Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jan 2018 · 1 min read

भारत माता तुम्हें बुलाती

वीरों की शहादत के बदले
हमने आजादी पाई थी।
बरसों अंग्रेजों का जुल्म सहा
तब हमने आजादी पाई थी।

त्राहि-त्राहि चहुं ओर मची थी
कितने मासूमों ने जान गंवाई थी।
कितने फांसी के फंदों पर झूले
कितनों ने अंग्रेजों की नींव हिलाई थी।

हम भूल गए उनकी कुर्बानी
और कहानी जुल्मों की।
स्वार्थ में अंधे होकर अब
दोहराते कहानी जुल्मों की।

ना रिश्तों में मिठास रही
ना नेकी का अब नाम रहा।
चलते सारे अपनी कुटिल चाल
बस प्यादा ही लाचार रहा।

ना देश-प्रेम की बात रही
ना गांधी वाली बात रही।
आज की युवा पीढ़ी यारो
पश्चिम की ओर ही भाग रही।

भारत माता तुम्हें बुलाती
वतन परस्ती का जानो मोल।
कहीं पश्चिमी संस्कृति की आबोहवा
पिला न दे तुम्हें अनर्गल घोल।

Language: Hindi
269 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
The unknown road.
The unknown road.
Manisha Manjari
ना होगी खता ऐसी फिर
ना होगी खता ऐसी फिर
gurudeenverma198
अकेला
अकेला
Vansh Agarwal
पैसा होय न जेब में,
पैसा होय न जेब में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सेवा-भाव उदार था, विद्यालय का मूल (कुंडलिया)
सेवा-भाव उदार था, विद्यालय का मूल (कुंडलिया)
Ravi Prakash
2753. *पूर्णिका*
2753. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कविता -
कविता - "बारिश में नहाते हैं।' आनंद शर्मा
Anand Sharma
2122 1212 22/112
2122 1212 22/112
SZUBAIR KHAN KHAN
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
मनोज कर्ण
#आदरांजलि
#आदरांजलि
*प्रणय प्रभात*
मैं खंडहर हो गया पर तुम ना मेरी याद से निकले
मैं खंडहर हो गया पर तुम ना मेरी याद से निकले
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
मेरे दिल के मन मंदिर में , आओ साईं बस जाओ मेरे साईं
मेरे दिल के मन मंदिर में , आओ साईं बस जाओ मेरे साईं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"नजीर"
Dr. Kishan tandon kranti
लोगों के साथ सामंजस्य स्थापित करना भी एक विशेष कला है,जो आपक
लोगों के साथ सामंजस्य स्थापित करना भी एक विशेष कला है,जो आपक
Paras Nath Jha
तीन बुंदेली दोहा- #किवरिया / #किवरियाँ
तीन बुंदेली दोहा- #किवरिया / #किवरियाँ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मेरे सनम
मेरे सनम
Shiv yadav
है सियासत का असर या है जमाने का चलन।
है सियासत का असर या है जमाने का चलन।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
कूड़े के ढेर में
कूड़े के ढेर में
Dr fauzia Naseem shad
छन-छन के आ रही है जो बर्गे-शजर से धूप
छन-छन के आ रही है जो बर्गे-शजर से धूप
Sarfaraz Ahmed Aasee
#करना है, मतदान हमको#
#करना है, मतदान हमको#
Dushyant Kumar
दिल की जमीं से पलकों तक, गम ना यूँ ही आया होगा।
दिल की जमीं से पलकों तक, गम ना यूँ ही आया होगा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
धुंध इतनी की खुद के
धुंध इतनी की खुद के
Atul "Krishn"
चिंतन करत मन भाग्य का
चिंतन करत मन भाग्य का
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
बारिश का मौसम
बारिश का मौसम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
कृष्णकांत गुर्जर
अन्तर्मन को झांकती ये निगाहें
अन्तर्मन को झांकती ये निगाहें
Pramila sultan
अच्छा स्वस्थ स्वच्छ विचार ही आपको आत्मनिर्भर बनाते है।
अच्छा स्वस्थ स्वच्छ विचार ही आपको आत्मनिर्भर बनाते है।
Rj Anand Prajapati
We become more honest and vocal when we are physically tired
We become more honest and vocal when we are physically tired
पूर्वार्थ
* सुन्दर फूल *
* सुन्दर फूल *
surenderpal vaidya
“ख़ामोश सा मेरे मन का शहर,
“ख़ामोश सा मेरे मन का शहर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...