Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2022 · 1 min read

भगतसिंह की जेल डायरी

इंकलाब लिखा!
बगावत लिखी!!
पूरी शिद्दत से
हिमाकत लिखी!!
मैंने बिना किसी
लाग-लपेट के!
इंसाफ़, हक़ और
सदाकत लिखी!!
#क्रांतिकारी #Revolution #जनवादी
#महंगाई #बेरोजगारी #आदिवासी
#दलित #औरत #जातिवाद #विद्रोही
#सांप्रदायिकता #मीडिया #Rebel

Language: Hindi
1 Like · 140 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जो उमेश हैं, जो महेश हैं, वे ही हैं भोले शंकर
जो उमेश हैं, जो महेश हैं, वे ही हैं भोले शंकर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
वक्त
वक्त
Shyam Sundar Subramanian
*ख़ुशी की बछिया* ( 15 of 25 )
*ख़ुशी की बछिया* ( 15 of 25 )
Kshma Urmila
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
कवि दीपक बवेजा
ନୀରବତାର ବାର୍ତ୍ତା
ନୀରବତାର ବାର୍ତ୍ତା
Bidyadhar Mantry
निकला वीर पहाड़ चीर💐
निकला वीर पहाड़ चीर💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"देखना हो तो"
Dr. Kishan tandon kranti
आजकल सबसे जल्दी कोई चीज टूटती है!
आजकल सबसे जल्दी कोई चीज टूटती है!
उमेश बैरवा
Let your thoughts
Let your thoughts
Dhriti Mishra
अपने ज्ञान को दबा कर पैसा कमाना नौकरी कहलाता है!
अपने ज्ञान को दबा कर पैसा कमाना नौकरी कहलाता है!
Suraj kushwaha
अपनी नज़र में सही रहना है
अपनी नज़र में सही रहना है
Sonam Puneet Dubey
जिंदगी
जिंदगी
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
3520.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3520.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Seema Garg
आओ एक गीत लिखते है।
आओ एक गीत लिखते है।
PRATIK JANGID
बहुत जरूरी है एक शीतल छाया
बहुत जरूरी है एक शीतल छाया
Pratibha Pandey
झुकना होगा
झुकना होगा
भरत कुमार सोलंकी
"जीवन का सच्चा सुख"
Ajit Kumar "Karn"
योगा मैट
योगा मैट
पारुल अरोड़ा
इंसान
इंसान
Vandna thakur
जिंदगी का सफर
जिंदगी का सफर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
There will be moments in your life when people will ask you,
There will be moments in your life when people will ask you,
पूर्वार्थ
दशहरा पर्व पर कुछ दोहे :
दशहरा पर्व पर कुछ दोहे :
sushil sarna
जरूरत पड़ने पर बहाना और बुरे वक्त में ताना,
जरूरत पड़ने पर बहाना और बुरे वक्त में ताना,
Ranjeet kumar patre
"" *श्रीमद्भगवद्गीता* ""
सुनीलानंद महंत
,,,,,
,,,,,
शेखर सिंह
नदी का किनारा ।
नदी का किनारा ।
Kuldeep mishra (KD)
मनुष्य को
मनुष्य को
ओंकार मिश्र
■ मनोरोग का क्या उपचार...?
■ मनोरोग का क्या उपचार...?
*प्रणय प्रभात*
पेड़ से इक दरख़ास्त है,
पेड़ से इक दरख़ास्त है,
Aarti sirsat
Loading...