Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2016 · 1 min read

बड़ा हाथ (लघु कथा)

बड़ा हाथ
*******

.….आइये बाबू जी आइये। ये लीजिये सवा पांच रुपये का प्रसाद पैक करके रखा है आपके लिए। आपको दूर से ही देख लिया था ना ! इसलिए पहले ही पैक करके रख दिया ! मन्दिर के सामने लगे प्रसाद के खुमचे पर बैठी महिला ने उससे कहा ।

…..अरे आज सवा पांच का नहीं … एक सौ इक्यावन का प्रसाद पैक कर दो .. ये लो दो सौ रुपये।

…..अच्छी बात बाबू जी। ये लीजिये बाँकी के पैसे।

…..अरे रहने दो ! तुम रख लो।

…. लगता है बाबू जी ने आज कहीं बड़ा हाथ मार लिया है। जुग–जुग जियो बाबू जी।
भगवान आपको रोज बड़ा हाथ मारने का मौक़ा दे।

…. और बाबू जी प्रसाद लेकर मुस्कुराते हुए मंदिर की तरफ बढ़ गये.

**********************************************
हरीश चन्द्र लोहुमी
**********************************************

Language: Hindi
2 Comments · 493 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सफलता
सफलता
Paras Nath Jha
"मन"
Dr. Kishan tandon kranti
किसी के साथ दोस्ती करना और दोस्ती को निभाना, किसी से मुस्कुर
किसी के साथ दोस्ती करना और दोस्ती को निभाना, किसी से मुस्कुर
Anand Kumar
खिड़की खुले जो तेरे आशियाने की तुझे मेरा दीदार हो जाए,
खिड़की खुले जो तेरे आशियाने की तुझे मेरा दीदार हो जाए,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
#तार्किक_तथ्य
#तार्किक_तथ्य
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-203💐
💐प्रेम कौतुक-203💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
होली -रमजान ,दीवाली
होली -रमजान ,दीवाली
DrLakshman Jha Parimal
🥀 *अज्ञानी की✍*🥀
🥀 *अज्ञानी की✍*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
फोन नंबर
फोन नंबर
पूर्वार्थ
प्रिय विरह - २
प्रिय विरह - २
लक्ष्मी सिंह
Heart Wishes For The Wave.
Heart Wishes For The Wave.
Manisha Manjari
सिर घमंडी का नीचे झुका रह गया।
सिर घमंडी का नीचे झुका रह गया।
सत्य कुमार प्रेमी
24/226. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/226. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हट जा हट जा भाल से रेखा
हट जा हट जा भाल से रेखा
Suryakant Dwivedi
लव मैरिजvsअरेंज मैरिज
लव मैरिजvsअरेंज मैरिज
Satish Srijan
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
Harminder Kaur
इस मुस्कुराते चेहरे की सुर्ख रंगत पर न जा,
इस मुस्कुराते चेहरे की सुर्ख रंगत पर न जा,
डी. के. निवातिया
जीवन मर्म
जीवन मर्म
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
पिता !
पिता !
Kuldeep mishra (KD)
तुम वादा करो, मैं निभाता हूँ।
तुम वादा करो, मैं निभाता हूँ।
अजहर अली (An Explorer of Life)
International Camel Year
International Camel Year
Tushar Jagawat
चलो अब गांवों की ओर
चलो अब गांवों की ओर
Ram Krishan Rastogi
चन्द्रयान 3
चन्द्रयान 3
Neha
किंकर्तव्यविमूढ़
किंकर्तव्यविमूढ़
Shyam Sundar Subramanian
आलेख - प्रेम क्या है?
आलेख - प्रेम क्या है?
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
अपनी तस्वीर
अपनी तस्वीर
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी में जो मिला सब, सिर्फ खोने के लिए(हिंदी गजल गीतिका)
जिंदगी में जो मिला सब, सिर्फ खोने के लिए(हिंदी गजल गीतिका)
Ravi Prakash
ठहर जा, एक पल ठहर, उठ नहीं अपघात कर।
ठहर जा, एक पल ठहर, उठ नहीं अपघात कर।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जनवरी हमें सपने दिखाती है
जनवरी हमें सपने दिखाती है
Ranjeet kumar patre
मुक्ति मिली सारंग से,
मुक्ति मिली सारंग से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...