Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Nov 2023 · 1 min read

भिनसार ले जल्दी उठके, रंधनी कती जाथे झटके।

भिनसार ले जल्दी उठके, रंधनी कती जाथे झटके।
बारी म चार डुहरू हे,पल्लो पलोवत नोनी थकगे।
करेला करू होथे फेर तभो ले चल एला खइगे।
रोज के तोर आलू रंधइ,मार दारबे इसना मा भइगे।
हरियरहरियर मिरचा अउ पताल के जोड़ी निक गे।
मन लगे हे एखर फूलगोभी म,भाटा घलो हिटगे।
अंगना सजाय सरग बरोबर,ममहावय फूल फइलगे।
प्रकृति शक्ति शाकम्भरी के सेवा करत जइगे।

Language: Chhattisgarhi
211 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क्या यही है हिन्दी-ग़ज़ल? *रमेशराज
क्या यही है हिन्दी-ग़ज़ल? *रमेशराज
कवि रमेशराज
काट  रहे  सब  पेड़   नहीं  यह, सोच  रहे  परिणाम भयावह।
काट रहे सब पेड़ नहीं यह, सोच रहे परिणाम भयावह।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
In the rainy season, get yourself drenched
In the rainy season, get yourself drenched
Dhriti Mishra
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
Ram Krishan Rastogi
कविता
कविता
Rambali Mishra
■ 5 साल में 1 बार पधारो बस।।
■ 5 साल में 1 बार पधारो बस।।
*Author प्रणय प्रभात*
बाबू जी
बाबू जी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बताओगे कैसे, जताओगे कैसे
बताओगे कैसे, जताओगे कैसे
Shweta Soni
*तुलसी तुम्हें प्रणाम : कुछ दोहे*
*तुलसी तुम्हें प्रणाम : कुछ दोहे*
Ravi Prakash
पहले प्यार में
पहले प्यार में
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
चाय-दोस्ती - कविता
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
रक्षा में हत्या / मुसाफ़िर बैठा
रक्षा में हत्या / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
बेशक मां बाप हर ख़्वाहिश करते हैं
बेशक मां बाप हर ख़्वाहिश करते हैं
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मैं आखिर उदास क्यों होउँ
मैं आखिर उदास क्यों होउँ
DrLakshman Jha Parimal
What is FAMILY?
What is FAMILY?
पूर्वार्थ
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जन्मदिन शुभकामना
जन्मदिन शुभकामना
नवीन जोशी 'नवल'
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
Naushaba Suriya
*अहम ब्रह्मास्मि*
*अहम ब्रह्मास्मि*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"स्मरणीय"
Dr. Kishan tandon kranti
हवा तो थी इधर नहीं आई,
हवा तो थी इधर नहीं आई,
Manoj Mahato
राम विवाह कि मेहंदी
राम विवाह कि मेहंदी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नम आँखे
नम आँखे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
सेहत बढ़ी चीज़ है (तंदरुस्ती हज़ार नेमत )
सेहत बढ़ी चीज़ है (तंदरुस्ती हज़ार नेमत )
shabina. Naaz
विपरीत परिस्थितियों में भी तुरंत फैसला लेने की क्षमता ही सफल
विपरीत परिस्थितियों में भी तुरंत फैसला लेने की क्षमता ही सफल
Paras Nath Jha
2679.*पूर्णिका*
2679.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
खोखला अहं
खोखला अहं
Madhavi Srivastava
बहुत ख्वाहिश थी ख्वाहिशों को पूरा करने की
बहुत ख्वाहिश थी ख्वाहिशों को पूरा करने की
VINOD CHAUHAN
रात का रक्स जारी है
रात का रक्स जारी है
हिमांशु Kulshrestha
.......,,
.......,,
शेखर सिंह
Loading...