Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2022 · 1 min read

भावना

आग-पानी भावना इन्सान सी है
इसलिए सागर उफ़नता है हमेशा
***
देवता वो बन न पाया क्या करें
भावना में बह गया इन्सान था
***
भावना ही मिट गई तो क्या रहा
देवता पत्थर हुआ फिर टूटकर
***
भावनाओं के असर में जो रहा
अस्ल में वो ज़िन्दगी जीभर जिया
•••

Language: Hindi
Tag: शेर
4 Likes · 2 Comments · 366 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
23/09.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/09.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रहना चाहें स्वस्थ तो , खाएँ प्रतिदिन सेब(कुंडलिया)
रहना चाहें स्वस्थ तो , खाएँ प्रतिदिन सेब(कुंडलिया)
Ravi Prakash
कोरा कागज और मेरे अहसास.....
कोरा कागज और मेरे अहसास.....
Santosh Soni
* जिन्दगी में *
* जिन्दगी में *
surenderpal vaidya
जुगुनूओं की कोशिशें कामयाब अब हो रही,
जुगुनूओं की कोशिशें कामयाब अब हो रही,
Kumud Srivastava
(23) कुछ नीति वचन
(23) कुछ नीति वचन
Kishore Nigam
रेत सी इंसान की जिंदगी हैं
रेत सी इंसान की जिंदगी हैं
Neeraj Agarwal
मां तेरा कर्ज ये तेरा बेटा कैसे चुकाएगा।
मां तेरा कर्ज ये तेरा बेटा कैसे चुकाएगा।
Rj Anand Prajapati
*सेब का बंटवारा*
*सेब का बंटवारा*
Dushyant Kumar
हर बार मेरी ही किस्मत क्यो धोखा दे जाती हैं,
हर बार मेरी ही किस्मत क्यो धोखा दे जाती हैं,
Vishal babu (vishu)
मोर छत्तीसगढ़ महतारी हे
मोर छत्तीसगढ़ महतारी हे
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
उतर गया प्रज्ञान चांद पर, भारत का मान बढ़ाया
उतर गया प्रज्ञान चांद पर, भारत का मान बढ़ाया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चाय पार्टी
चाय पार्टी
Sidhartha Mishra
जीतना अच्छा है,पर अपनों से हारने में ही मज़ा है।
जीतना अच्छा है,पर अपनों से हारने में ही मज़ा है।
अनिल कुमार निश्छल
परेशां सोच से
परेशां सोच से
Dr fauzia Naseem shad
हसरतों के गांव में
हसरतों के गांव में
Harminder Kaur
*जब हो जाता है प्यार किसी से*
*जब हो जाता है प्यार किसी से*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हम बिहार छी।
हम बिहार छी।
Acharya Rama Nand Mandal
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
अनिल कुमार
#चाह_वैभव_लिए_नित्य_चलता_रहा_रोष_बढ़ता_गया_और_मैं_ना_रहा।।
#चाह_वैभव_लिए_नित्य_चलता_रहा_रोष_बढ़ता_गया_और_मैं_ना_रहा।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
चाहत
चाहत
Dr Archana Gupta
💐अज्ञात के प्रति-81💐
💐अज्ञात के प्रति-81💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
:: English :::
:: English :::
Mr.Aksharjeet
दुनिया  की बातों में न उलझा  कीजिए,
दुनिया की बातों में न उलझा कीजिए,
करन ''केसरा''
पढ़ाकू
पढ़ाकू
Dr. Mulla Adam Ali
■ इससे ज़्यादा कुछ नहीं शायद।।
■ इससे ज़्यादा कुछ नहीं शायद।।
*Author प्रणय प्रभात*
भीड़ के साथ
भीड़ के साथ
Paras Nath Jha
चंद हाईकु
चंद हाईकु
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वास्तविकता से परिचित करा दी गई है
वास्तविकता से परिचित करा दी गई है
Keshav kishor Kumar
Loading...