Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Aug 2023 · 1 min read

भरत

राम समर्पित रहे अवध में,
अवध सपर्पित राम था।
भरत अवध में रामसेतु थे,
फिर बना अयोध्या धाम था।।
हरपल रघकुल जिया राम को,
पूरे चौदह सालों तक।
हुए व्रती सब राजमहल में,
सियराम के आने तक।।
सिय लखन संग वन में,
अगर राम वनवासी थे।
पाकर रघुकुल जैसी सत्ता,
भरत लाल संन्यासी थे।।

Language: Hindi
1 Like · 114 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बहना तू सबला बन 🙏🙏
बहना तू सबला बन 🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मैं तो महज चुनौती हूँ
मैं तो महज चुनौती हूँ
VINOD CHAUHAN
हिंदी मेरी राष्ट्र की भाषा जग में सबसे न्यारी है
हिंदी मेरी राष्ट्र की भाषा जग में सबसे न्यारी है
SHAMA PARVEEN
जहाँ बचा हुआ है अपना इतिहास।
जहाँ बचा हुआ है अपना इतिहास।
Buddha Prakash
जाने कैसे आँख की,
जाने कैसे आँख की,
sushil sarna
पहला खत
पहला खत
Mamta Rani
*मैं वर्तमान की नारी हूं।*
*मैं वर्तमान की नारी हूं।*
Dushyant Kumar
****बहता मन****
****बहता मन****
Kavita Chouhan
चन्द्रयान अभियान
चन्द्रयान अभियान
surenderpal vaidya
*अहंकार *
*अहंकार *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हम वीर हैं उस धारा के,
हम वीर हैं उस धारा के,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
माँ आओ मेरे द्वार
माँ आओ मेरे द्वार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हर जगह मुहब्बत
हर जगह मुहब्बत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मुस्कानों की परिभाषाएँ
मुस्कानों की परिभाषाएँ
Shyam Tiwari
तुमको खोकर इस तरहां यहाँ
तुमको खोकर इस तरहां यहाँ
gurudeenverma198
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
Er. Sanjay Shrivastava
समझ ना आया
समझ ना आया
Dinesh Kumar Gangwar
हिन्द की भाषा
हिन्द की भाषा
Sandeep Pande
मां वो जो नौ माह कोख में रखती और पालती है।
मां वो जो नौ माह कोख में रखती और पालती है।
शेखर सिंह
"आँखें"
Dr. Kishan tandon kranti
*दिन गए चिट्ठियों के जमाने गए (हिंदी गजल)*
*दिन गए चिट्ठियों के जमाने गए (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
यूँ इतरा के चलना.....
यूँ इतरा के चलना.....
Prakash Chandra
सुख दुःख मनुष्य का मानस पुत्र।
सुख दुःख मनुष्य का मानस पुत्र।
लक्ष्मी सिंह
सोशल मीडिया
सोशल मीडिया
Raju Gajbhiye
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तेरे बिन घर जैसे एक मकां बन जाता है
तेरे बिन घर जैसे एक मकां बन जाता है
Bhupendra Rawat
वक़्त सितम इस तरह, ढा रहा है आजकल,
वक़्त सितम इस तरह, ढा रहा है आजकल,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
वर्षों पहले लिखी चार पंक्तियां
वर्षों पहले लिखी चार पंक्तियां
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
3412⚘ *पूर्णिका* ⚘
3412⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
Loading...