Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

भावना

आग-पानी भावना इन्सान सी है
इसलिए सागर उफ़नता है हमेशा
***
देवता वो बन न पाया क्या करें
भावना में बह गया इन्सान था
***
भावना ही मिट गई तो क्या रहा
देवता पत्थर हुआ फिर टूटकर
***
भावनाओं के असर में जो रहा
अस्ल में वो ज़िन्दगी जीभर जिया
•••

2 Likes · 2 Comments · 57 Views
You may also like:
हैं सितारे खूब, सूरज दूसरा उगता नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
वक्त दर्पण दिखा दे तो अच्छा ही है।
Renuka Chauhan
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
प्रात काल की शुद्ध हवा
लक्ष्मी सिंह
ऐसी सोच क्यों ?
Deepak Kohli
बेटियां।
Taj Mohammad
क़िस्मत का सितारा।
Taj Mohammad
कौन कहता कि स्वाधीन निज देश है?
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता
रिपुदमन झा "पिनाकी"
✍️बचा लेना✍️
"अशांत" शेखर
"मातल "
DrLakshman Jha Parimal
गुरुर
Annu Gurjar
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
काफ़िर जमाना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
“ ईमानदार चोर ”
DrLakshman Jha Parimal
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अभिलाषा
Anamika Singh
ऐसे ना करें कुर्बानी हम
gurudeenverma198
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
सबको मतलब है
Dr fauzia Naseem shad
किसी का जला मकान है।
Taj Mohammad
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
बाज़ी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
मुझे तुम्हारी जरूरत नही...
Sapna K S
💐 ग़ुरूर मिट जाएगा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रेम
Dr.Priya Soni Khare
धीरे-धीरे कदम बढ़ाना
Anamika Singh
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
Loading...