Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Aug 2023 · 1 min read

” भाषा क जटिलता “

डॉ लक्ष्मण झा परिमल
===============
आइ हम अपन सपना केँ भूलि मैथिली भाषा केँ लकेँ महाभारत कर रहल छी ! केना बजबाक चाहि ? केना लिखबाक चाहि ? आ उच्चारण क मापदंड पर जमि केँ टीका- टिप्पणी भ रहल अछि !

भाषा ,वेष – भूषा ,उच्चारण क विभिन्नता स्थान- स्थान पर बदलैत रहैत अछि ! परमार्जित बंगला भाषा क विभिन्न रूप विभिन्न क्षेत्र मे भेटइत अछि ! भोजपुरी क सहो इएह हाल अछि ! आरा, छपरा सँ दूर निकलि पडू त भोजपुरी क स्वरुपे बदलि जाइत अछि !

भाषा निर्मल गंगा थीक जे स्थानीय सम्पूर्ण शब्दावली केँ अपना साथ बहा केँ ल जाइत अछि ! हमरा लोकनि गप्प बड्ड पैघ -पैघ करैत छी परंच हमरा लोकनि क विचारधारा संकीर्ण किया भेल जा रहल अछि ?

६० क दशक मे भागलपुर विश्वविध्यालय क तत्वाधान मे संताल परगना महाविधालय दुमका मे ” मैथिली विभाग ” प्राचार्य सुरेन्द्र नाथ झा क अथक प्रयास सँ खुलि सकल ! डॉ विद्यानाथ झा ‘विदित ‘ एक मात्र विभागाध्यक्ष रहैथि ! ७० क दशक मे मात्र तीन विद्यार्थी केँ वो जुटा पेलनि ! मैथिली साहित्य क परीक्षा मे एक विद्यार्थी सब प्रश्न क उत्तर
‘अंगिका ‘ भाषा देवनागरी मे लिखलाह !

उदाहरण स्वरुप –” हम्मे पढ़ने छियों विधापति एकटा महान कवि छलों “!

समस्त कॉलेज क मैथिली प्राध्यापक क बैसारि भागलपुर विश्वविध्यालय मे बाजाउल गेल आ तर्क -वितर्क क पश्चात वोहि विधार्थी केँ नीक अंक सँ पास क देल गेल !

सही मे हम पहिने ठीक छलहूँ ! अब हमरा लोकनि भटकि रहल छी ! इ मानसिकता कतो हमर स्वप्न केँ चकनाचूर नहिं क दिये !!!!
================================
डॉ लक्ष्मण झा परिमल
साउंड हेल्थ क्लिनिक
डॉक्टर’स लेन
दुमका
झारखण्ड
भारत
06.08.2023

192 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोहा त्रयी. . .
दोहा त्रयी. . .
sushil sarna
2654.पूर्णिका
2654.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
Bhupendra Rawat
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कभी कभी कुछ प्रश्न भी, करते रहे कमाल।
कभी कभी कुछ प्रश्न भी, करते रहे कमाल।
Suryakant Dwivedi
कविता-आ रहे प्रभु राम अयोध्या 🙏
कविता-आ रहे प्रभु राम अयोध्या 🙏
Madhuri Markandy
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
गीत
गीत
Pankaj Bindas
एक लड़का,
एक लड़का,
हिमांशु Kulshrestha
क्यू ना वो खुदकी सुने?
क्यू ना वो खुदकी सुने?
Kanchan Alok Malu
सच्चाई ~
सच्चाई ~
दिनेश एल० "जैहिंद"
सुबह-सुबह उठ जातीं मम्मी (बाल कविता)
सुबह-सुबह उठ जातीं मम्मी (बाल कविता)
Ravi Prakash
सूरज मेरी उम्मीद का फिर से उभर गया........
सूरज मेरी उम्मीद का फिर से उभर गया........
shabina. Naaz
यह रंगीन मतलबी दुनियां
यह रंगीन मतलबी दुनियां
कार्तिक नितिन शर्मा
भीड़ ने भीड़ से पूछा कि यह भीड़ क्यों लगी है? तो भीड़ ने भीड
भीड़ ने भीड़ से पूछा कि यह भीड़ क्यों लगी है? तो भीड़ ने भीड
जय लगन कुमार हैप्पी
ग़ुमनाम जिंदगी
ग़ुमनाम जिंदगी
Awadhesh Kumar Singh
-- लगन --
-- लगन --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
गीत
गीत
Shweta Soni
" यकीन करना सीखो
पूर्वार्थ
कुदरत है बड़ी कारसाज
कुदरत है बड़ी कारसाज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
प्राण प्रतीस्था..........
प्राण प्रतीस्था..........
Rituraj shivem verma
"चाहत का सफर"
Dr. Kishan tandon kranti
साक्षर महिला
साक्षर महिला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आकाश के नीचे
आकाश के नीचे
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
बहुत देखें हैं..
बहुत देखें हैं..
Srishty Bansal
बरसो रे मेघ (कजरी गीत)
बरसो रे मेघ (कजरी गीत)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
!..................!
!..................!
शेखर सिंह
Loading...