Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Mar 2024 · 1 min read

भक्ति एक रूप अनेक

डॉ अरूण कुमार शास्त्री
मित्रो आज आपको हम भक्ति के भिन्न भिन्न स्वरुप के विषय में जानकारी देते हैं।
” भक्ति एक रूप अनेक ”
1 भक्ति जब भूख के साथ संसर्ग आती है तो वह
व्रत बन जाती है।
2 भक्ति जब जल क्षुधा प्यास के साथ संसर्ग आती है तो वह चरणामृत बन जाती है।
3 भक्ति जब कार्य के साथ संसर्ग आती है तो वह
कर्म बन जाती है।
4 भक्ति जब नाच के साथ संसर्ग आती है तो वह
नृत्य बन जाती है।
5 भक्ति जब शिक्षा साथ संसर्ग आती है तो वह
अध्यन बन जाती है।
6 भक्ति जब व्यवहार के साथ संसर्ग आती है तो वह
रिश्ता बन जाती है।
7 भक्ति जब दोस्ती मित्र के साथ संसर्ग आती है तो वह
प्रेम बन जाती है।
8 भक्ति जब वायु के साथ संसर्ग आती है तो वह
सुगंध बन जाती है।
9 भक्ति जब गायन के साथ संसर्ग आती है तो वह
कीर्तन बन जाती है।
10 मित्रों और अंत में भक्ति जब व्यक्ति के साथ संसर्ग आती है तो वह
मानवीय ऊर्जा बन जाती है।
और यही मानवीय संवेदना ऊर्जा जब निराकार के संसर्ग में समर्पित होती है तो आनन्द ही आनन्द होता है फिर अभी दुःख कष्ट उस परम आत्मा में तिरोहित हो जाते हैं।

Language: Hindi
Tag: लेख
73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
आज के माहौल में
आज के माहौल में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हर सांस की गिनती तय है - रूख़सती का भी दिन पहले से है मुक़र्रर
हर सांस की गिनती तय है - रूख़सती का भी दिन पहले से है मुक़र्रर
Atul "Krishn"
*पिता का प्यार*
*पिता का प्यार*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
* जिसने किए प्रयास *
* जिसने किए प्रयास *
surenderpal vaidya
प्रेम
प्रेम
Bodhisatva kastooriya
मानसिक शान्ति के मूल्य पर अगर आप कोई बहुमूल्य चीज भी प्राप्त
मानसिक शान्ति के मूल्य पर अगर आप कोई बहुमूल्य चीज भी प्राप्त
Paras Nath Jha
श्री शूलपाणि
श्री शूलपाणि
Vivek saswat Shukla
वापस
वापस
Harish Srivastava
■ आज का विचार...
■ आज का विचार...
*Author प्रणय प्रभात*
शब्द और अर्थ समझकर हम सभी कहते हैं
शब्द और अर्थ समझकर हम सभी कहते हैं
Neeraj Agarwal
आपन गांव
आपन गांव
अनिल "आदर्श"
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
हम जैसे बरबाद ही,
हम जैसे बरबाद ही,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नयी - नयी लत लगी है तेरी
नयी - नयी लत लगी है तेरी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
गांव की गौरी
गांव की गौरी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
2347.पूर्णिका
2347.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
इक रोज़ मैं सोया था,
इक रोज़ मैं सोया था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जी20
जी20
लक्ष्मी सिंह
कांटा
कांटा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आप कभी 15% मनुवादी सोच को समझ ही नहीं पाए
आप कभी 15% मनुवादी सोच को समझ ही नहीं पाए
शेखर सिंह
लौट कर न आएगा
लौट कर न आएगा
Dr fauzia Naseem shad
चाँद
चाँद
Vandna Thakur
आदम का आदमी
आदम का आदमी
आनन्द मिश्र
तस्मात् योगी भवार्जुन
तस्मात् योगी भवार्जुन
सुनीलानंद महंत
दुनिया जमाने में
दुनिया जमाने में
manjula chauhan
डिप्रेशन का माप
डिप्रेशन का माप
Dr. Kishan tandon kranti
*जाति मुक्ति रचना प्रतियोगिता 28 जनवरी 2007*
*जाति मुक्ति रचना प्रतियोगिता 28 जनवरी 2007*
Ravi Prakash
.
.
NiYa
हिंदी दिवस की बधाई
हिंदी दिवस की बधाई
Rajni kapoor
शासन अपनी दुर्बलताएँ सदा छिपाता।
शासन अपनी दुर्बलताएँ सदा छिपाता।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...