Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jun 2023 · 1 min read

भले वो चाँद के जैसा नही है।

भले वो चाँद के जैसा नही है।
मगर वो चाँद से भी कम नही नही है।
✍️ शाह आलम हिंदुस्तानी

258 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपने-अपने काम का, पीट रहे सब ढोल।
अपने-अपने काम का, पीट रहे सब ढोल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
गायें गौरव गान
गायें गौरव गान
surenderpal vaidya
आज बगिया में था सम्मेलन
आज बगिया में था सम्मेलन
VINOD CHAUHAN
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
कभी जिस पर मेरी सारी पतंगें ही लटकती थी
कभी जिस पर मेरी सारी पतंगें ही लटकती थी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
2986.*पूर्णिका*
2986.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
🙏 गुरु चरणों की धूल 🙏
🙏 गुरु चरणों की धूल 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
// दोहा पहेली //
// दोहा पहेली //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अभी तो रास्ता शुरू हुआ है।
अभी तो रास्ता शुरू हुआ है।
Ujjwal kumar
लम्हें हसीन हो जाए जिनसे
लम्हें हसीन हो जाए जिनसे
शिव प्रताप लोधी
कोई तंकीद
कोई तंकीद
Dr fauzia Naseem shad
"ये बात बाद की है,
*Author प्रणय प्रभात*
समय और मौसम सदा ही बदलते रहते हैं।इसलिए स्वयं को भी बदलने की
समय और मौसम सदा ही बदलते रहते हैं।इसलिए स्वयं को भी बदलने की
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
from under tony's bed - I think she must be traveling
from under tony's bed - I think she must be traveling
Desert fellow Rakesh
कभी कभी ज़िंदगी में जैसे आप देखना चाहते आप इंसान को वैसे हीं
कभी कभी ज़िंदगी में जैसे आप देखना चाहते आप इंसान को वैसे हीं
पूर्वार्थ
छोटी-सी बात यदि समझ में आ गयी,
छोटी-सी बात यदि समझ में आ गयी,
Buddha Prakash
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
तुम्हें तो फुर्सत मिलती ही नहीं है,
तुम्हें तो फुर्सत मिलती ही नहीं है,
Dr. Man Mohan Krishna
ज़माने की नजर से।
ज़माने की नजर से।
Taj Mohammad
भारत की पुकार
भारत की पुकार
पंकज प्रियम
महिला दिवस
महिला दिवस
Surinder blackpen
"पहले मुझे लगता था कि मैं बिका नही इसलिए सस्ता हूँ
दुष्यन्त 'बाबा'
बताता कहां
बताता कहां
umesh mehra
कुंडलिया छंद *
कुंडलिया छंद *
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
केशव
केशव
Dinesh Kumar Gangwar
कुछ तो बात है मेरे यार में...!
कुछ तो बात है मेरे यार में...!
Srishty Bansal
आज बहुत याद करता हूँ ।
आज बहुत याद करता हूँ ।
Nishant prakhar
अच्छा कार्य करने वाला
अच्छा कार्य करने वाला
नेताम आर सी
नया ट्रैफिक-प्लान (बाल कविता)
नया ट्रैफिक-प्लान (बाल कविता)
Ravi Prakash
समंदर
समंदर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...