Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 2 min read

*भव-पालक की प्यारी गैय्या कलियुग में लाचार*

माँ-सम सुत को पालती, कृषि-कृषक उद्धार|
गौ माता अन्नपूर्णा, जीवन का आधार ||

सूरज की है प्रतिनिधि, वसुओं को दे प्यार,
आदित्यों की बहना है, शिव भी नन्दी सवार,
मनवांछित फलदायिनी, धरा पे यह उपकार|
गौ माता अन्नपूर्णा………

भृगु ने द्विज को दान दिया, कामधेनु है नाम,
विष्णु किये गोपाला होकर गो-सेवा के काम,
गो-सेवा तन मन से हो, हो वैतरणी पार |
गौ माता अन्नपूर्णा………

मलशोधक, अणुरोधक गोबर, है कमला का वास,
गौमूत्र दे आरोग्य, धनवंतरी करें निवास,
ब्रह्मा विराजे कूबड़ में, गौ-स्पर्श है देव-द्वार|
गौ माता अन्नपूर्णा………

चन्द्रकिरण अवशोषित करती, स्वर्ण-तत्व दे रोग-निदान,
कर ग्रहण तारों की किरणें, ऊर्जित करती वर्तमान,
गौ-घृत से यदि हो हवन, हो प्राण-वायु संचार |
गौ माता अन्नपूर्णा………

घास-फूस खाकर भी माता, मधुमय दूध का देती दान,
कण-कण रक्त का पोषित कर हमको करती है बलवान,
शुचि-संवेदन, शील-स्रोत, दुग्ध ज्यों अमृत की धार|
गौ माता अन्नपूर्णा………

हरि अनंत, हरि-कथा अनंता, सो गौरस-व्याख्यान,
करते-करते न थकें फिर भी हम अपमान,
एक दृष्टि डालें अगर, मिल जाता है सार|
गौ माता अन्नपूर्णा………

वध निर्दयी कुछ करते जाते, कटती जाती गाय,
कामधेनु है कहलाती , फिर भी बच नहि पाय,
सूफ़ी-संत-सियाने भक्तों की सुनते नहीं गुहार|
गौ माता अन्नपूर्णा………

गौवंश अपना विशिष्ट, पश्चिम टिक नहिं पाय,
फिर काहे को गऊ अपनी, उपेक्षित-अनाथ रह जाय?
दुर्दिन कब तक झेलती, चहूँ ओर अँधियार?
गौ माता अन्नपूर्णा………

आर्तनाद न सुनता कोई, स्वार्थ सदा ललचाय,
ज़िंदा में ही फँसा के काँटा, खाल रहे नुचवाय|
वैदिक संस्कृति की प्रतीक, अब कहाँ गए संस्कार?
गौ माता अन्नपूर्णा………

भटके गली-गली ये मारी, घर-घर दुत्कारी जाय,
घुट-घुट जाएँ साँसें इसकी, पन्नी-प्लास्टिक खाय,
ऐंठन लगे उदर जब इसका, कहाँ मिले उपचार?
गौ माता अन्नपूर्णा………

टेम्पों में रेवड़-सी भरकर भेजी, छोड़ी जाए ,
साफ़-सफाई इन्हें है प्यारी गंद तनिक न सुहाय|
भव-पालक की प्यारी गैय्या कलियुग में लाचार!
गौ माता अन्नपूर्णा………

अंग्रेज़ों की नीति को अब तक समझ न पाय,
अर्थतंत्र की रीढ़ को, जाते क्यों चटकाय?
अब तो जागो भारतवासी, गैय्या रही पुकार!
गौ माता अन्नपूर्णा, जीवन का आधार

3 Likes · 1166 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Poonam Matia
View all
You may also like:
आजकल
आजकल
Munish Bhatia
लिखना चाहूँ  अपनी बातें ,  कोई नहीं इसको पढ़ता है ! बातें कह
लिखना चाहूँ अपनी बातें , कोई नहीं इसको पढ़ता है ! बातें कह
DrLakshman Jha Parimal
मोबाइल
मोबाइल
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
मौन सभी
मौन सभी
sushil sarna
"You are still here, despite it all. You are still fighting
पूर्वार्थ
2317.पूर्णिका
2317.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रंग ही रंगमंच के किरदार है
रंग ही रंगमंच के किरदार है
Neeraj Agarwal
मेरे पिता मेरा भगवान
मेरे पिता मेरा भगवान
Nanki Patre
भारत के लाल को भारत रत्न
भारत के लाल को भारत रत्न
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बेतरतीब
बेतरतीब
Dr. Kishan tandon kranti
हाल मियां।
हाल मियां।
Acharya Rama Nand Mandal
भाग्य
भाग्य
Sarla Sarla Singh "Snigdha "
, गुज़रा इक ज़माना
, गुज़रा इक ज़माना
Surinder blackpen
जो भक्त महादेव का,
जो भक्त महादेव का,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Memories
Memories
Sampada
मुझको बे'चैनियाँ जगा बैठी
मुझको बे'चैनियाँ जगा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
नवगीत : अरे, ये किसने गाया गान
नवगीत : अरे, ये किसने गाया गान
Sushila joshi
कहती जो तू प्यार से
कहती जो तू प्यार से
The_dk_poetry
यात्राओं से अर्जित अनुभव ही एक लेखक की कलम की शब्द शक्ति , व
यात्राओं से अर्जित अनुभव ही एक लेखक की कलम की शब्द शक्ति , व
Shravan singh
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पापा के वह शब्द..
पापा के वह शब्द..
Harminder Kaur
फिर से तन्हा ek gazal by Vinit Singh Shayar
फिर से तन्हा ek gazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
एक सरकारी सेवक की बेमिसाल कर्मठता / MUSAFIR BAITHA
एक सरकारी सेवक की बेमिसाल कर्मठता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
अच्छा नहीं होता बे मतलब का जीना।
अच्छा नहीं होता बे मतलब का जीना।
Taj Mohammad
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## आते रदीफ़ ## रहे
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## आते रदीफ़ ## रहे
Neelam Sharma
चलती है जिंदगी
चलती है जिंदगी
डॉ. शिव लहरी
इश्क चख लिया था गलती से
इश्क चख लिया था गलती से
हिमांशु Kulshrestha
आजा आजा रे कारी बदरिया
आजा आजा रे कारी बदरिया
Indu Singh
🙅चुनावी साल🙅
🙅चुनावी साल🙅
*Author प्रणय प्रभात*
* सहारा चाहिए *
* सहारा चाहिए *
surenderpal vaidya
Loading...