Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 1 min read

बड़ा होने में

आदमी जितना बड़ा होता है
उतना बड़ा सहता है नुकशान भी
उतनी बड़ी उससे होती हैं गलतियाँ भी
सहता है उतनी बड़ी तल्खियां भी ,

विशाल पेड़ को धराशायी करने को
तत्पर रहती हैं आंधियां
विशाल नदियाँ बाँधी जाती
अनेक किनारों से ,पुलों से ,महानगरों से
विशाल पर्वत ज्वालामुखी से ,हिमपात से
राह बनाने में चीरे जाते उसके सीने .

बड़ा आदमी बड़ी गलतियां भी करता है
उसका खामियाजा भुगतता है
लग जाता है उसमे दाग ,ग्रहण
जिसे ढोता है अक्सर जीवन भर
मगर करता नहीं इसकी परवाह
वह देखता है समुद्र अथाह
छलांग लगाने के लिए
विस्तृत आकाश उड़ान भरने के लिए
जनमानस के अविरल आंसू सोखने के लिए
वह आगे देखता है सदैव
लिखता है अपना भाग्य स्वयं
बनाता है अपने हाथों को भगवान्
निर्जीव को भी प्राणवान .*

**********************

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 489 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जी लगाकर ही सदा
जी लगाकर ही सदा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आँखों   पर   ऐनक   चढ़ा   है, और  बुद्धि  कुंद  है।
आँखों पर ऐनक चढ़ा है, और बुद्धि कुंद है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हर कसौटी पर उसकी मैं खरा उतर जाऊं.........
हर कसौटी पर उसकी मैं खरा उतर जाऊं.........
कवि दीपक बवेजा
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
*** चल अकेला.......!!! ***
*** चल अकेला.......!!! ***
VEDANTA PATEL
प्रशांत सोलंकी
प्रशांत सोलंकी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कोरे कागज़ पर लिखें अक्षर,
कोरे कागज़ पर लिखें अक्षर,
अनिल अहिरवार"अबीर"
Good morning
Good morning
Neeraj Agarwal
आलाप
आलाप
Punam Pande
आजादी..
आजादी..
Harminder Kaur
#लघुकथा / #बेरहमी
#लघुकथा / #बेरहमी
*Author प्रणय प्रभात*
"When the storms of life come crashing down, we cannot contr
Manisha Manjari
💐प्रेम कौतुक-378💐
💐प्रेम कौतुक-378💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आंसूओं की नहीं
आंसूओं की नहीं
Dr fauzia Naseem shad
2697.*पूर्णिका*
2697.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दिन और रात-दो चरित्र
दिन और रात-दो चरित्र
Suryakant Dwivedi
शौक या मजबूरी
शौक या मजबूरी
संजय कुमार संजू
बेटा
बेटा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बम बम भोले
बम बम भोले
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
पुराने पन्नों पे, क़लम से
पुराने पन्नों पे, क़लम से
The_dk_poetry
" लज्जित आंखें "
Dr Meenu Poonia
'तिमिर पर ज्योति'🪔🪔
'तिमिर पर ज्योति'🪔🪔
पंकज कुमार कर्ण
ये तनहाई
ये तनहाई
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
goutam shaw
असफल कवि
असफल कवि
Shekhar Chandra Mitra
ਚੇਤੇ ਆਉਂਦੇ ਲੋਕ
ਚੇਤੇ ਆਉਂਦੇ ਲੋਕ
Surinder blackpen
दूध-जले मुख से बिना फूंक फूंक के कही गयी फूहड़ बात! / MUSAFIR BAITHA
दूध-जले मुख से बिना फूंक फूंक के कही गयी फूहड़ बात! / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
शब्द
शब्द
ओंकार मिश्र
बारिश की बूंदों ने।
बारिश की बूंदों ने।
Taj Mohammad
*यह कहता चाँद पूनम का, गुरू के रंग में डूबो (मुक्तक)*
*यह कहता चाँद पूनम का, गुरू के रंग में डूबो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
Loading...