Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jan 2024 · 2 min read

भारत देश

बसा प्रकृति की गोद में,भारत देश महान।
जिसके पावन भूमि पर,जन्म लिये भगवान।।

सागर धोता है चरण, बना हिमालय ताज।
ऐसे भारत देश पर, हमे बड़ा है नाज़।।

गंगा ,जमुना,प्रेममय ,बहे सुधा की धार।
ग्रामवासिनी श्यामली,शुद्ध-बुद्ध आगार।।

मिट्टी की सोंधी महक ,कंकड़ भी अनमोल।
कई तरह की बोलियाँ,हिन्दी मीठी बोल।।

सुबह सुहानी सुरमयी,और सुहानी शाम।
जहाँ स्वर्ग-सी है धरा,सब धर्मों का धाम।।

होता सोने -सा दिवस,चाँदी जैसी रात।
जगत पिता गुरु रूप में ,रहा विश्व विख्यात।।

राष्ट्र पक्षी मयूर है,राष्ट्र पुष्प अरविन्द।
चित्रक है राष्ट्र पशु,जय भारत जय हिन्द।।

बना तिरंगा राष्ट्र ध्वज,भारत की पहचान।
तीन रंग में शोभता,आन बान औ”शान।।

त्याग तपस्या साधना,और दिलों में प्रीत।।
जनगण वन्देमातरम्,हर होठों का गीत।।

खान पान बोली अलग,रहन-सहन परिवेश।
अनेकता में एकता, ऐसा अपना देश।।

इस माटी की कोख से,जन्में वीर अनेक।
कन्या से कश्मीर तक,अपना भारत एक। ।

वंदनीय हर धर्म है, नहीं बैर विद्वेष।
अगनित नदियों का मिलना,बना तीर्थ संदेश।।

हरी-भरी हर वादियाँ,रत्नों का भंडार।
सोने की चिड़िया रही,जग का भाग्य सितार।।

“वसुधैव कुटंबुकम”है,सकल विश्व परिवार।
सदा शांति का पक्षधर, भारत बड़ा उदार।।

गौ,गीता,गंगा त्रिविध,देव तुल्य उपहार।
धन्य सुवासित भारती,सुख समृद्धि साकार।।

मात-पिता गुरु देव सम,ज्ञान-लोक के द्वार ।
“अतिथि देवो भवः”यहाँ,है सबका सत्कार।।

रचा बसा संस्कार में, संस्कृति की पहचान।
परंपराओं से बँधी,यहाँ सभी इंसान।।

रीति-रिवाजो से भरे,कई पर्व त्योहार।
उत्सव और विवाह में,मधुर मंगलाचार।।

जन्म लिये इस भूमि पर, कितने संत फकीर।
गाँधी,गौतम, जायसी,तुलसीदास,कबीर।।

जिसने पहले विश्व को,दिया शुन्य का ज्ञान।
गणित कला साहित्य में,था ऊँचा स्थान।।

वेद पुराण उपनिषदों,उद्गम अनुसंधान।
इनके हर स्त्रोत में,ज्ञान और विज्ञान।।

चरकसूत्र संजीवनी,आयुर्वेद विज्ञान।।
राजनीति चाणक्य की,जाने सकल जहान।।

भारत ने जग को दिया,श्रेष्ठ योग का ज्ञान।
गर्व शीर्ष ऊपर ऊठा,बढ़ा मान सम्मान।।

नृत्य और संगीत में,रहा अहम स्थान।
बुद्धिजीवियों से भरा,भारत देश महान।।

यहाँ सभ्यता का हुआ,सबसे प्रथम विकास।
है गौरवशाली बहुत,भारत का इतिहास। ।
-लक्ष्मी सिंह

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-139 शब्द-दांद
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-139 शब्द-दांद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जनाजे में तो हम शामिल हो गए पर उनके पदचिन्हों पर ना चलके अपन
जनाजे में तो हम शामिल हो गए पर उनके पदचिन्हों पर ना चलके अपन
DrLakshman Jha Parimal
मेरी तो धड़कनें भी
मेरी तो धड़कनें भी
हिमांशु Kulshrestha
सजी सारी अवध नगरी , सभी के मन लुभाए हैं
सजी सारी अवध नगरी , सभी के मन लुभाए हैं
Rita Singh
पंचतत्व
पंचतत्व
लक्ष्मी सिंह
होली के दिन
होली के दिन
Ghanshyam Poddar
The enchanting whistle of the train.
The enchanting whistle of the train.
Manisha Manjari
I am a little boy
I am a little boy
Rajan Sharma
23/64.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/64.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यदि सत्य बोलने के लिए राजा हरिश्चंद्र को याद किया जाता है
यदि सत्य बोलने के लिए राजा हरिश्चंद्र को याद किया जाता है
शेखर सिंह
मेरा जीवन बसर नहीं होता।
मेरा जीवन बसर नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
अस्त हुआ रवि वीत राग का /
अस्त हुआ रवि वीत राग का /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Dont worry
Dont worry
*Author प्रणय प्रभात*
नवरात्रि के आठवें दिन मां महागौरी की पूजा की जाती है और कन्य
नवरात्रि के आठवें दिन मां महागौरी की पूजा की जाती है और कन्य
Shashi kala vyas
"खरगोश"
Dr. Kishan tandon kranti
तुझे पन्नों में उतार कर
तुझे पन्नों में उतार कर
Seema gupta,Alwar
"सूर्य -- जो अस्त ही नहीं होता उसका उदय कैसे संभव है" ! .
Atul "Krishn"
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
*मै भारत देश आजाद हां*
*मै भारत देश आजाद हां*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अंतर्राष्ट्रीय जल दिवस
अंतर्राष्ट्रीय जल दिवस
डॉ.सीमा अग्रवाल
उम्र अपना
उम्र अपना
Dr fauzia Naseem shad
आँखों का कोना एक बूँद से ढँका देखा  है मैंने
आँखों का कोना एक बूँद से ढँका देखा है मैंने
शिव प्रताप लोधी
इतनी फुर्सत है कहां, जो करते हम जाप
इतनी फुर्सत है कहां, जो करते हम जाप
Suryakant Dwivedi
विडंबना
विडंबना
Shyam Sundar Subramanian
🤗🤗क्या खोजते हो दुनिता में  जब सब कुछ तेरे अन्दर है क्यों दे
🤗🤗क्या खोजते हो दुनिता में जब सब कुछ तेरे अन्दर है क्यों दे
Swati
सतत् प्रयासों से करें,
सतत् प्रयासों से करें,
sushil sarna
बदल गया जमाना🌏🙅🌐
बदल गया जमाना🌏🙅🌐
डॉ० रोहित कौशिक
जन जन में खींचतान
जन जन में खींचतान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
त्याग समर्पण न रहे, टूट ते परिवार।
त्याग समर्पण न रहे, टूट ते परिवार।
Anil chobisa
Loading...