Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2023 · 3 min read

भीख

गांव में एक करीबी रिश्तेदार के यहां शादी थी, इसलिए शर्मा जी को एक लंबे समय के बाद अपने गांव जाना पड़ रहा था। इसलिए उन्होंने सोचा बच्चों और धर्मपत्नी को भी ले चलूं गांव से उनका परिचय भी हो जाएगा लेकिन उनकी ये सोच बस सोचने तक ही सीमित रह गई जब मिसेज शर्मा ने गांव जाने के लिए मना ही कर दिया, बच्चे तैयार हो गए क्योंकि उन्हें गांव में सैर सपाटा करने जो मिलेगा।

शादी की तारीख को वो सब सुबह जल्दी उठकर तैयार होकर अपने कार से गांव जाने के लिए रवाना हुए रास्ते में ही मिसेज शर्मा का मायका पड़ता था तो उन्हें वहां ड्रॉप करके शर्मा जी और बच्चे निकल पड़े गांव की ओर।

करीब एक डेढ़ घंटे की ड्राइव के बाद उनका पुश्तैनी गांव आ गया और वो सब इसके सारे नजारों को देखते हुए अपने रिश्तेदार के घर तक पहुंच गए। कुछ भी तो नहीं बदला था वहां पर न संस्कृति और न ही वहां के लोग, बस अगर कुछ बदला था तो बिजली की सुविधा आ गई थी, थोड़ी सड़क अच्छी बन गई थी और कुछ पक्के मकान बन गए थे।

तय समय पर बारात आई और उनके स्वागत के बाद भोजन का कार्यक्रम था तो सभी भोजन करने बैठे, तभी शर्मा जी ने देखा एक छोटी सी बच्ची( जो लगभग 7 साल की होगी) अपने हाथ में अपने से थोड़ी छोटी एक बच्ची का हाथ पकड़ कर बेचारी फटेहाल पुराने कपड़ों में खाना खाने आई थी। उसकी हालत देखकर उन्हें सहसा करुणा आ गई और वो अपने रिश्तेदार से पूछ बैठा ये कौन है?

उन्होंने बताया कि ये कमली है इसके मां बाप पिछले साल कोरोना में गुजर गए और अब इनका कोई नहीं है तो गांव के घरों में खाना मांगकर खाते हैं और अपने टूटे पुराने मकान में रहते हैं। सुनकर शर्मा जी ईश्वर के इस अन्याय पर स्तब्ध हो गए और पूछा कि क्या इनका और कोई नहीं है अब? नहीं में जवाब मिलने पर उन्होंने मन ही मन कुछ निश्चय किया।

दूसरे दिन चूंकि शादी समाप्त हो चुकी थी तो उन्होंने रिश्तेदारों से विदा ली और मुखिया जी से पूछा कि क्या मैं कमली और उसकी बहन को अपने साथ शहर ले जाकर उन्हें किसी बाल आश्रम में डाल सकता हूं जहां उन्हें अच्छी शिक्षा और परवरिश दोनों मिलेगी। मुखिया जी और गांव वालों ने शर्मा जी के विचारों की प्रशंसा करते हुए एक स्वर में सहमति दे दी और वे उन दोनों मासूम बच्चों को साथ ले आए।

उन दोनों मासूमों को शहर के बाल आश्रम में दाखिल कराकर जैसे ही शर्मा जी अपने घर पहुंचे तो बच्चों ने अपनी मम्मी को बताया कि पापा ने कितना नेक काम किया है। सुनकर मिसेज शर्मा के आंसू छलक आए और वो एक ही वाक्य बोली मुझे गर्व है आप पर।

इस पर शर्मा जी ने कहा कि ईश्वर ने हम जैसों को अगर सक्षम बनाया है तो हमारा भी फर्ज है कि जरूरतमंद की सही ढंग से सहायता करें, लेकिन भीख देकर नहीं बल्कि उसके लिए उस समय जो सहायता उचित हो और जिससे उसका जीवन सुधर सके ऐसी सहायता करनी चाहिए। खासकर ऐसे अनाथ बच्चों को भीख के बजाय ऐसे सहायता की जरूरत होती है जिससे उन्हें जीवन भर भीख न मांगनी पड़े और वे स्वयं अपने पैरों पर खड़े हो सकें।

✍️ मुकेश कुमार सोनकर”सोनकर जी”

रायपुर छत्तीसगढ़ मो.नं.9827597473

2 Likes · 215 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
डाइन
डाइन
अवध किशोर 'अवधू'
मैथिली हाइकु / Maithili Haiku
मैथिली हाइकु / Maithili Haiku
Binit Thakur (विनीत ठाकुर)
निजी विद्यालयों का हाल
निजी विद्यालयों का हाल
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कहीं वैराग का नशा है, तो कहीं मन को मिलती सजा है,
कहीं वैराग का नशा है, तो कहीं मन को मिलती सजा है,
Manisha Manjari
मस्ती का त्योहार है,
मस्ती का त्योहार है,
sushil sarna
तुम मोहब्बत में
तुम मोहब्बत में
Dr fauzia Naseem shad
3096.*पूर्णिका*
3096.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कौआ और कोयल ( दोस्ती )
कौआ और कोयल ( दोस्ती )
VINOD CHAUHAN
थोपा गया कर्तव्य  बोझ जैसा होता है । उसमें समर्पण और सेवा-भा
थोपा गया कर्तव्य बोझ जैसा होता है । उसमें समर्पण और सेवा-भा
Seema Verma
दीपावली
दीपावली
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
हमारी हिन्दी ऊँच-नीच का भेदभाव नहीं करती.,
हमारी हिन्दी ऊँच-नीच का भेदभाव नहीं करती.,
SPK Sachin Lodhi
हिंदी दोहा शब्द - भेद
हिंदी दोहा शब्द - भेद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पुरुष चाहे जितनी बेहतरीन पोस्ट कर दे
पुरुष चाहे जितनी बेहतरीन पोस्ट कर दे
शेखर सिंह
एक ज़िद थी
एक ज़िद थी
हिमांशु Kulshrestha
वो इश्क किस काम का
वो इश्क किस काम का
Ram Krishan Rastogi
स्पेशल अंदाज में बर्थ डे सेलिब्रेशन
स्पेशल अंदाज में बर्थ डे सेलिब्रेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*कोपल निकलने से पहले*
*कोपल निकलने से पहले*
Poonam Matia
जरुरी नहीं कि
जरुरी नहीं कि
Sangeeta Beniwal
अँधेरे में नहीं दिखता
अँधेरे में नहीं दिखता
Anil Mishra Prahari
मौसम ने भी ली अँगड़ाई, छेड़ रहा है राग।
मौसम ने भी ली अँगड़ाई, छेड़ रहा है राग।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मुझ को अब स्वीकार नहीं
मुझ को अब स्वीकार नहीं
Surinder blackpen
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
हो रही है भोर अनुपम देखिए।
हो रही है भोर अनुपम देखिए।
surenderpal vaidya
आशिकी
आशिकी
साहिल
मेघ गोरे हुए साँवरे
मेघ गोरे हुए साँवरे
Dr Archana Gupta
World Blood Donar's Day
World Blood Donar's Day
Tushar Jagawat
"पेंसिल और कलम"
Dr. Kishan tandon kranti
*हर साल नए पत्ते आते, रहता पेड़ पुराना (गीत)*
*हर साल नए पत्ते आते, रहता पेड़ पुराना (गीत)*
Ravi Prakash
सनातन
सनातन
देवेंद्र प्रताप वर्मा 'विनीत'
Loading...