Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 1 min read

बड़ा होने में

आदमी जितना बड़ा होता है
उतना बड़ा सहता है नुकशान भी
उतनी बड़ी उससे होती हैं गलतियाँ भी
सहता है उतनी बड़ी तल्खियां भी ,

विशाल पेड़ को धराशायी करने को
तत्पर रहती हैं आंधियां
विशाल नदियाँ बाँधी जाती
अनेक किनारों से ,पुलों से ,महानगरों से
विशाल पर्वत ज्वालामुखी से ,हिमपात से
राह बनाने में चीरे जाते उसके सीने .

बड़ा आदमी बड़ी गलतियां भी करता है
उसका खामियाजा भुगतता है
लग जाता है उसमे दाग ,ग्रहण
जिसे ढोता है अक्सर जीवन भर
मगर करता नहीं इसकी परवाह
वह देखता है समुद्र अथाह
छलांग लगाने के लिए
विस्तृत आकाश उड़ान भरने के लिए
जनमानस के अविरल आंसू सोखने के लिए
वह आगे देखता है सदैव
लिखता है अपना भाग्य स्वयं
बनाता है अपने हाथों को भगवान्
निर्जीव को भी प्राणवान .*

**********************

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 1 Comment · 360 Views
You may also like:
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नील छंद "विरहणी"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
लिपि सभक उद्भव आओर विकास
श्रीहर्ष आचार्य
वफा और बेवफा
Anamika Singh
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
✍️और शिद्दते बढ़ गयी है...
'अशांत' शेखर
नहीं चाहता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
नया पड़ाव।
Kanchan sarda Malu
A Departed Soul Can Never Come Again
Manisha Manjari
बरगद का पेड़
Manu Vashistha
पिता
Santoshi devi
आद्य पत्रकार हैं नारद जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जीवन मेला
DESH RAJ
"ऐनक मित्र"
Dr Meenu Poonia
वो चुप सी दीवारें
Kavita Chouhan
चाँद पर खाक डालने से क्या होगा
shabina. Naaz
एक दिन तू भी।
Taj Mohammad
आस्तीक भाग-एक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दर्द को मायूस करना चाहता हूँ
Sanjay Narayan
ब्राउनी (पिटबुल डॉग) की पीड़ा
ओनिका सेतिया 'अनु '
पैसा
Kanchan Khanna
ज़रूरत पर हो
Dr fauzia Naseem shad
जय-जय भारत!
अनिल मिश्र
शत-शत नमन श्री केदारनाथ यजुर्वेदी "घट"
Ravi Prakash
विपक्ष की लापरवाही
Shekhar Chandra Mitra
ए'तिराफ़-ए-'अहद-ए-वफ़ा
Shyam Sundar Subramanian
हरा जगत में फैलता, सिमटे केसर रंग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
परिवार दिवस
Dr Archana Gupta
★ हिन्दू हूं मैं हिन्दी से ही मेरी पहचान है।...
★ IPS KAMAL THAKUR ★
प्रेम
Rashmi Sanjay
Loading...