Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jul 2022 · 1 min read

भारत माँ के वीर सपूत

शत्रु-दल पर टूट पड़ेंगे,
पर्वत-पर्वत विजय करेंगे।

बाधाएँ हँस पार करेंगे,
तान के सीना डटे रहेंगे।।

सौगंध हमें है माटी की,
दुश्मन को धूल चटायेंगे।

भारत माँ के वीर सपूत,
हम वन्देमातरम गायेंगे।।

रचनाकार :- कंचन खन्ना,
मुरादाबाद, (उ०प्र०, भारत)।
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार)।
दिनांक :- २२/०२/२०२२.

Language: Hindi
2 Likes · 836 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
रावण की गर्जना व संदेश
रावण की गर्जना व संदेश
Ram Krishan Rastogi
"कुछ लोगों के पाश
*Author प्रणय प्रभात*
*किले में योगाभ्यास*
*किले में योगाभ्यास*
Ravi Prakash
*** मन बावरा है....! ***
*** मन बावरा है....! ***
VEDANTA PATEL
उड़ चल रे परिंदे....
उड़ चल रे परिंदे....
जगदीश लववंशी
अखबार
अखबार
लक्ष्मी सिंह
हृदय मे भरा अंधेरा घनघोर है,
हृदय मे भरा अंधेरा घनघोर है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
लोककवि रामचरन गुप्त के रसिया और भजन
लोककवि रामचरन गुप्त के रसिया और भजन
कवि रमेशराज
" सब भाषा को प्यार करो "
DrLakshman Jha Parimal
"किताबें"
Dr. Kishan tandon kranti
था जब सच्चा मीडिया,
था जब सच्चा मीडिया,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मौत के डर से सहमी-सहमी
मौत के डर से सहमी-सहमी
VINOD CHAUHAN
बेटियां!दोपहर की झपकी सी
बेटियां!दोपहर की झपकी सी
Manu Vashistha
********* आजादी की कीमत **********
********* आजादी की कीमत **********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
3277.*पूर्णिका*
3277.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Converse with the powers
Converse with the powers
Dhriti Mishra
बचपन के दिन
बचपन के दिन
Surinder blackpen
स्त्री एक देवी है, शक्ति का प्रतीक,
स्त्री एक देवी है, शक्ति का प्रतीक,
कार्तिक नितिन शर्मा
दोस्ती
दोस्ती
Monika Verma
तू ही है साकी तू ही मैकदा पैमाना है,
तू ही है साकी तू ही मैकदा पैमाना है,
Satish Srijan
इश्क
इश्क
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
गौरेया (ताटंक छन्द)
गौरेया (ताटंक छन्द)
नाथ सोनांचली
बे-असर
बे-असर
Sameer Kaul Sagar
मैं तुलसी तेरे आँगन की
मैं तुलसी तेरे आँगन की
Shashi kala vyas
डॉ निशंक बहुआयामी व्यक्तित्व शोध लेख
डॉ निशंक बहुआयामी व्यक्तित्व शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
शांत सा जीवन
शांत सा जीवन
Dr fauzia Naseem shad
कविता: मेरी अभिलाषा- उपवन बनना चाहता हूं।
कविता: मेरी अभिलाषा- उपवन बनना चाहता हूं।
Rajesh Kumar Arjun
सत्य शुरू से अंत तक
सत्य शुरू से अंत तक
विजय कुमार अग्रवाल
💐प्रेम कौतुक-443💐
💐प्रेम कौतुक-443💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मन में किसी को उतारने से पहले अच्छी तरह
मन में किसी को उतारने से पहले अच्छी तरह
ruby kumari
Loading...