहब्बत करते हैं तुमसे
VINOD KUMAR CHAUHAN
मज़हबी उन्मादी आग
Dr. Kishan Karigar
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वापस लौट नहीं आना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...